nav Pradesh logo

ये 8 चीजें प्रैग्नेंसी पीरियड में नहीं खाना चाहिए, शिशु के लिए बन सकता है खतरा

Last Modified Aat : 03-Jul-18

News image
News image
<

प्रैग्नेंसी पीरियड हर महिला के सबसे खास टाइम होता है। इस दौरान महिलाओं को अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। क्योंकि इस समय जो महिला का आहार होता है वही गर्भ में पल रहे भ्रूण का भी होता है। ऐसे में समय में किसी भी गलत चीज का सेवन शिशु के लिए खतरा बन सकता है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे प्रैग्नेंसी पीरियड में नहीं खाना चाहिए। तो चलिए जानते है ऐसी कुछ चीजों के बारे में जो महिलाओं को गर्भावस्था में बिलकुल नहीं खाने चाहिए।

 

  प्रैग्नेंसी में इन चीजों से करें परहेज

1. पपीता
गर्भावस्था पपीता, इसका जूस, बीज, या कच्चे पपीते का सेवन न करें। इसमें अधिक मात्रा में लेटेक्स पाए जाते हैं, जोकि गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान पहुंचाते हैं। इसके अलावा इसका सेवन गर्भपात का कारण भी बन सकता है।

2.मछली और सी-फूड

 

मछली और सी-फूड में मरकरी नामक तत्व होता है, जिसे गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान पहुंचता है। इसलिए प्रैग्नेंसी में शेलफिश, मार्लिन, स्वोर्डफिश, शार्क और सुशी का सेवन न करें।
 

3. अनानास
प्रैग्नेंसी के दौरान अनानास का सेवन भी मिसकैरेज का कारण बन सकता है। इसलिए अनानास से परहेज करें।
 

4. डीप फ्राईड फूड
अत्यधिक तला हुआ या डीप फ्राईड भोजन खाने से भी बचें। भोजन में बहुत ज्यादा मसाले, मिर्ची खासकर लाल आदि से भी बचें।
 

5. कैफीन या कोल्ड ड्रिंक्स
प्रैग्नेंसी पीरियड के दौरान कोल्ड ड्रिंक्स, एरेटेड या फ्लेवरड पेय का सेवन भी खतरनाक होता है। वहीं, कैफीन की तासीर गर्म होने के कारण इससे गर्भ में पल रहे बच्चे पर नकारात्मक असर पड़ता है।

PunjabKesari

6. फास्टफूड खाने से परहेज
इस दौरान फास्टफूड जैसे बर्गर, चाउमिन, पीजा आदि से परहेज करें। बाहर होटल, रेस्तरां आदि के भोजन से भी परहेज करें। इससे मां और शिशु दोनों को नुकसान हो सकता है।
 

7. कच्चे या अंकुरित आहार से बचें
गर्भवस्था में कच्ची सब्जियों से परहेज करना चाहिए, खासकर कच्चे स्प्राउट्स और सलाद ड्रेसिंग। क्योंकि इसमें हानिकारक जीवाणु और वायरस शामिल हो सकते हैं, जो शिशु को नुकसान पहुंचाते हैं।
 

8. कच्चा दूध व पनीर
गर्भावस्था में कच्चे दूध और इससे बनने वाले पनीर के सेवन से भी परहेज करना चाहिए। इससे गर्भ में पल रहे शिशु के मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

PunjabKesari