nav Pradesh logo

मस्तूरी के कई गांवों में शौचालय निर्माण अधूरा, उच्च अधिकारियों की शय पर चल रहा कमीशन का खेल

Date : 06-Jul-18

News image
News image
<

बिलासपुर । स्वच्छ भारत मिशन के तहत हर ग्राम शौच मुक्त करने के लिये हर घर शौचालय का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। इस कड़ी में मस्तूरी विकासखंड के लावर, पेंड्री, वेदपरसदा जैसे कई ग्राम में शौचालय निर्माण का काम शत प्रतिशत हुआ ही नही है लेकिन कागजों में पूर्ण काम दिखाकर वाहवाही लूटने  का खेल जारी है। आप को बता दे कि ग्राम वेदपरसदा में हाल ज्यादा खराब है लगभग 50 से अधिक घरों में शौचालय नहीं बने है जिसके चलते ग्रामीण शौच के लिए बाहर जाने मजबूर है।  मीडिया को ग्रामीणों ने बताया कि महिला सरपंच के पति व सचिव गांव में मनमानी करते है ।अधूरे काम की जानकारी मांगने पर जो शिकायत करना है कर लो काम नही होगा साथ ही धमकाते है  गांव के विनोद श्रीवास, राजकुमारी, घनश्याम, अशोक केंवट, विजय केंवट, मोहन बाई, शनि केंवट, गेन्दू केंवट, साधु निर्णजक ,परदेशी दास समेत 50 से अधिक लोगो के घर शौचालय निर्माण नही हुआ है । गौरतलब हो कि संपूर्ण स्वच्छ भारत मिशन के तहत हर गांव को ओडीएफ गांव बनाने की योजना चल रही है। इसके लिये व्यापक स्तर पर हर गांव के हर घर में शौचालय निर्माण किया जाना था। लेकिन मस्तूरी विकासखंड के कई गांवों में अभी तक शत प्रतिशत शौचालय का निर्माण नहीं हो सका है।साथ ही लावर  लावर, पेंड्री, सरगवा, मुड़पार  के गांव में शौचालय निर्माण के नाम पर कहीं पर सिर्फ गड्ढे खोद दिये गये हैं तो कहीं शौचालय की दीवार ही बनाई गई है और कहीं तो छत ही गायब है। इसके बावजूद कागजों में शत प्रतिशत शौच मुक्त ग्राम दर्शाया गया है।

मिल चुका पुरस्कार

मस्तूरी विकासखंड को पूर्ण ओडीएफ का पुरस्कार मिल चुका लेकिन वो भी महज वाहवाही के लिए आप को बता दे कि मस्तूरी ब्लॉक की अध्यक्षा को ओडीएफ के लिए पीएम द्वारा सम्मान मिल चुका है मगर ग्रामीण इज्जत घर के आभाव में स्व असम्मानित  महसूस कर रहे है ।