nav Pradesh logo

पुलिस प्रशासन ने की स्कुली बसो की जांच, निर्धारित मापदंड नही पाये जाने पर सुधार की दी समझाइश

Last Modified Aat : 04-Jul-18

News image
News image
News image
<

गरियाबंद - नए शिक्षा सत्र मे स्कुल खुलते ही पुलिस प्रशासन ने स्कुली बसो के फिटनेश एवं संचालन संबंधित निर्धारित मापदंडो की जांच प्रारंभ कर दी है। मंगलवार पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे के निर्देश मे स्थानीय पुलिस प्रशासन ने सुप्रीम कोर्ट के गाइड लाइन के अनुरूप विभिन्न स्कुलो मे चलने वाली बसो के फिटनेश की जांच की। जिसके कई बसो के निर्धारित मांपदंडो की कमी पाई गई। पुलिस प्रशासन द्वारा संस्था प्रमुख एवं बस चालको को संचालन के निर्धारित मापदंडो के साथ यातायात नियमो की जानकारी भी दी। 

पुलिस लाइन मे संपन्न हुई जांच प्रक्रिया मे सूबेदार उमेश राय, सउनि गंगाधर चन्द्राकर, आरक्षक विजय सेन, नीरज सोनी द्वारा कुल 07 स्कुली बसों एवं 01 टाटा मैजिक वाहन की जांच की गई। जांच मे एजंल्स एग्लों हाई स्कूल गरियाबंद की दो बसो, बस क्रंमाक सीजी-23 ए 0127 एवं सीजी 23 ए 0102 में स्पीड गर्वनर, सीसीटीवी कैमरा, जीपीएस लगा हुआ मिला, अग्नि शमनयंत्र नही होना एवं दस्तावेज जांच मे प्रदुषण प्रमाण पत्र की कमी पाई गई। श्ऱद्धा पब्लिक स्कूल गरियाबंद के पांच बसे जिसमे बस क्रंमाक सीजी-23 ए 0104,सीजी-04 ई 3070,सीजी-04ई2441, सीजी-04ई 2415, सीजी-23ए0103 एवं 01 टाटा मैजिक क्रंमाक सीजी-04 एचसी 5971 की जांच की गई। जिसमें स्पीड गर्वनर, सीसीटीवी कैमरा, जीपीएस, अग्नि शमनयंत्र संबंधित सभी वाहनो में कुछ न कुछ कमी पाई गई तथा वाहनों का दस्तावेज चेकिंग करने पर प्रदुषण प्रमाण पत्र की कमी पाई गई। जिसके तत्काल निर्धारित मापदंड के अनुरूप पूरा करने की सलाह दी गई। 

चेकिंग उपरांत सूबेदार उमेश राय द्वारा बस चालको-परिचालको को साफ-सुथरी वर्दी धारण करने व वर्दी में नेम प्लेट लगाने के निर्देश दिये गये। साथ ही बच्चो को नम्रता पूर्वक वाहन में बैठाने उतारने और अभद्र शब्दो