nav Pradesh logo

 जोगी पार्टी का निशान होगा हल जोतता किसान

Date : 12-Jul-18

News image
<
  • प्रदेश की बिना सिंबॉल वाली पार्टी छजकां का चुनावी चिन्ह लगभग फाइनल

रायपुर (नवप्रदेश) । छजकां सुप्रीमो अजीत जोगी एससीएसटी वोट के साथ अब किसानों को रिझाने के लिए हल जोतता किसान पार्टी सिंबॉल हासिल करने में लगभग कामयाब हो गई है। एक-दो दिनों में पार्टी का चुनावी चिन्ह मुख्य निर्वाचन आयुक्त नई दिल्ली से ओके हो जाएगा। जनता कांग्रेस जोगी सुप्रीमों अजीत जोगी दिल्ली से पार्टी का चुनाव चिन्ह लेकर ही लौटेंगे। भारत निर्वाचन आयोग का बुलावा भी मिल गया था। लिहाज़ा जोगी आयोग के अधिकारियों से मिलकर पार्टी का चुनाव चिन्ह लेकर 7 जुलाई को लौटने वाले थे। परंतु निशान मिलने में विलंब की वजह से अब वे पार्टी का चुनाव चिन्ह लेकर ही लौटेंगे। 

गौरतलब है कि छजकां ने पहले नारियल का चुनाव चिन्ह आयोग से माँगा था, जिसे आयोग ने पहले ही गोवा की एक क्षेत्रीय पार्टी गोवा फारवर्ड को आबंटित करने का हवाला देकर मांग खारिज कर दिया था। अब जोगी की तरफ  से पार्टी के लिए किसानों से जुड़े हुए चुनाव चिन्ह की मांग की गई हैं। जिनमें ट्रैक्टर, हल, धान की बाली, हल जोतता किसान वाला सिम्बॉल जैसे आधा दर्जन चुनाव चिन्ह पार्टी के लिए मांगा गया है। जिसमे अंतिम मुहर 6 जुलाई की मींटिंग में लगनी थी। इसमें से हल जोतता किसान सिंबॉल लगभग फाइनल कर दिया गया है। विधिवत पार्टी का चुनाव चिन्ह आयोग की ओर से आबंटित करने की प्रक्रिया फिलहाल चल रही है। इसलिए भी अंतिम तौर पर कोई पुख्ता तौर पर बोलने के लिए राजी नहीं है। सूत्रों की मानें तो अजीत जोगी ने पार्टी के कोर कमेटी के सदस्यों को भी इसके लिए दिल्ली बुलाया है। सूत्र बताते है कि पार्टी सुप्रीमों अजीत जोगी ने ये सभी चुनाव चिन्ह किसानों की बहुलता को देखते हुए माँगा था। साथ ही वे लगातार किसानों के मुद्दे को प्रभावी तरीके से लगातार उठा भी रहे है। ऐसे में जोगी को अगर किसानों से जुड़ा चुनाव चिन्ह मिलता है तो निश्चित तौर से चुनाव के दौरान जोगी इसे भुनाने के लिए प्रचार भी खूब करेंगे।

न नारियल मिला न धान की बाली

अपनी नई पार्टी का एलान करने के साथ ही अजीत जोगी ने चुनाव आयोग में चुनाव चिन्ह के लिए अर्जी दे दी थी। अर्जी लगाने से पहले जोगी ने पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता से सीधे तौर पर चुनाव चिन्ह को लेकर लाय लिया था, जिसमे सबसे ज़्यादा लोगो ने नारियल को लेकर सहमति प्रदान की थी। पार्टी सुप्रीमो जोगी भी नारियल को ही तवज्जो दे रहे थे। धान की बाली उनकी दूसरी पसंद थी। परंतु उन्हें अब आयोग से मिलने वाला पार्टी का चुनाव चिन्ह हल जोतता किसान ही होगा।

गुलाबी रंग से हो रह था प्रचार

जोगी कांग्रेस अब तक अभी गुलाबी रंग और पार्टी के लोगो के साथ प्रचार कर रही थी। बीते 3 सालों में गुलाबी रंग पार्टी की विशेष पहचान बन गई है। इसलिए पार्टी का झंडा और गमछा भी गुलाबी रंग का ही रखा गया है। अब चुनाव चिन्ह फाइनल हो जाने के बाद भी जोगी पार्टी गुलाबी रंग के साथ ही प्रचार-प्रसार करेगी।

जोगी जी दिल्ली में ही हैं और बहुत जल्द पार्टी का सिंबॉल (निशान) लेकर लौटेंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त से जैसे ही पार्टी का निशान फाइनल होगा वे लौट आएंगे। पार्टी को संभवतया हल जोतता किसान वाला सिंबॉल मिलेगा।

संजीव अग्रवाल, प्रदेश प्रवक्ता छजकां छग

पार्टी के लिए जरुरी कार्यों के अलावा छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस जे का चिन्ह भी वे साथ लेकर आएंगे। फिर अपने सियासी कार्यों के लिए वे वहां रुके हुए हैं। पार्टी का सिंबॉल लगभग फाइनल हो गया है। हल जोतता किसान सिंबॉल होगा।

इकबाल अहमद रिजवी, अध्यक्ष मीडिया विभाग छजकां