nav Pradesh logo

सरपंच सचिव ने तीस हजार रुपये का चाय पीने का कप गिलास की खरीदी

Date : 04-Jul-18

News image
News image
<
  • प्रस्ताव रजिस्टर में छेड़छाड़ कर पांच को पन्द्रह बनाकर राशि का किया आहरण

गरियाबंद । ग्राम पंचायत मैनपुर खुर्द जो कि जनपद मुख्यालय की पंचायत  की पंचायत है ,जंहा सीईओ,करारोपण अधिकारी, पंचायत इंस्पेक्टर, सभी उपस्थित रहते है जिनके नाक के नीचे ग्राम पंचायत मैनपुर खुर्द भ्रष्टाचार की नई इबारत लिख चुका है,पंचायत व्यबस्था में वे दिन लद गए जब कहा जाता था कि पंचों में परमेश्वर बस्ते है।अब तो सत्ता के मद में सरपंच इतने मदहोश हो चुके है कि लिखा पड़ी के साथ कमीशन खोरी पर अमादा है ,ग्राम पंचायत मैनपुर खुर्द  में भ्रस्टाचार कुकुर - मुत्ते की तरह पैर पसार चुका है। कमीशन का लेन देन गुप- चुप चलता था लेकिन अब तो लेन देन का खेल दस्तावेज में है बकायदा लेने वाले ओर देने वाले रेवेन्यू रसीद टिकट पर हस्ताक्षर शील मुहर  लगा कर लिखा पढी किया जाता है। ब्लाक के ग्राम पंचायत मैनपुर खुर्द का है जहां पंचायत के निर्माण कार्य को सरपंच सरिता सेन द्वारा ठेकेदार अजीत कुमार बिहारी से लिखा पड़ी के साथ कमीशन लिया ओर दिया गया। आर टी आई के तहत प्राप्त दस्तावेज ओर पंचों एवं गांव में हुये विकास कार्य बया करती है कि पंचायत के दस्तावेज में जितना कार्य होना बताया जा रहा है अगर उतना काम हकीकत में जमीनी स्तर पर हुआ होता तो गांव में समस्या नाम की कोई जीच ही नहीं रहता। सरपंच व सचिव के भ्रस्टाचार के इस तारतम्य मे छत्तीसगढ़ पंचायत ग्रामीण विकास  विभाग  के द्वारा दिनांक 28-11-2018 को मूलभूत योजना की  राशि व्यय के नियमो को ठेंगा दिखाकर उक्त राशि का भी जमकर बंदर बाट किया है, जबकि मूलभूत योजना की राशि से राष्ट्रीय पर्व,व विज्ञापन प्रकाशन  राशि खर्च नही की जाती है परंतु गणतंत्र दिवस पर 48,000 एवं विज्ञापन प्रकाशन पर 10,000 रु का व्यय किया है ,जबकि हद तो तब हो गई जब सरपंच ,सचिव ने मूलभूत राशि से दिनांक 18-06-2015 को प्रस्ताव क्रमांक 07 में कप,जग,ड्रम,गिलास खरीदी का भुगतान 30,000 रुपये का किया है।शासन-प्रशासन के आंखों में धूल झोकं कर जनता के पैसो का बंदर बाट कर अपने घरों को महलों में तब्दील करने में लगे हुए हैं। जनता बेचारी जिसे अपने परमेश्वर का दूसरा रुप मान कर न्याय के लिए अपने चुने हुए जनप्रतिनिधियों के सामने हाथ जोड़कर कलयुग का भगवान मानतीं है ऐसे कलयुगी पंच परमेश्वर भ्रष्टाचार के दलदल में सर से लेकर पैर तक डूबे हुए हैं। भ्रष्टाचार में लिप्त सरपंच सचिव का असली चेहरा से नकाब उठता है तो ऐसे भ्रष्ट लोगों के भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने वाले बड़े कमीशन खोर भ्रष्टाचारियों का साथ मिल जाता है और जनता बेचारी लाचार हो कर अन्याय की जिल्लत जिंदगी जीने को मजबूर हो जाती है। मैनपुर खुर्द ग्राम पंचायत का यही हाल है जहां हर कदम पर भ्रष्टाचार की गाथा लिखी गई है।                               

  •   पंचायत सचिव पुरुषोत्तम राम नागेश
  • -यह पूरा मामला मेरे कार्य काल का नहीं है जो हुआ है दस्तावेज के अनुसार नियम विरुद्ध हैं।                                   

 उपसंरपच अनिस सोलंकी मैनपुर

पंचायत प्रस्ताव क्रमांक 04 में मूत्रालय, शौचालय के साफ सफाई के लिए पांच हजार रुपये का प्रावधान बैठक में किया गया था लेकिन ओव्हर राइटिंग कर के पन्द्रह हजार कर दिया गया है एंव वार्ड पांच चबूतरा निर्माण कार्य के नाम पर राशि आहरण कर खर्च रिकार्ड में बताया जा रहा है लेकिन हकीकत यह है कि चबूतरा निर्माण वार्ड पांच में हुआ ही नहीं है। इस तरह के न जाने कितने फर्जी काम के नाम पर पंचायत फंडों पर डाका डाला गया होगा उच्च स्तरीय जांच होने पर लाखो का भ्रष्टाचार उजागर हो सकता है।                               

 सरपंच सरिता सेन -भाई साहब पंचायत में आप आकर जानकारी ले सकते हैं फोन पर कुछ नहीं बताऊंगी।