nav Pradesh logo

15 साल के बाद भी मुख्यमंत्री बस्तर के हालात से अनजान, अधिकारी कर रहे है गुमराह - बैज

Last Modified Aat : 03-Jul-18

News image
News image
News image
<

जगदलपुर । मानसून सत्र में विधायक चित्रकोट दीपक बैज ने मुख्यमंत्री से ऊर्जा विभाग में तारांकित प्रश्नों के माध्यम से पूछा कि-चित्रकोट विधानसभा के अंतर्गत कौन-कौन व कितने गांवों का शत- प्रतिशत विद्युतीकरण किया गया है और विद्युतीकरण का कार्य कहां प्रगति पर है ? कौन कौन से गांव में कार्य प्रारंभ नहीं किया गया? जिसका जवाब में देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा- 233 ग्रामों में से 186 ग्रामों में ग्रिड से व 9 गांवों में सोलर ऊर्जा के माध्यम से शत -प्रतिशत विद्युतीकरण कर लिया गया है व 38 में से 18 गांवों में विद्युतीकरण का कार्य प्रारंभ है, 20 में किया जाना शेष है।
बैज ने कहा कि 186 गांव में से आज भी कई गांवों में विद्युतीकरण का कार्य पूर्ण नहीं हुआ है, लेकिन पूर्ण बताया गया जो कि निम्न है-
1) देउरगांव,कोहकापाल -बिजली चालू नही है। 2) पखनार - 5 पारा में बिजली नहीं है। 3)रानसरगीपाल- 1 पारा में। 4)चंद्रगिरि - 10 घरों। 5) इडजेपाल- बिजली चालू नहीं है। (6) तोयनार- बिजली चालू नहीं। (7)पलवा —1 पारा में (8) कोरली— सौर ऊर्जा बंद है। (9) सूलेंगा — सौर ऊर्जा बंद होने से बिजली नहीं है। (10) कापानार में -कार्य प्रगति पर बिजली चालू नहीं है।
विधायक चित्रकोट ने सरकार पर तीखे प्रहार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री, 15 साल के बाद भी बस्तर के हालात से अनजान हैं और अधिकारियों के भरोसे ही विकास की बात कर रहे हैं, उनकी जानकारी कागज तक ही सीमित है, जिसे पूर्ण और प्रगतिरत बता रहे हैं, वहाँ पिछले 1 वर्ष से कार्य रुका हुआ है। आप चाहे तो इसकी जांच करवा लें, सदन में गलत जानकारी देकर जनता की जवाबदेही से नही बच सकते हैं।