nav Pradesh logo

जिले के 20 हाइवे स्कूलों में शूरू होगी विडियो कांफ्रेन्सिग से पढ़ाई 

Last Modified Aat : 09-Jul-18

News image
News image
<

  • ट्रायल क्लास के निरीक्षण में पहुंच कलेक्टर ने दिए सुझाव
  • विशेषज्ञ शिक्षकों की कमी से विभाग को मिलेगा छुटकारा

कोण्डागांव (नवप्रदेश) । जिले में विषयवार शिक्षकों की कमी को देखते हुए जिला प्रशासन ने एनएच के सभी स्कूलों में जहा इंटरनेट नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध हैं। ऐसे हायर सेंकड्री स्कूलों में विडियों कांफ्रेंसिंग के माध्यम से स्कूलों में अध्यनरत छात्र-छात्राओं को पढ़ाने की योजना बनाई गई है।इसके सुचारू संचालन के लिए चल रहे ट्रॉयल क्लास में स्वयं कलेक्टर नीलकंठ टेकाम पहुंच व्याख्यान कक्ष का मुवायना किया संयुक्त जिला कार्यालय भवन में शिक्षा विभाग को एलार्ट एक कमरे को स्मार्ट अध्यक्षन केंद्र के तौर पर तैयार किया गया हैं। जहॉ विषय विशेषज्ञ शिक्षक अपने निर्धारित समय पर रोजाना यहॉ पहुंच बच्चों को विडियों कांफरेसिंग के माध्यम से पाठ पढ़ाएगें। इसके लिए इसी क्लासरूम को कंट्रोलरूम भी बनाया गया हैं। जिले के शासकीय स्कूलों में इस तरह से अत्याधुनिक पद्वति से पढ़ाई कराने का यह पहला मौका होगा। 

शिक्षक दिखेगें प्रोजेक्टर पर बच्चें रहेंगे क्लासरूम में

हांलाकि पढ़ाई कराने यह पद्वति कोई नई तो नहीं पर जिले में अब तक ऐसा संभव नहीं हो पाया था। इसलिए इस क्लास को लेकर छात्र-छात्राओं में भी उत्सुकता देखी जा रही हैं। कंट्रोल रूम बैठे बच्चों को टीचर पढ़ाएंगे।

 जिसे विडियों कांफरेसिंग के माध्यम से जुड़े इलाके के सभी 20 स्कूलों मे अपनी कक्षा में बैठे छात्र देख और सुन सकेंगे। यहीं नहीं वे अपने प्रश्नों के उत्तर भी अपनी कक्षा में बैठे-बैठे ही कंट्रोलरूम में मौजूद शिक्षक से प्राप्त कर सकेंगे । और प्रश्नों के उत्तर का निराकरण होने के बाद ही पाठ आगे बढ़ेगी। इस क्लास के माध्यम से जहॉ शिक्षकों की कमी पूरी होगी वहीं एक ही साथ सभी स्कूलों के कोर्स भी पूरे हो जाएंगे।

  • इसके लिए बकायदा समय सारणी भी निर्धारित किया गया हैं। और निर्धारित समय पर ही कक्षाओं का संचालन होगा। इसमें एक साथ बीस स्कूलों के छात्र-छात्राएं जुड़कर पढ़ाई करेगें।

राजेश मिश्रा, जिला शिक्षा अधिकारी कोंडागांव

  • 10 और 12 की लगेगी कक्षाएॅ-

इस स्मार्ट क्लास के माध्यम से 10 व 12 के छात्र-छात्राओं को सुविधा मिलेगी। जहॉ अलग-अलग समय पर गणित, भौतिकी, रसायन एवं अंग्रेजी का पाठ पढ़ाया जाएगा।