nav Pradesh logo

बेटियों को पढ़ाने कलेक्टर से मां ने मांगी मदद, गरीब मां चाहती है 3 बेटियों की पढ़ाई न रुके

Last Modified Aat : 12-Jul-18

News image
News image
<

दन्तेवाड़ा (नवप्रदेश) । गरीबी और लाचारी परिवार को तोड़कर रख देती है। एक ऐसे ही दर्द भरी कहानी दन्तेवाड़ा जिले के बारसूर के बैरागी परिवार की निकलकर सामने आई है। जहाँ पिता की मौत के बाद माली हालत में बेटियों को पढ़ाने की जवाबदारियो का बोझ उठाने में अक्षम माँ ने जिला कलेक्टर दन्तेवाड़ा सौरभ कुमार से गुहार लगाई कि मेरी तीनों बेटियों को पढ़ा दो। कलेक्टर ने भी दुखियारी गुहार सुनी और बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान के हवाले तीनों ही बच्चियों को बेहत्तर पुनर्वास के साथ पढऩे लिखने का माहौल उपलब्ध कराया। गौरतलब है कि दरअसल बारसूर में निवासरत बैरागी परिवार के मुखिया दिलीप बैरागी का आकस्मिक निधन 1 जून 2018 को हो गया। उसके बाद से बैरागी परिवार पूरी तरह से टूट गया है। क्योंकि घर मे कमाने वाला उनके अलावा कोई दूसरा घर पर सक्षम नही है।  बेटी पढ़ाओ,बेटी बचाओ की पहल से प्रेरित होकर कलेक्टर से मांगी मदद  स्व.बैरागी की तीन बेटियां है बड़ी बेटी युक्ता कक्षा आठवी मंझली बेटी गीतिका कक्षा सातवी में और छोटी बेटी रक्षा बैरागी चौथी में इस वक्त पढ़ रही है।