BIG BREAKING: ब्लैक फंगस के 15 मरीज एम्स रायपुर में भर्ती, एम्स डायरेक्टर ने की पुष्टि… सीएम बघेल ने दिए…

BIG BREAKING, Black Fungus 15 patients admitted to AIIMS Raipur, AIIMS Director confirmed, CM Baghel gave,

CORONA Black fungal Infection

CORONA Black fungal Infection: कोरोना के बाद अब छत्तीसगढ़ में पैर पसार रहा ब्लैक फंगस, एम्स में 15 मरीज भर्ती
-अधिकतर मरीजों की आंखों में फैला इंफेक्शन

रायपुर/नवप्रदेश। CORONA Black fungal Infection: प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर का कहर अभी पूरी तरह से थमा ही नहीं हैं, कि अब यहां ब्लैक फंगस नामक प्रकोप भी अपना पैर पसारना शुरू कर दिया है। दरअसल रायपुर एम्स में हांलहि में करीब 15 मरीज भर्ती किए है। जिनमें परीक्षण के बाद पता चला है कि उन्हें ब्लैक फंगस का प्रकोप है। जिसकी पुष्टि एम्स के डायरेक्टर नितिन एम नागरकर ने स्वयं की है। इधर, ब्लैक फंगस के बारे में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी गंभीरता से लेते हुए ब्लैक फंगस के बारे में जानकारी ली।

साथ ही स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने भी छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगल मरीजों के मिलने की पुष्टि की है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में ब्लैक फंगल के मरीजों की जांच की जा रही है। जिसके चलते छत्तीसगढ़ में इसके प्रकोप पर नियंत्रण पाने के लिए शासन-प्रशासन स्तर पर दिशा-निर्देश भी जारी किया है।

क्या है ब्लैक फंगस :

डॉ. नागरकर ने बताया कि प्रारंभिक जांच में इस बात की जानकारी सामने आयी है कि रायपुर एम्स में भर्ती 15 ब्लैक फंगल (CORONA Black fungal Infection) के मरीजों में 8 मरीजों की आंखों में फंगल इंफेक्शन है, जबकि बाकी मरीजों के अन्य पार्टों में संक्रमण है, जिनकी की जा रही है। पूरे प्रदेश में कोरोना के बाद ब्लैंक फंगल का शिकार हुए मरीजों की संख्या करीब 50 की बतायी जा रही है, जो अलग-अलग जिलों में है।

हालांकि पूरी तरह से उन मरीजों की जानकारी सामने नहीं आ पायी है। हालांकि रायपुर एम्स में करीब 15 मरीजों के ब्लैक संक्रमण से प्रभावित होने की स्पष्ट जानकारी आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हलचल तेज हो गयी है।

विशेषज्ञों की माने तो…

ब्लैक फंगस (CORONA Black fungal Infection) के संबंध में विशेषज्ञों का कहना हैं कि कोविड 19 कोरोना वायरस इस दूसरी लहर के बाद अब ब्लैक फंगल के मामले देशभर में सामने आ रहे हैं। हालांकि ज्यादा केस आंखों से जुड़े हैं। प्रारंभिक चरण में अगर मरीज को डाक्टरी सलाह मिल जाती है तो उससे उबरा जा सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि मरीजों में जरूरत ना होने के बाद भी स्ट्रायाड का इस्तेमाल करना और फिर वैसे कोविड मरीज जिनकी इम्युनिटी पावर बेहद कम है, उनमें ब्लैक फंगल का असर देखा जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने ब्लैक फंगस के संक्रमण की जानकारी को गंभीरता से लिया

छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में ब्लैक फंगस के उपचार के लिए सभी जरूरी दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में ब्लैक फंगस के संक्रमण होने की जानकारी को गंभीरता से लिया है, उन्होंने छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में ब्लैक फंगस के उपचार के लिए सभी जरूरी दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *