World Tourism Day : हर देश के लिए पर्यटन आर्थिक समृद्धि की कुंजी -

World Tourism Day : हर देश के लिए पर्यटन आर्थिक समृद्धि की कुंजी

World Tourism Day: Tourism is the key to economic prosperity for every country

World Tourism Day

World Tourism Day : वैश्विक स्तर पर कोविड महामारी के चलते जबरदस्त प्रभावित क्षेत्रों में से एक पर्यटन उद्योग की भी शुमार थी या यूं कहें कि सबसे अधिक मार इस उद्योग द्वारा झेली गई और अभी तक उबर नहीं पाए हैं, क्योंकि कफ्र्यू और बंद के चलते करीब करीब दो वर्ष होते आ रहे हैं पर्यटन उद्योग के जीरो के चलते अब सामर्थयता की ओर धीरे-धीरे कदम बढ़ रहे हैं। हर देश के लिए पर्यटन एक सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक समृद्धि की कुंजी है जिसके आधार पर देश विदेश में एक-दूसरे को जानने सामाजिक सद्भाव रोजगार और अर्थव्यवस्था को सकारात्मक गति मिलती है।

इसलिए भारत में 19 अप्रैल 2022 को भारतीय राजपत्र में राष्ट्रीय डिजिटल पर्यटन मिशन का की अधिसूचना जारी की और भारतीय संस्कृति, पर्यटन, विरासत, अतिथि देवो भव के साथ अर्थव्यवस्था चक्र में महत्वपूर्ण योगदान, पर्यटन संबंधी रूपरेखा जारी की। चूंकि 27 सितंबर 2022 को हम विश्व पर्यटन दिवस मना रहे हैं इसलिए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सहयोग से आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से पर्यटन पर चर्चा करेंगे।

साथियों बात अगर हम पर्यटन की करें तो, पर्यटन मनुष्य की सबसे आदिम प्रवृत्ति है। अपने घर, परिवेश, समाज से बाहर जाकर दूसरे मानवीय वातावरणों के बारे में जानने की जिज्ञासा रखना ही पर्यटन का मूल है और हमारे इतिहास का निर्माण जिन अकल्पनीय खोजों से हुआ है उनमें से ज़्यादातर, जैसे नए देशों-द्वीपों-महाद्वीपों का खोजा जाना और उनके मध्य संस्कृति और व्यापार के परस्पर लेन-देन, पर्यटन के बिना संभव ही नहीं थीं। स्पेन के मैड्रिड में स्थित संयुक्त राष्ट्र संघ की एक महत्वपूर्ण संस्था विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) दुनियाभर में होने वाले पर्यटन के मामलों की निगरानी करती है और उसके लिए मानक और दिशानिर्देश तय करती है।

उसके चार्टर में पर्यटन की यह परिभाषा लिखी हुई है, पर्यटन एक सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक प्रक्रिया है जिसके अंतर्गत लोगों द्वारा व्यक्तिगत अथवा व्यावसायिक कारणों से अपने रोज़मर्रा परिवेश के बाहर दूसरे देशों अथवा स्थानों में आवागमन किया जाता है, इन लोगों को पर्यटक कहा जाता है और पर्यटन का सरोकार उनकी गतिविधियों से है, जिनमें से कुछ के भीतर पर्यटन संबंधी व्यय शामिल होता है। ट्रैवल और टूरिज्म में करियर के कुछ शीर्ष अवसर ट्रैवल एजेंट, होटल मैनेजर, एसपीए मैनेजर, टूर ऑपरेटर, इवेंट ऑर्गनाइजऱ, टूर गाइड, एग्जीक्यूटिव शेफ , पीआर मैनेजर आदि हैं।

साथियों बात अगर हम पर्यटन की बदलती परिभाषा की करें तो, इस परिभाषा को ग़ौर से पढ़ें तो पर्यटन के पहले दो सरोकार मनुष्य सभ्यता के दो सबसे बड़े अवयवों, समाज और संस्कृति हैं, अर्थव्यवस्था का नंबर इन दोनों के बाद आता है, पिछले पचास वर्षों में अंतरराष्ट्रीय पैमाने पर जिस तेज़ी से पर्यटन की प्रवृत्ति बढ़ी है, उसके परिप्रेक्ष्य में उसकी आधुनिक अवधारणा में अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे उसका सबसे पहला सरोकार बनती चली गयी है। यह एक बड़ी विडम्बना है जिसके चलते सामाजिकता और संस्कृति को पाश्र्व धकेल कर संसार की सबसे सुन्दर जगहों और समाजों को आर्थिक लाभ हासिल करने की वस्तु भर बना दिया गया है।

साथियों बात अगर हम पर्यटन के प्रकारों की करें तो आदि अनादि काल से मनीषियों की विचारधारा वैचारिक सोच अलग-अलग रही है इसलिए अनेक क्षेत्रों सहित पर्यटन में भी हर वर्ग कुछ अलग देखना घूमना चाहता है इसलिए हम अनेक प्रकारों में विभाजित कर सकते हैं मनोरंजनात्मक पर्यटन, प्राय मनोरंजन गतिविधियों के उद्देश्य से किया जाता है।

अधिकांश पर्यटन माहौल में परिवर्तन एवं आराम के लिए किया जाता है, यही कारण है कि पैकेज टूर अधिक लोकप्रिय हो गए हैं। पर्यावरणीय पर्यटन, धनी और समृद्धशाली पर्यटक ऐसे सुदूरवर्ती स्थानों की यात्रा को अधिक प्राथमिकता देते हैं, जहां उन्हें साँस लेने के लिए प्रदूषण मुक्त वायु प्राप्त हो ऐतिहासिक पर्यटन, पर्यटक यह जानने में रूचि रखते हैं कि हमारे पूर्वज किस प्रकार किसी विशेष क्षेत्र में रहते थे एवं उसे प्रशासित करते थे।

अत: वे विरासत स्थलों, मंदिरों, चर्चा, संग्रहालयों, किलों आदि की यात्रा करते हैं। विरासत विशेष पर्यटन यह उन लोगों के पर्यटन को संदर्भित करता है जो अपने मूल से जुडऩे और पारिवारिक दायित्वों को पूरा करने के लिए दूरस्थ स्थानों की यात्रा करते हैं। विवाह और मृत्यु के समय लोग अपने पैतृक स्थानों पर एक साथ एकत्रित होते हैं। ऐसे व्यक्ति जो अपने शेष जीवन के लिए विदेश में बसे होते हैं जब अपने जन्म स्थान की यात्रा करते हैं तो वे ऐसे पर्यटन को बढ़ावा देते हैं।

सांस्कृतिक पर्यटन – कुछ लोग यह जानने में रूचि रखते हैं कि अन्य लोग या समुदाय कैसे रहते हैं, कैसे जीवन व्यतीत करते हैं और किस प्रकार समृद्ध होते हैं; उनकी संस्कृति और कला एवं संगीत हमारी संस्कृति से किस प्रकार भिन्न हैं। इसलिए वे ज्ञान प्राप्त करने, संस्कृति से परिचित होने एवं संस्कृति को बेहतर तरीके से समझने के लिए यात्रा करते हैं।

साहसिक पर्यटन-युवाओं के मध्य साहसिक यात्रा करने की प्रवृत्ति होती । है। वे ट्रेकिंग, रॉक क्लाइंबिंग, रिवर राफ्टिग इत्यादि के लिए जाते हैं। वे कैम्प फ ायर का आयोजन करते हैं और खुले आसमान के नीचे रहते हैं। यह पर्यटन मजबूत इच्छाशक्ति वाले लोगों के लिए है। जो तनाव सहन कर सकते हैं। स्वास्थ्य पर्यटन- हाल के वर्षों में, स्वास्थ्य पर्यटन अत्यधिक लोकप्रिय हुआ है। लोग प्राकृतिक देख-भाल केंद्रों और अस्पतालों में जाते हैं जहां उनका उपचार विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है। उपचार हेतु अनेक विदेशियों द्वारा भारत की यात्रा की जाती है क्योंकि उनके देश में इस प्रकार की सेवाएं काफ महंगी होती हैं।

धार्मिक पर्यटन– भारत, बहु-धार्मिक संरचना वाली जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करता है। यहाँ लोगों को धार्मिक कर्तव्यों को पूरा करने और धार्मिक महत्व के स्थानों की यात्रा करने में सक्षम बनाने हेतु विभिन्न पर्यटन पैकेज आयोजित किए जाते हैं। जैसे- चारधाम यात्रा। संगीत पर्यटन – यह आनंददायक पर्यटन का भाग हो सकता है क्योंकि इसमें लोगों के गाने, संगीत सुनने तथा उसका आनंद लेने के क्षण शामिल होते हैं। ग्रामीण पर्यटन – इसमें विभिन्न ग्रामीण गंतव्य स्थलों को लोकप्रिय बनाने के 7 लिए पर्यटन करना और यात्रा की व्यवस्था करना (World Tourism Day) सम्मिलित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 LIVE Update