Bastar ka Dussehra : बस्तर दशहरा के लिए निकली टूरिस्ट बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, 1 की मौत, 12 घायल

Bastar ka Dussehra : बस्तर दशहरा के लिए निकली टूरिस्ट बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, 1 की मौत, 12 घायल

Bastar Dussehra: Tourist bus leaving for Bastar Dussehra crashes, 1 killed, 12 injured

Bastar ka Dussehra

जगदलपुर/नवप्रदेश। Bastar ka Dussehra : बस्तर दशहरा के लिए रायपुर से जगदलपुर निकली टूरिस्ट बस बीच रास्ते दुर्घटनाग्रस्त हुई। ट्रेवलिंग बस सड़क से नीचे गिर गई, जिससे 1 यात्री की मौत हो गई है, वहीं 12 सवारी घायल हुए। बता दें कि, बस में 14 यात्री सवार थे।

जानकारी के अनुसार, ट्रेवलिंग बस में सवार लोग रायपुर से चित्रकोट वाटरफॉल और दशहरा देखने आ रहे थे। भानपुरी में जुगानी के पास ड्राइवर के बस से नियंत्रण खोने पर नीच गिर गई। दुर्घटना की सूचना मिलतेही भानपुरी पुलिस मौके पर पहुंची। 108 की टीम घायलों को हॉस्पिटल पहुंचाने में जुटी है।

गौरतलब है कि, 75 दिनों तक चलने वाले विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा (Bastar ka Dussehra) को देखने के लिए देश-दुनिया के लोग हर साल हजारों की संख्या में जगदलपुर पहुंचते हैं।

छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में मनाया जाने वाला दशहरा अपने विशेष स्वरूप के कारण प्रसिद्ध है। बस्तर का दशहरा दुनिया का सबसे लंबे समय तक चलने वाला लोक पर्व माना जाता है। अपनी अनोखी संस्कृति की वजह से बस्तर वैश्विक स्तर पर हमेशा चर्चा में रहा है। इसमें दन्तेश्वरी देवी की पूजा-अर्चना की जाती है। जगदलपुर के दन्तेश्वरी मन्दिर में विशेष पूजा कार्यक्रम किया जाता है।

608 वर्षों से चली आ रही है परंपरा

75 दिनों तक चलने वाले बस्तर दशहरा को दुनिया का सबसे लंबी अवधी तक चलने वाला लोकपर्व माना जाता है। इसकी खासियत के कारण ही यहां देश-विदेश से लोग आते हैं। मंगलवार को इस पर्व की शुरुआत हुई। इस दौरान लाखों की भीड़ वहां जुट गई। पर्व की शुरुआत आराध्य काछन देवी को कांटे के झूले में झुलाने की रश्म के साथ हुई। काछन देवी की अनुमति मिलने के बाद ही यह पर्व मनाने की मान्यता है। यह परंपरा यहां पिछले 608 वर्षों से चली आ रही है।

दशहरा का प्रमुख विधान काछनगादी के पास संपन्न् होता है। काछनदेवी के रूप में नौ साल की बालिका को कांटे के झूले में झुलाया गया। उसने पहले राजा से युद्ध किया जाताहै। उसके बाद स्वीकृति सूचक फूल देकर राजा को दशहरा मनाने की अनुमति प्रदान की। इस मौके पर हजारों दर्शक अभूतपूर्व दशहरा रस्म को देखने मंदिर (Bastar ka Dussehra) के चारों तरफ जुटे रहे।

JOIN OUR WHATS APP GROUP

डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed