Ruckus in CG Assembly : रमन सिंह की बात पर मंत्री अकबर ‘पहुंचे’ झीरम, फिर लगा विपक्ष के… पर ब्रेक

Ruckus in CG Assembly, cg vidhansabha budget session 2021, bjp adjournment motion on law and order in cg assembly, navpradesh,

ruckus in cg assembly

Ruckus in CG Assembly : वेल से लेकर बापू की प्रतिमा तक भाजपा सदस्यों की नारेबाजी

रायपुर/नवप्रदेश। Ruckus in CG Assembly : विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष का जोरदार हंगामा (Ruckus in CG Assembly) देखने को मिला।

भाजपा के लाए स्थगन प्रस्ताव की ग्राह्यता पर चर्चा के दौरान रमन सिंह की बात पर मंत्री मोहम्मद अकबर झीरम पहुंच गए और फिर इतना वाद विवाद हुआ कि स्थगन की ग्राह्यता पर ब्रेक लग गया।

प्रमुख विपक्षी दल भाजपा की ओर से प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर भाजपा के 15 सदस्यों की ओर से स्थगन प्रस्ताव पेश किया गया।

इसकी जानकारी अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने दी और उक्त मुद्दे पर पहला स्थगन लगाने वाले वरिष्ठ भाजपा सदस्य बृजमोहन अग्रवाल का लगाया स्थगन प्रस्ताव पढ़कर भी सुनाया। लेकिन इस स्थगन की ग्राह्यता पर झीरम का ब्रेक लग गया। कार्यवाही पहले पांच मिनट फिर दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ . रमन सिंह के कानून व्यवस्था पर बोलने के दौरान मंत्री मोहम्मद अकबर ने झीरम का जिक्र कर दिया।

इसके साथ ही सत्तापक्ष व विपक्ष में तीखी नोकझोंक शुरू हो गई। इसको लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी अपनी बात रखी। इसी बीच नेता प्रतिपक्ष ने अपनी बात रखनी चाही तो उन्हें अनुमति नहीं मिलने से भाजपा सदस्य भड़क गए और हंगामा (Ruckus in CG Assembly) शुरू हो गया । सदन में मौजूद सभी भाजपा सदस्य पहले तो वेल में आकर खड़े हो गए और नारेबाजी करने लगे।

अध्यक्ष डॉ. महंत ने इन सदस्यों के स्वयंमेव निलंबन की घोषणा कर दी। लेकिन भाजपा सदस्य सीधे बाहर जाने की बजाय वेल में बैठक फिर नारेबाजी करने लगे। अजय चंद्राकर ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष को बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा है तो वे (कांग्रेस सदस्य) खुद ही सदन चला लें। कुछ देर बैठने के बाद भाजपा सदस्य बाहर निकल गए और महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष बैठकर धरना दिया और यहां भी नारेबाजी की।

विधानसभा में यूं बरपा हंगामा :

बृजमोहन ने की ग्राह्यता पर चर्चा की शुरआत

ग्राह्यता पर चर्चा की शुरुआत भाजपा के बृजमोहन अग्रवाल ने की। उन्होंने प्रदेश में हत्या, दुष्कर्म, चाकूबाजी, डकैती, नशे के कारोबार, अवैध शराब कारोबार, पहाड़ी कोरबा परिवार के सदस्यों की हत्या, महिलाओं के प्रति अपराध की घटनाओं आदि का सिलसलेवार ब्योरा दिया। इसके बाद भाजपा के ही अजय चंद्राकर, शिवरतन शर्मा ने भी अपनी बात कही।

रमन बोले- मानपुर में जो हुआ वह तो सुकमा व दंतेवाड़ा में भी नहीं हुआ

इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राजनांदगांव की मानपुर की घटना का जिक्र करते हुए पुलिस तथा कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि मानपुर में जो हुआ वह सुकमा, दंतेवाड़ा व बीजापुर में भी नहीं हुआ। रमन सिंह ने कहा कि मानपुर में पुलिस ने नोटिस चस्पा कर लोगों से कह दिया है कि वे यदि अपने जानमाल की सुरक्षा चाहते हैं तो सुरक्षित स्थान पर चले जाएं। पुलिस ने लोगों की सुरक्षा करने से अपने हाथ खड़े कर दिए।

मंत्री अकबर ने याद दिलाई झीरम की घटना


इस पर मंत्री मोहम्मद अकबर ने पूर्व सीएम को झीरम की घटना की याद दिला दी। उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में इससे बड़ी घटना नहीं है। इस पर भाजपा सदस्यों ने कहा कि अब तो आपकी सरकार हे जांच क्यों नहीं करा लेते। किसने रोका है।

सीएम बोले- हमको जांच करने नहीं दिया जा रहा


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भाजपा सदस्यों को जवाब देते हुए कहा कि हमने केंद्र से झीरम हमले की जांच सीआईटी को सौंपने का आग्रह किया, लेकिन वे एनआईए से एसआईटी को जांच नहीं सौंप रहे हैं। आखिर क्या वजह, किस षड्यंत्र को छुपाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। उन्होंने कहा जब केंंद्रीय गृहमंत्री राज्य के दौरे पर थे तब भी मैंने उनसे मामले की जांच एसआईटी को सौंपने का आग्रह किया था। इसके बाद इसी मुद्दे पर नेता प्रतिपक्ष ने बोलना चाहा तो उन्होंने अनुमति नहीं मिली, जिससे भाजप सदस्य भड़क गए और वेल में आ गए।

Loading...

BUY & SELL

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *