लोकवाणी में सीएम ने बताया- आजादी की लड़ाई से आज भी कैसे प्रासंगिक है 'न्याय'

लोकवाणी में सीएम ने बताया- आजादी की लड़ाई से आज भी कैसे प्रासंगिक है ‘न्याय’

cm, bhupesh baghel, lokwani, navpradesh,

cm baghel speak on nyay in lokwani

रायपुर/नवप्रदेश। मुख्यमंत्री (cm) भूपेश बघेल (bhupesh baghel) रविवार को अपने रेडियो वार्ता लोकवाणी (lokwani) की नवीं कड़ी के माध्यम से आम जनता से रूबरू हुए।  इस दौरान मुख्यमंत्री (cm) भूपेश बघेल (bhupesh baghel) ने श्रोताओं के साथ ‘न्याय (nyay) योजनाएं, नई दिशाएं’ की व्यापक अवधारणा पर प्रकाश डाला। साथ ही स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर वर्तमान दौर में इसके क्रमशः विकास और आदिवासियों, किसानों, मजदूरों, जरूरतमंदों सहित सभी वर्गों के लिए न्याय (nyay) योजना को धरातल पर उतारने के राज्य सरकार के संकल्प को साझा किया।

उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि हमारी आजादी की लड़ाई का हर दौर न्याय की लड़ाई का दौर था। भारत की आजादी ने न सिर्फ भारतीयों की जीवन में न्याय की शुरुआत की, बल्कि दुनिया के कई देशों में लोकतंत्र की स्थापना और जन-जन के न्याय का रास्ता बनाया। भारत माता को फिरंगियों की गुलामी से मुक्त कराना ही न्याय की दिशा में सबसे बड़ी सोच और सबसे बड़ा प्रयास था। दुनिया ने देखा है कि किस प्रकार हमारा संविधान समाज के हर समुदाय को न्याय देने का आधार बना। आम जनता को समानता के अधिकार, अवसर और गरिमापूर्ण जीवन उपलब्ध कराने के सिद्धांत के आधार पर अन्याय की जंजीरों से मुक्ति दिलाई गई।

संकटग्रस्त लोगों के जीवन का आधार बना न्याय

   बघेल ने कहा कि आज जब कोरोना संकट के कारण देश और दुनिया आर्थिक मंदी की चपेट में है तब ‘न्याय’ की यही अवधारणा संकटग्रस्त लोगों के जीवन का आधार बन गई है, जिससे लोगों की जेब में सीधे धन राशि जाए और जो ऋण के रूप में नहीं, बल्कि उन्हें सीधे मदद के रूप में हो। राहुल गांधी जी ने देश और दुनिया के विख्यात अर्थशास्त्रियों से विचार-विमर्श करते हुए ‘न्याय’ की इस अवधारणा को प्रतिपादित किया और इसे जमीन पर उतारने का आह्वान किया। मुझे यह कहते हुए खुशी होती है कि छत्तीसगढ़ में हमने इस न्याय योजना के विविध आयामों पर कार्य करना और एक-एक कर उन्हें जमीन पर उतारना शुरू किया है।

अगस्त क्रांति दिवस व विश्व आदिवासी दिवस की दी शुभकामना

उन्होंने 9 अगस्त को अगस्त क्रांति दिवस और विश्व आदिवासी दिवस का विशेषरूप से उल्लेख करते हुए इनके महत्व की चर्चा की। उन्होंने प्रदेशवासियों को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं भी दीं। श्री बघेल ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने आज के ही दिन वर्ष 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन शुरु करने की घोषणा की और ‘करो या मरो’ का नारा दिया। यह घटना भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का निर्णायक मोड़ साबित हुई।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed