स्त्री को अस्पृश्य मत बनाइये…

सृष्टि प्रकृति पुरुष और स्त्री का समुच्चय है। यह समुच्चयता प्रतिस्पर्धात्मक नहीं है। प्रतियोगी नहीं है। पूरक है। स्त्री और पुरुष एक दूसरे को पूरक होते हैं। हमने इन्हें प्रगति …

Read More

छत्तीसगढ़ में पर्यटन विभव एवं विकास का नियोजन

यह सच है कि छत्तीसगढ़ में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं. फिर भी आज भारत के पर्यटन मानचित्र पर छत्तीसगढ़ का अस्तित्व कहीं दिखाई नहीं पड़ता. देशी और विदेशी पर्यटन …

Read More

चौथी पारी को लेकर भाजपा में भय का माहौल…?

विशेष संवाददाता रायपुर (नवप्रदेश)। पिछले तीन विधानसभा चुनाव में भाजपा का राष्ट्रीय संगठन इतना कभी परेशान नहीं रहा जितना पिछले छह माह से देखने को मिल रहा है। जुलाई-अगस्त में …

Read More

सबको सिखाते गुजराती नतीजे…

योगेश मिश्र किसी भी विधानसभा चुनाव के नतीजे लोकसभा चुनाव की पटकथा लिखें ऐसा नहीं होता है पर गुजरात के चुनाव में कुछ ऐसा ही था इसीलिए यह चुनाव नरेंद्र …

Read More

आप हाथी दांत की मीनार में न बैठें

कनक तिवारी 9425220737 क्रमांक-11 स्वाधीनता पूर्व की न्यायपालिका अपने व्यवहार और आचरण में जल्दबाज नहीं दिखाई देती थी। उसका चेहरा चरित्र की रोशनी से उज्जवल था। ‘पत्थर की लकीर’ जैसा …

Read More

वकालत में भी सब कुछ हरा हरा नहीं है

कनक तिवारी 9425220737 क्रमांक-10 न्यायाधीश से दैनिक संपर्क के कारण वकील उनके वास्तविक आलोचक हो सकते हैं। अनुभव लेकिन बताता है कि अधिवक्ता परिषदों पर अधिकतर ऐसे वकीलों का कब्ज़ा …

Read More

अपनी विश्वसनीयता बचाए रखें

कनक तिवारी 9425220737 क्रमांक-9 न्यायपालिका के लिए सुखद संकेत है कि राजनीतिज्ञों, नौकरशाहों, उद्योगपतियों, डॉक्टरों, वकीलों, तथा इंजीनियरों के मुकाबले उनकी बेहतर विश्वसनीयता समाज में कायम है। आम धारणा है …

Read More

नेताओं के कुकर्म उजागर करें

कनक तिवारी 9425220737 क्रमांक-7 जम्हूरियत को गोपनीयता से गहरा परहेज होता है। यह जुमला न्यायपालिका पर भी चस्पा होता है। अपवाद की स्थितियां भी होती हैं, जब ऐसा करना जनहित …

Read More

अपनी सोच व्यापक करें माइलॉर्ड

कनक तिवारी 9425220737 क्रमांक-7 न्यायाधीश की कार्यक्षमता का आकलन समकालीनता के प्रति उसकी समझ और जानकारी से भी जुड़ा होता है। समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, धर्मशास्त्र, दर्शन, इतिहास, भूगोल और विज्ञान …

Read More

सुप्रीम कोर्ट से कुछ सवाल

कनक तिवारी क्रमांक-6 सुप्रीम कोर्ट के कई फैसले अमेरिकी बाजारवाद से अछूते नहीं हैं। फिर भी अमेरिकी संविधान में वर्णित आजादी की अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट की व्याख्यायित संभावनाओं से संपृक्त …

Read More