Jaswant Singh Gill : जसवंत सिंह गिल के जीवन पर बन रही है फिल्म कैप्सूल गिल जाने कौन है ? - Navpradesh

Jaswant Singh Gill : जसवंत सिंह गिल के जीवन पर बन रही है फिल्म कैप्सूल गिल जाने कौन है ?

रायपुर, नवप्रदेश। जसवंत सिंह गिल (1912-1989) एक प्रमुख भारतीय कृषि वैज्ञानिक और पादप प्रजनक थे, जिन्हें गेहूं और चावल की उच्च उपज वाली किस्मों के विकास में उनके योगदान के लिए (Jaswant Singh Gill) जाना जाता है।

गिल का जन्म पंजाब, भारत के एक छोटे से गाँव में हुआ था और वह तीन बच्चों में सबसे छोटे थे। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने गाँव के स्कूल में प्राप्त की, और बाद में लुधियाना के पंजाब कृषि महाविद्यालय में अध्ययन करने चले गए। अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) में एक कृषि अनुसंधान अधिकारी के रूप में काम करना शुरू (Jaswant Singh Gill) किया।

गिल का प्रारंभिक कार्य गेहूं और चावल की उच्च उपज वाली किस्मों के प्रजनन पर केंद्रित था, जो भारत की खाद्य सुरक्षा के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण थे। उन्होंने गेहूं और चावल की कई उच्च उपज वाली किस्में विकसित कीं, जो उनकी उच्च उपज और रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जानी जाती (Jaswant Singh Gill) थीं।

उनकी सबसे उल्लेखनीय उपलब्धियों में से एक “पंजाब -65” गेहूं की किस्म का विकास था, जिसे 1965 में खेती के लिए जारी किया गया था। यह किस्म अपनी उच्च उपज और रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जानी जाती थी, और पूरे भारत में किसानों द्वारा व्यापक रूप से अपनाई गई थी। इसने भारत में गेहूं के उत्पादन को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, और इसे देश के इतिहास में गेहूं की सबसे सफल किस्मों में से एक माना जाता है।

गेहूँ और चावल पर अपने काम के अलावा, गिल ने मक्का, जौ और ज्वार जैसी अन्य फसलों के प्रजनन में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने चारा फसलों की उत्पादकता में सुधार करने के लिए भी काम किया, जिनका उपयोग पशु चारे के लिए किया जाता है।

भारतीय कृषि में गिल के योगदान को व्यापक रूप से मान्यता मिली और उन्होंने अपने पूरे करियर में कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त किए। 1970 में, उन्हें भारतीय कृषि में उनके योगदान के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

आईसीएआर से अपनी सेवानिवृत्ति के बाद, गिल ने कई संगठनों और सरकारी एजेंसियों के सलाहकार और सलाहकार के रूप में काम करना जारी रखा। 1989 में उनका निधन हो गया, लेकिन उनकी विरासत उनके द्वारा विकसित उच्च उपज वाली फसल किस्मों के माध्यम से जीवित है, जो भारत और अन्य देशों में किसानों द्वारा व्यापक रूप से उगाई और उपयोग की जा रही है।

अंत में, जसवंत सिंह गिल एक अग्रणी कृषि वैज्ञानिक और पादप प्रजनक थे, जिन्होंने भारत में उच्च उपज वाली फसल किस्मों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनके काम ने भारत में खाद्य उत्पादन बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और दुनिया भर के किसानों के लिए एक मूल्यवान संसाधन बना हुआ है।


JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 LIVE Update