SECL Gave Apprentice Training : 3 सालों में एसईसीएल ने दी 3 हजार युवाओं को अप्रेंटिस ट्रेनिंग

SECL Gave Apprentice Training : 3 सालों में एसईसीएल ने दी 3 हजार युवाओं को अप्रेंटिस ट्रेनिंग

बिलासपुर/नवप्रदेश। पिछले तीन वर्षों में एसईसीएल द्वारा 2 हजार 908 युवाओं को अप्रेंटिस ट्रेनिंग दी गई। वर्ष 2020-21 एवं 2022-23 के बीच युवाओं को एसईसीएल द्वारा माइनिंग इंजीनियरिंग, माइन सर्वेक्षण, सिविल, इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल आदि ट्रेड्स में प्रशिक्षण (SECL Gave Apprentice Training) दिया।

भारत सरकार की राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना (एनएटीएस) एवं राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रोत्साहन योजना (एनएपीएस) के अंतर्गत एसईसीएल से मिल रही ट्रेनिंग से अंचल के हजारों युवा लाभान्वित हो रहे हैं।

एसईसीएल में मिले प्रशिक्षण जहां युवाओं को स्कूल-कॉलेज में तकनीकी शिक्षा को फील्ड में प्रयोग करने का मौका दे रहा। वहीं यहां मिला अनुभव छात्रों के लिए निजी एवं सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में रोजगार के द्वार भी खोल रहा है। मानव संसाधन विभाग एसईसीएल द्वारा राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना (एनएटीएस) के तहत ग्रेजुएट और टेक्नीशियन अप्रेंटिसशिप ट्रेनिंग दी जा रही (SECL Gave Apprentice Training) है।

स्नातक अप्रेंटिस के लिए जहां इंजीनियरिंग स्नातकों का चयन किया जाता है वहीं तकनीशियन अप्रेंटिस के लिए डिप्लोमा उम्मीदवारों को लिया जाता है।

कोयला उद्योग की कंपनी होने के कारण एसईसीएल में दी जाने वाली ट्रेनिंग के लिए माइनिंग इंजीनियरिंग/माइनिंग और माइन सर्वेइंग डिग्री और डिप्लोमा धारकों को प्राथमिकता दी जाती है। हालांकि 2022-23 से सिविल, इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्नातकों को भी ट्रेनिंग देने की शुरुआत की गई (SECL Gave Apprentice Training) है।          

वर्षवार देखा जाए तो वर्ष 2020-21 में भारत सरकार की राष्ट्रीय प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजना (एनएटीएस) योजना अंतर्गत तकनीशियन (माइनिंग एवं माइन सर्वेक्षण) श्रेणी में 1060 युवाओं को अप्रेंटिस ट्रेनिंग दी गई। 2021-22 में एनएटीएस योजना के अंतर्गत ग्रेजुएट (माइनिंग इंजीनियरिंग) में 140 एवं

तकनीशियन (माइनिंग एवं माइन सर्वेक्षण) में 310 मिलाकर कुल 450 छात्रों को ट्रेनिंग दी। वर्ष 22-23 में कंपनी द्वारा माइनिंग के अलावा अन्य ट्रेड्स में भी अप्रेंटिस ट्रेनिंग देने की शुरुआत की गई।

एनएटीएस योजना के अंतर्गत ग्रेजुएट (सिविल, इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल एवं माइनिंग इंजीनियरिंग) श्रेणी में जहां 291 युवाओं को ट्रेनिंग दी गयी वहीं तकनीशियन (माइनिंग एवं माइन सर्वेक्षण) में 1107 मिलाकर 22-23 में 1398 युवाओं को ट्रेनिंग दी।

शिक्षु अधिनियम, 1961 एवं भारत सरकार प्रशिक्षुता प्रशिक्षण योजनाओं के अंतर्गत दी जा रही एसईसीएल अप्रेंटिस ट्रेनिंग का उद्देश्य युवाओं को ऑन-द-जॉब ट्रेनिंग का अवसर प्रदान करना है ताकि उनकी रोजगार क्षमता विकसित कर उनके पेशेवर कौशल को बढ़ाया जा (SECL Gave Apprentice Training) सके।

यह ट्रेनिंग एसईसीएल में उपलब्ध प्रशिक्षण सुविधाओं का उपयोग करके उद्योग के लिए कुशल वर्कफोर्स विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। यहाँ से प्राप्त प्रशिक्षण उम्मीदवारों को औद्योगिक वातावरण के अनुकूल बनने के लिए तैयार होने में मदद करता है।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed