nav Pradesh logo

याददाशत और ब्लड सर्कुलेशन दुरुस्त करने के लिए करवाएं ये 3 योगासन

Last Modified Aat : 08-Jul-18

News image
<

 सभी पेरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे हैल्दी और इंटैलिजेंट हो। वह हर फील्ड में आगे रहें। लेकिन कई बच्चे पढ़ाई की इतनी टेंशन लेने लगते हैं, जिसके कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है। आज हम बच्चों के लिए ऐसे योगासन बताएंगे, जिसे करने से बच्चे के मन में एकाग्रता बढ़ेगी, साथ ही में शारीरिक विकास और मानसिक तनाव दूर होगा। आइए जानिए इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए बच्चों को कौन-कौन से योगासन करने चाहिए।

1. वज्रासन 

PunjabKesari
इस आसन को करने से बच्चे का मन शांत और ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। इससे बच्चे का मन शांत रहता है और एकाग्रता बढ़ती है। इसे करने के लिए पैर को जमीन पर फैला कर बैठ जाएं और हाथों को शरीर के बगल में रखें। अब दाएं पैर को घुटने से मोड़ कर दाहिने कूल्हे पर रखें। इसी तरह बाएं पैर को बाएं कूल्हे के नीचे रखें। एड़ी को इस तरह एडजस्ट करें कि पैर की बड़ी उंगली एक-दूसरे पर ओवरलैप करें। 


 2. वृक्षासन

PunjabKesari
स्कूली बच्चों को इस आसन से काफी फायदा मिलता है। इससे बच्चे के शरीर में संतुलन बना रहता है। इसके अलावा तनाव दूर होने के साथ याददाशत भी बढ़ती है। इस आसन को करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं और फिर दाएं पैर के टंखने को पकड़ कर इस पैर की एड़ी को बाई जांघ के ऊपरी भाग यानी जोड़ पर रखें। दाएं पैर के तलवे से जांघ को दबाएं। अब हाथों को प्रार्थना की मुद्रा में जोड़ें, ऊपर उठाएं और छाती पर रखें फिर धीरे-धीरे उन्हेंं उठाकर सिर से ऊपर ले जाएं। कुछ समय तक शरीर का संतुलन बनाए रखें। फिर हाथों को नीचे ले आएं और नार्मल पॉजिशन में आ जाएं। फिर इसी प्रकिया को दूसरी तरफ से करें। इस योगासन को 3 से 5 बार करें।

3. पद्मासन

PunjabKesari
इस आसन को करने से स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी फायदा मिलता है। इससे बच्चे का तनाव कम होता है और उनकी एकाग्रता बनाएं रखने में मदद मिलती है। इसे करने के लिए दाएं पैर को मोड़ते हुए इसे बाएं तरफ के जांघ के ऊपर रखें। दाई एड़ी से बाई साइड के पेट के निचले हिस्से को दबाव पड़ना चाहिए और इसी तरह बाएं पैर को मोड़ते हुए दाई जांघ पर रखें। अपनी पीठ को सीधा रखें। इस तरह बैठ कर धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें।