Har Ghar Tiranga Abhiyan : 'हर घर तिरंगा' अभियान से स्वमेव जुड़ रहे देशवासी -

Har Ghar Tiranga Abhiyan : ‘हर घर तिरंगा’ अभियान से स्वमेव जुड़ रहे देशवासी

Har Ghar Tiranga Abhiyan

शगुफ्ता शीरीन। Har Ghar Tiranga Abhiyan : ‘हर घर तिरंगा’ अभियान से स्वमेव जुड़ रहे देशवासीलहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर, भारत का ही नाम होगा सबकी जुबान पर, ले लेंगे उसकी जान या लेंगे अपनी जान पर, कोई जो उठाएगा आंख हिंदुस्तान पर। भारत की आज़ादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में देशभर में आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इस स्वतंत्रता दिवस को यादगार बनाने, लोगों में देशभक्ति का जज्बा जगाने और राष्ट्रध्वज के प्रति सम्मान की भावना को बढ़ाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 जुलाई को हर घर तिरंगा अभियान को सशक्त करने का आहवान किया।

उन्होंने ट्वीट के जरिए तेरह से पंद्रह अगस्त तक अपने घरों पर राष्ट्रध्वज फहराने की अपील लोगों से की। प्रधानमंत्री ने कहा कि 22 जुलाई 1947 के दिन तिरंगा को अंगीकार किया गया। इसलिए हर भारतीय को तिरंगा पर गर्व होना चाहिए। केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी साहस, शांति और सच्चाई के प्रतीक तिरंगा को हर घर में लगाने की अपील लोगों से की। इसका असर यह हुआ की लोग स्वमेव ही हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने में जुट गए हैं।

हर घर तिरंगा अभियान का एक उद्देश्य यह भी है जनभागीदारी के माध्यम से सभी घरों तक राष्ट्रध्वज पहुंचाना। इससे आपसी एकता, भाईचारे की भावना तो बढ़ेगी ही लोकतंत्र भी मजबूत होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तिरंगा की डिजाइन करने वाले श्री पिंगली वैंकैया की जयंती के अवसर पर अपने उद्बोधन में देशवासियों से अपील की कि वे अपनी सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल या डीपी में तिरंगा लगाए। उन्होंने क्रांतिकारी मैडम भीकाजी कामा को तिरंगा को आकार देने में उनकी भूमिका के लिए याद किया और इसका असर यह हुआ कि करोड़ों देशवासियों ने अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल में तिरंगा की फोटो अपलोड कर एकता का परिचय दिया।

यह सच है कि तिरंगा की आन-बान-शान की खातिर भारतीय सैनिक (Har Ghar Tiranga Abhiyan) बहादुरी से लड़ते हैं और अपनी जान भी देश के लिए न्योछावर कर देते हैं। जैसा कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी कहा है कि हर घर तिरंगा कार्यक्रम दुनिया के लिए एक संदेश है कि भारत का हर नागरिक संविधान निर्माताओं की दृष्टि के अनुसार भारत के विकास, समृद्धि और सुरक्षा को आगे बढ़ाने के लिए एकजुट है। इसलिए एकजुटता के लिए सभी अपने घरों में तिरंगा लगाए।

गृहमंत्री की इस अपील से देश के सभी राज्यों में नागरिकों के मन मस्तिष्क में आजादी की 75वीं सालगिरह के जश्न को देशभक्ति के जज्बे के साथ मनाने की इच्छा मजबूत हुई और सबने तिरंगा लगाने का संकल्प लिया। नतीजतन तिरंगा लेने की भी होड़ सी मची हुई है। प्रधानमंत्री के आहवान से छत्तीसगढ़ में स्वसहायता समूहों की महिलाओं को तिरंगा तैयार करने की जिम्मेदारी मिली। दंतेवाड़ा जिले की पार्वती स्व-सहायता समूह की दीदियों द्वारा तिरंगा झंडा बनाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ में हर घर तिरंगा, घर-घर तिरंगा अभियान को लेकर जोर-शोर से तैयारियां की जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसे पुरखों के संघर्ष और बलिदान का प्रतीक बताते हुए सभी से अपने घरों, दुकानों में तिरंगा लगाने की अपील की है। वहीं, रायपुर जिले में सेरिखेडी की उजाला समूह की 30 महिलाएं 60 हजार झंडे बना रही हैं।

भिलाई इस्पात संयंत्र के लिए पचास हजार झंडे बनाने का कार्य भिलाई महिला समाज की सौ महिलाएं कर रही हैं। बिलासपुर जिले के गनियारी में आजीविका मिशन के तहत महिला समूहों को तिरंगा सिलने की जि़म्मेदारी मिली है। भिलाई में भी आजीविका मिशन के तहत महिलाएं तिरंगा सिलकर रोजग़ार हासिल की है और आत्मनिर्भर भारत का सपना भी साकार हो रहा है। देश के 20 करोड़ घरों तक तिरंगा पहुंचाना वो भी कम समय में यह जिला प्रशासन के लिए चुनौती ही है। मगर सभी जिले के जिलाधीशों ने इस कार्य को पहली प्राथमिकता देते हुए मातहत कर्मचारियों को लापरवाही नहीं करने की हिदायत दी है।

रायपुर कलेक्टोरेट में स्व-सहायता समूहों ने तिरंगा बिक्री केंद्र खोले हैं जहा कलेक्टर ने खुद ही झंडा खरीद कर बिक्री का शुभारंभ किया। इसी तरह, जांजगीर चापा के कलेक्टर ने खोखरा ग्राम पंचायत के आराधना समूह की महिलाओं से तिरंगा खरीदा। उन्होंने सभी कर्मचारियों से कहा कि इन समूहों की महिलाओं से झंडा खरीदे। कबीरधाम कलेक्टर ग्रामीण क्षेत्र के झंडा बिक्री केंद्रों में निगरानी कर रहे हैं। दंतेवाड़ा और महासमुंद की स्व-सहायता समूह की महिलाएं भी लोगो को झंडे उपलब्ध करा रही हैं। केंद्र सरकार ने तीन प्रकार के झंडो को तैयार करने की व्यवस्था की है।

डाकघरों, खादी ग्रामाद्योग की दुकानों तथा सी-मार्ट के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित राशन दुकानों में भी लोग तिरंगा खरीद सकते हैं। वहीं ऑनलाइन खरीदी की भी व्यवस्था की गई है। एक वेबसाइट जाकर हर घर तिरंगा प्रमाण पत्र डाउनलोड किया जा सकता है। इसमें अपना नाम, मोबाइल नंबर दर्ज करके लोकेशन ऑन करना ज़रूरी होता है। रेलवे स्टेशनों ओर डाकघरों में सेल्फी ज़ोन भी बनाए गए है। यहां सेल्फी खींचकर लोग वेबसाइट में डालकर अपनी एकता को प्रदर्शित कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हर घर तिरंगा अभियान को मजबूती देने में मुख्यमंत्री, मंत्री सांसद, विधायक, जिला पंचायतों, जनपदों और ग्राम पंचायतों, नगरीय निकायों के प्रतिनिधि तथा सरकारी अधिकारी-कर्मचारी जुटे हुए हैं। स्कूलों-कॉलेजो में प्रभातफेरी निकाली जा रही है। एनसीसी मुख्यालय रायपुर में ग्रुप कमांडर एस.के. दास की अगुवाई में कैडेट आज़ादी के दीवाने कार्यक्रम के तहत घर-घर जाकर लोगों को तिरंगा लगाने प्रेरित कर रहे हैं। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के राजनांदगांव कार्यालय की ओर से लोगों को तिरंगा लगाने अपील की जा रही है।

समर्थ विद्यालय के बच्चे लोगों को जागरूक (Har Ghar Tiranga Abhiyan) करने निकले। रायपुर के दानी स्कूल की छात्राओं ने प्रभातफेरी निकाली और तिरंगा सरंचना में मानव श्रृंखला बनाई। कांकेर के केवटी में सशस्त्र सीमा बल ने राष्ट्रध्वज के साथ साइकिल रैली निकाली और दुर्गुकोंदल में बीएसएफ के जवानों ने गांवों में तिरंगा वितरण किया। इसी तरह, हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के एनएसएस के दो सौ इकाईयो के सत्रह हजार विद्यार्थी गाव गांव जाकर लोगो को तिरंगा लगाने कह रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

COVID-19 LIVE Update