IAS Team Tour : अभिभूत अधिकारीयों ने कहा- एक नया अनुभव

IAS Team Tour : अभिभूत अधिकारीयों ने कहा- एक नया अनुभव

IAS Team Tour: Overwhelmed officers said - a new experience

दंतेवाड़ा/नवप्रदेश। IAS Team Tour : छत्तीसगढ़ सरकार की सुराजी गांव योजना के नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी विकास कार्यक्रम, गोधन न्याय योजना और गांवों के गौठानों में संचालित आयमूलक गतिविधियों की चर्चा छत्तीसगढ़ राज्य ही नहीं अपितु पूरे देश में हो रही है। जमीनी स्तर पर इन दो योजनाओं को देखने स्पेशली राजस्थान की 12 आईएएस की टीम राजधानी पहुंचे। उन्होंने न सिर्फ देखा बल्कि जिज्ञासाओं को बारीकियों देखकर समझा।

गोधन न्याय योजना से पशुधन के संरक्षण और संवर्धन के साथ-साथ पशुपालकों को मिलने वाले सीधे लाभ और महिलाओं के स्वावलंबन ने सभी का ध्यान खीचा है। गांवों में निर्मित गौठान आजीविका के महत्वपूर्ण केन्द्र बन गए हैं। गौठानों में महिला समूहों द्वारा संचालित आयमूलक गतिविधियों से होने वाले लाभ से महिलाओं में एक नया आत्मविश्वास जगा है।

IAS Team Tour: Overwhelmed officers said - a new experience

जमीनी स्तर पर गौठानों सहित कई परियोजनाएं देखीं

गोधन न्याय योजना, गौठानों की व्यवस्था और गोबर-धन परियोजना का अवलोकन-अध्ययन करने के लिए तीन दिवसीय प्रवास पर छत्तीसगढ़ आए राजस्थान के 12 भारतीय प्रशासनिक अधिकारियों की टीम (IAS Team Tour) ने राज्य के कृषि विभाग के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात की। उसके बाद धमतरी और दुर्ग जिले के गांवों का दौरा पर निकले। वहां उन्होंने जमीनी स्तर पर गौठानों, गोधन न्याय योजना एवं गोबर-धन परियोजनाओं देखा। वें महसूस भी किए कि, ये दोनों योजनाएं से स्पेशली ग्रामीणों, किसानों और महिलाओं की स्थिति को बेहतर बनाने में मददगार साबित हो रही है।

उन्होंने इस दौरान ग्रामीणों, महिला स्व-सहायता समूहों की महिलाओं और गौठान समितियों के सदस्यों से मुलाकात कर गोधन न्याय योजना, गौठान और गोबर-धन परियोजना के क्रियान्वयन के संबंध में विस्तार से चर्चा की। राजस्थान के अधिकारियों की टीम ने छत्तीसगढ़ राज्य में ग्रामीणों, किसानों साथ-साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए इन योजनाओं को उपयोगी और प्रभावी बताया।

टीम में शामिल ये IAS

राजस्थान से आए IAS अधिकारियों (IAS Team Tour) में सचिव पंचायत राज श्रीमती मंजू राजपाल, निदेशक स्वच्छ भारत मिशन वश्वमोहन शर्मा, जिला पंचायतों के सीईओ डॉ. अंजली राजोरिया, इन्द्रजीत यादव, पूजा कुमारी पार्थ, जसमीत सिंह संधू, श्रीनिधि बी.टी., सुश्री श्वेता चौहान, गौरव सैनी, डॉ. सोम्या झा, प्रभारी अधिकारी एसबीएम ग्रामीण, पराग चौधरी एवं राज्य नोडल अधिकारी गोबरधन परियोजना विजय कुमार शर्मा शामिल थे।

पहुंचे गोकुलधाम गौठान

राजस्थान के अधिकारियों की टीम (IAS Team Tour) के रायपुर पहुंचने के बाद महानदी मंत्रालय नवा रायपुर में आयोजित विशेष कार्यक्रम में कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. एम. गीता एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों में मंत्रालय के समिति कक्ष में सुराजी गांव योजना के नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी कार्यक्रम, गोधन न्याय योजना के उद्देश्य एवं क्रियान्वयन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके पश्चात अधिकारियों की टीम धमतरी जिले के भटगांव के गोकुलधाम गौठान पहुंचकर वहां गोबर खरीदी, वर्मी कम्पोस्ट और सुपर कम्पोस्ट के उत्पादन प्रक्रिया, छनाई एवं पैकिंग राशि का हस्तांतरण, शुद्ध लाभ एवं वहां पर आने वाले पशुओं के संबंध महिला स्व-सहायता समूह एवं गौठान समिति के सदस्यों से विस्तार से चर्चा की।

लेमन ग्रास खेती की ली जानकारी

टीम ने तत्पश्चात सप्तर्षि हर्बल वाटिका में मॉ भवानी स्व-सहायता समूह से लेमन ग्रास की खेती, तेल आसवन एवं विक्रय तथा शारदा समूह द्वारा संचालित दीदी की रसोई में बनाये जाने वाले छत्तीसगढ़ी पकवान के बारे में जानकर महिलाओं के आजीविका संवर्धन की जानकारी ली। ग्राम कसवाही के गोठान में गोबर-धन योजना अंतर्गत स्थापित 10 घनमीटर के गोबर गैस संयंत्र एवं उससे उत्पादित गैस का ईंधन में उपयोग करने वाले 5 परिवार के महिलाओं से चर्चा की। राजस्थान के अधिकारियों के दल ने छत्तीसगढ़ राज्य में संचालित गौठान एवं गोधन न्याय योजना के प्रभावी क्रियान्वयन एवं इससे लोगों को हो रहे लाभ की सराहना की।

बाड़ी देखकर की सराहना

अधिकारियों (IAS Team Tour) की टीम ने दुर्ग जिले के ग्राम सिकोला एवं ग्राम केसरा के गोठान पहुंचकर वहां पशुओं के चारा-पानी के प्रबंध, पशुओं की जांच एवं चिकित्सा आदि की सुविधाओं के साथ-साथ गौठान में चारा रखने के शेड, अंजोला टैंक एवं गौठान में आजीविका के लिए महिला स्व-सहायता समूह द्वारा संचालित आर्थिक गतिविधियों का भी मुआयना किया। अधिकारियों की टीम ने ग्राम पंचायत सिकोला के बाड़ी का भी अवलोकन किया और महिला स्व-सहायता समूह से चर्चा की गई।

अधिकारियों की टीम ने अभिसरण अंतर्गत किये जा रहे इन कार्यों की सराहना की तथा राजस्थान में भी इस योजना के क्रियान्वयन की बात कही। ग्राम पंचायत केसरा में विकसित किये गये 25 एकड़ बाड़ी के अवलोकन के दौरान अधिकारियों की टीम ने छत्तीसगढ़ राज्य के इस प्रयोग की सराहना की और कहा कि शासन की विभिन्न योजनाओं के अभिसरण से इस तरह की व्यवस्था स्थापित किया जाना अत्यंत सराहनीय प्रयास है।

IAS Team Tour: Overwhelmed officers said - a new experience

माना एक नया अनुभव

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) से गोबर-धन योजना अंतर्गत ग्राम पंचायत सिकोला में निर्मित 10 घन मीटर क्षमता वाले सामुदायिक मॉडल के गोबरगैस संयंत्र के संचालन, संधारण के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। इस गोबर संयंत्र के रख-रखाव की जिम्मेदारी ग्रामीण हितग्राहियों स्वयं कर रहे हैं। संयंत्र से निकलने वाले स्लरी का उपयोग जैविक खाद के रूप में किया जा रहा है। राजस्थान से आये अधिकारियों के लिये जिला दुर्ग में अभिसरण अंतर्गत किये गये कार्योंं का एक्सपोजर विजिट एक नया अनुभव रहा।

उन्होंने जिला दुर्ग में किये गये कार्यों की सराहना की गई एवं राजस्थान में भी इनका अनुकरण करने की बात कही गई। भ्रमण के दौरान संयुक्त संचालक कृषि आर.एल. खरे एवं राजेश राठौर, सीईओ जनपद पंचायत पाटन मनीष साहू, राज्य सलाहकार डॉ. रूपेश राठौर एवं पुरूषोत्तम पण्डा, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) गिरीश माथुरे उनके साथ थे।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed