Night fall: स्वप्नदोष दूर करने करे ये उपाय, मिलेगा लाभ सिर्फ…

Night fall, These remedies to remove nightmares, only benefit will be given,

nightfall

Night fall: शुद्ध शिलाजीत 2 रत्ती मिलाकर सुबह-शाम पीने से स्वप्न दोष विकृति

nightfall: स्वप्नदोष का उपचार-आरोग्यवर्दिनी की एक गोली सुबह, एक गोली शाम को पानी के साथ सेवन करने से स्वप्नदोष विकृति से बहुत लाभ होता है।

शुद्ध शिलाजीत, अभ्रक, स्वर्ण लौह भस्म, शुद्ध गुग्गुल-सभी को बराबर मात्रा में कूटकर, खरल के पीस केशराज के रस में घोटकर शुष्क होने पर एक-एक ग्राम की गोलियां बनाकर रखें एक गोली शाम शैवाल (सेवार) के जल में सेवन कराने से स्वप्नदोष (nightfall) विकृति में लाभ होता है। 

  • गुलाब से बने गुलकंद 10 ग्राम मात्रा में बंगभस्म आधी ग्राम मिलाकर सेवन करने से सप्ताह में स्वप्नदोष विकृति नष्ट होती है। इसके साथ गाय का दूध अवश्य सेवन करें। 
  • बंगभस्म 5 ग्राम, आरिष्टक (रीठा), फल मज्जा का चूर्ण 10 ग्राम और मिश्री 10 ग्राम कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर रखें। इस चूर्ण को 1 ग्राम मात्रा में दिन में 2-3 बार जल के साथ सेवन करने से स्वप्नदोष (nightfall) की विकृति नष्ट होती है।
  •  प्रतिदिन एक या दो केले थोड़ा-सा मधु मिलाकर खाने से स्वप्नदोष नष्ट होता है और शरीर में वीर्य विकसित होता है।
  • मुलहठी को कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर रखें। प्रतिदिन दो माशे चूर्ण, एक तोले घी और छः माशे मधु मिलाकर सेवन करने और फिर दूध पीने से स्वप्नदोष नष्ट होता है। 
  • 10 ताजे आंवलों का रस 10 ग्राम, नीम के वृक्ष की गिलोय का रस 10 ग्राम और 10 ग्राम मिश्री और शुद्ध शिलाजीत 2 रत्ती मिलाकर सुबह-शाम पीने से स्वप्न दोष विकृति । मुक्ति मिलती है। 

हरिद्रा का चूर्ण 50 ग्राम, त्रिफलाचूर्ण 50 ग्राम और भुनी फिटकरी 150 ग्राम खरल में घोटकर मिश्रण बनाएं। इस मिश्रण को 5 ग्राम मात्रा में मिश्री मिलाकर पानी के साथ सेवन करने से स्वप्नदोष (nightfall) का निवारण होता है। 

आंवले, कौंच के बीज की गिरी, शतावर और सफेद मूसली तथा मिश्री बराबर मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। 2 ग्राम चूर्ण में घी और मिश्री मिलाकर खाने और दूध पीने से स्वप्नदोष से हुई धातु क्षीणता नष्ट होती है। 

  • कागजी बादाम की गिरी (एक गिरी), मिश्री (3 माशे), गिलोय का सत्व (3 ग्राम) इन सबको 5 ग्राम मधु में मिलाकर चाटने से स्वप्नदोष नष्ट होता है। इस मिश्रण का सेवन प्रातः और सायं करें।
  • आंवले का चूर्ण 6 ग्राम मात्रा में इतनी ही मिश्री मिलाकर खाने और पानी पीने से स्वप्नदोष विकृति से मुक्ति मिलती है। 
  • शतावर, अंसगंध, विदारीकंद और मूसली तथा इलायची को कूट-पीसकर बारीक चूर्ण बना लें। प्रतिदिन 5 ग्राम मिश्री मिलाकर खाने से स्वप्नदोष नष्ट होता है।

Note: यह उपाय इंटरनेट के माध्यम से संकलित हैं कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करके ही उपाय करें ।

Loading...

BUY & SELL

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *