National Ramayana Festival: कम्बोडिया में राम हर दिल में बसते हैं, रामायण को यहां नृत्य के रूप में दर्शाया जाता है

National Ramayana Festival: कम्बोडिया में राम हर दिल में बसते हैं, रामायण को यहां नृत्य के रूप में दर्शाया जाता है

रायगढ़। भारत से करीब 4500 किमी की दूरी पर स्थित देश कम्बोडिया में विश्व का सबसे बड़ा विशाल अंगकोर वाट (विष्णु) मंदिर है। यहां की संस्कृति में भगवान राम घर-घर और लोगों के दिलों मे बसते हैं, यहां राम को हर आम आदमी की कहानी से जोड़कर देखा जाता है।

कम्बोडिया से पहुंची 12 सदस्यीय टीम ने बताया कि यहां जिस तरह से भगवान राम को पूजते हैं, उसी तरह वहां भी राम की मान्यता है, हमारे यहां रामायण को ’’रिमकर’’ के नाम से जाना जाता है। यह एक कम्बोडियन महाकाव्य से उद्घृत कविता है, जो संस्कृत की रामायण से प्रेरित है। ’’रिमकर’’ यानी राम की महिमा होती है।

कम्बोडिया में भी सरकार यहां की कला और संस्कृति को प्रोत्साहित करती है। यहां भगवान की कहानी को आम लोगों से जोड़कर दिखाया जाता है। कम्बोडिया से आए रामकथा के एक कलाकार ने बताया कि इस तरह की प्रस्तुति देने पहली बार भारत आए हैं, लेकिन इससे पूर्व वे पारिवारिक यात्रा में भारत आ चुके हैं।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed