nav Pradesh logo

भारत- दक्षिण कोरिया के बीच 7 समझौतों पर करार, PM बोले- शांति के लिये योगदान रहेगा जारी

Last Modified Aat : 10-Jul-18

News image
News image
<

 

PunjabKesari

मोदी ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप में शांति प्रक्रिया शुरू करने का श्रेय राष्ट्रपति मून को जाता है। उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि जो सकारात्मक वातावरण बना है, वह राष्ट्रपति मून के अथक प्रयासों का परिणाम है। पूर्वोत्तर और दक्षिण एशिया में प्रसार संबंध (परमाणु) भारत के लिये भी चिंता का विषय है। इसलिये इस शांति प्रक्रिया में भारत भी एक पक्षकार है। तनाव कम करने के लिये जो हो सकेगा, हम वह करेंगे।  दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे..इन ने कहा कि हमने द्विपक्षीय सहयोग के नये युग की शुरुआत की है। वहीं, मोदी ने कहा कि हमारी बातचीत के परिणामस्वरूप एक दृष्टि पत्र जारी किया जा रहा है। हमारा ध्यान अपने विशेष सामरिक गठजोड़ को मजबूत करने पर है । 
PunjabKesari 

 इससे पहले मून और उनकी पत्‍नी किम जुंग सूक का आज दिल्ली में औपचारिक स्वागत किया गया। राष्‍ट्रपति भवन में मून को गार्ड ऑफ ऑनर से नवाजा गया। जिस दौरान राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी भी मौजूद रहे। कोविंद ने साउथ कोरियन राष्‍ट्रपति के सम्‍मान में एक डिनर का आयोजन भी किया है। मून की इस भारत यात्रा का मकसद व्‍यापार और रक्षा सहयोग को बढ़ाना है। 

PunjabKesari

सोमवार को राष्‍ट्रपति मून और पीएम मोदी ने उत्‍तर प्रदेश के नोएडा स्थित सैमसंग के सबसे बड़े मोबाइल प्‍लांट को लॉन्‍च किया। इस दौरान दोनों ने इस प्रोजेक्ट के बारे में बताया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग में आज भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर पहुंच गया है। उनके मुताबिक नोएडा में 5 हजार करोड़ रुपए का ये निवेश ना सिर्फ सैमसंग के भारत में व्यापारिक रिश्तों को मजबूत बनाएगा, बल्कि भारत और कोरिया के संबंधों के लिए भी अहम सिद्ध होगा।