Business Idea: इस उत्पाद की भारत में काफी मांग है, देखिए क्या है यह बिजनेस

Business Idea: इस उत्पाद की भारत में काफी मांग है, देखिए क्या है यह बिजनेस

Business Idea, There is a lot of demand for this product in India, see what is this business,

paper napkin

-घर बैठे 1 लाख रुपये कमाने वाला फंड; साल भर जारी रहेगा काम

Business Idea: हर कोई किसी न किसी समय बिजनेस में हाथ आजमाने की सोचता है। कभी पैसों की समस्या होती है तो कभी व्यापार नहीं होता क्योंकि व्यापार का कोई विचार नहीं होता है। अगर आप रोज़मर्रा की चीज़ों के बारे में सोचते हैं, तो आप अपने आस-पास ऐसे कई बिजनेस आइडीया देख सकते हैं।

फिर भी, एक का मालिक होना अभी भी औसत व्यक्ति की पहुंच से बाहर है। इनमें से कई उद्योग सरकार द्वारा समर्थित हैं। व्यावसायिक विचारों में से एक पेपर नैपकिन निर्माण इकाई शुरू करना है। ठंडे मौसम वाले देशों सहित यूरोपीय देशों में टिशू पेपर का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। कोरोना काल में जब यूरोपीय देशों में लॉकडाउन लगाया जा रहा था तो उन देशों में भी लोग घबराहट में खरीदारी करने लगे।

उस समय पैनिक खरीदारी की बात यह थी कि राशन या खाद्य सामग्री नहीं थी। तो यह टिशू पेपर के लिए किया गया था। उस जगह के सुपरमार्केट और रिटेल स्टोर में टिशू पेपर का स्टॉक एक दो दिनों में पूरी तरह से खत्म हो गया था।

हालांकि भारत में टिशू पेपर की खपत यूरोपियन देशों जितनी ज्यादा नहीं है, लेकिन यहां इसका बड़ा बाजार भी है। भारत में टिशू पेपर नैपकिन का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और इसका बाजार लगातार बढ़ रहा है। अच्छी खबर यह है कि भारतीय बाजार में ब्रांडेड नैपकिन के साथ-साथ स्थानीय उत्पादों का भी व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

इस कारण से नैपकिन पेपर प्लांट स्थापित करना लाभदायक हो सकता है और आप इसे बेचकर लाखों रुपए कमा सकते हैं। आइए जानें कि प्लांट कैसे शुरू करें, आपको इसमें कितना निवेश करना है, सरकार से आपको क्या मदद मिल सकती है और इससे आपको कितना फायदा हो सकता है।

इंडिया मार्ट में मौजूद सप्लायर्स के मुताबिक नैपकिन पेपर बनाने की मशीन 5 लाख रुपये से शुरू होती है। अगर आप सेमी-ऑटोमैटिक मशीन खरीदते हैं तो आपको 5 से 6 लाख रुपये मिलेंगे। यह मशीन चार से पांच इंच प्रति घंटे के 100 से 500 नैपकिन के टुकड़े बना सकती है। अगर आप बड़े पैमाने पर बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो 10 से 11 लाख रुपये में एक उच्च क्षमता वाली फुली ऑटोमेटिक मशीन उपलब्ध है। इसमें प्रति घंटे 5,500 रोल की क्षमता है।

यदि आप स्वयं इस व्यवसाय के लिए 3.50 लाख रुपये जुटाते हैं, तो आपको सरकारी मुद्रा योजना के तहत ऋण भी मिल सकता है। अगर आपके पास इतना पैसा है तो आप मुद्रा योजना के तहत लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको 3.10 लाख रुपए का टर्म लोन और 5.30 लाख रुपए का वर्किंग कैपिटल लोन मिल सकता है। इस तरह आपको करीब 12 लाख रुपये की मदद मिलेगी और इससे आप इस बिजनेस को सही तरीके से शुरू कर पाएंगे।

एक छोटा सा प्लांट शुरू करके आप आसानी से प्रति वर्ष 1.50 लाख किलो तक नैपकिन पेपर का उत्पादन शुरू कर सकते हैं। नैपकिन पेपर 65 रुपये प्रति किलो के भाव से बाजार में आसानी से बेचा जा सकता है। इस तरह आप आसानी से एक साल में लगभग 1 करोड़ रुपये का टर्नओवर हासिल कर सकते हैं। कच्चे माल, मशीन और ऋण की किस्तों की लागत में कटौती करने के बाद भी, अकेले पहले वर्ष में इस व्यवसाय से 10-12 लाख रुपये बचा सकते हैं।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

BUY & SELL

Leave a Reply

Your email address will not be published.

COVID-19 LIVE Update