nav Pradesh logo

बेघरो को दिलाया पालिकाध्यक्ष ने छत:पालिका अध्यक्ष की मेहनत रंग लाई

Date : 01-Jul-18

News image
News image
News image
News image
<
नवापारा राजिम । विगत दो माह से नवापारा नगर में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 25 परिवार, जो कि राज्य सरकार द्वारा नियुक्त की गई एजेन्सी एवं प्रशासन की लापरवाही के चलते भुगतान न मिलने के कारण बेघर हो गये थे, उन्हें पालिका अध्यक्ष विजय गोयल की मेहनत से आज दिनांक 30 जून को उनके प्रथम चरण का भुगतान कर दिया गया ।
प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा नियुक्त की गई च्वाईस कंसल्टेन्ट एजेन्सी, जिसका कार्य हितग्राहियों के पट्टे का सर्वे कर उन्हें आगे की प्रक्रिया के लिए नामित करना था।उन्होंने नवापारा नगर में हितग्राहियों के घर जाकर नीला व पीला पट्टा, जो कि 1998 व 2002 में जारी किये गये थे।देखकर हितग्राहियों से कहा कि आप अपना पुराना मकान गिराकर नये मकान का निर्माण चालू कर दें। जब हितग्राहियों ने अपने प्रथम चरण का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया तो वे भुगतान हेतु नगर पालिका के तत्कालीन सहायक अभियंता सिन्हा के पास पहुंचकर भुगतान हेतु निवेदन किया जिस पर श्री सिन्हा ने भौतिक सत्यापन हेतु जब उनके आवास पर पहुंचकर पट्टों की जांच की तो उन्होंने पाया कि इन पट्टों पर ना तो स्थायी पट्टा लिखा है ।और ना ही अस्थायी पट्टा । शासन के नियमानुसार प्रधानमंत्री आवास का निर्माण सिर्फ स्थायी पटटो वाली जमीन पर ही किया जाना है।उक्त स्थिति में ए .ई .सिन्हा ने उन सभी 25 हितग्राहियों के भुगतान हेतु अपनी असमर्थता नियमों का हवाला देते हुए जताई। जब 25 हितग्राहियों को पालिका से भुगतान नहीं हो पा रहा था तब उन्होंने नगर पालिका अध्यक्ष विजय गोयल के समक्ष अपनी गुहार लगाई। वार्ड क्र. 16 के कुलेश्वर देवांगन के नेतृत्व में सभी 25 हितग्राही पालिका अध्यक्ष से मिले और उन्हें अपनी व्यथा बताई। सभी बातों का संज्ञान लेते हुए पालिकाध्यक्ष ने सभी 25 हितग्राहियों को 4 गाड़ी के माध्यम से अभनपुर एस .डी. एम .कार्यालय ले गये एवं तत्कालीन एस .डी .एम .श्री जोगेन्द्र नायक से इस स्थिति का समाधान निकालने हेतु चर्चा की जिस पर श्री नायक ने कहा कि वे अपने रायपुर एस .डी .एम .कार्यालय से सभी पट्टों की जांच करवाकर जल्द ही मामले को सुलझाने का प्रयास करेंगे। चूंकि पहले एस. डी. एम .कार्यालय रायपुर में था एवं सभी रिकार्ड भी रायपुर कार्यालय में ही है। अभनपुर में एस डी एम कार्यालय खुलने के बाद भी उन रिकार्डों को यहां शिफ्ट नहीं किया गया है इसलिए एस डी एम ने तहसीलदार शर्मा से उक्त सूची रायपुर कार्यालय से मंगा कर यह देखने को कहा कि यह 25 हितग्राहियों के नाम सही है अथवा नहीं। इसी बीच अभनपुर एस डी एम जोगेन्द्र नायक का ट्रांसफर हो गया और मामला फिर से अटकता हुआ नजर आया। इसी बीच रायपुर एस डी एम कार्यालय से सूची आ गई जिसमें उक्त 25 हितग्राहियों में से 20 हितग्राहियों को पट्टा जारी किये जाने की बात सामने आई परंतु इस सूची में भी यह स्पस््ट  नही था कि यह पट्टा स्थायी है या अस्थायी । नियमों के अनुसार पालिका को सिर्फ स्थायी पट्टे वाली जमीन पर ही आवास का निर्माण करवाना होता है। इस स्थिति में तत्कालीन नगर पालिका के अधिकारी असमंजस की स्थिति में आ गए और साथ ही साथ नियमों के कारण जिला प्रशासन भी उहापोह की स्थिति में दिखाई दिया। इस घटनाक्रम के चलते तत्कालीन मुख्य नगर पालिका अधिकारी विकास पाटले और तत्कालीन सहायक अभियंता सिन्हा को नगरीय प्रशासन विभाग ने निलंबित कर दिया परंतु इस पूरे घटनाक्रम में कहीं भी उन हितग्राहियों का भला होता नजर नहीं आ रहा था जो बिना किसी गलती के बेघर हो गये थे। पालिकाध्यक्ष विजय गोयल लंबे समय तक जिला प्रशासन पर भरोसा कर रहे थे कि कोई न कोई रास्ता जरुर निकलेगा परंतु जब श्री गोयल को कोई समाधान निकलता नहीं दिखा तब उन्होंने नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल के कान में पूरी स्थिति को बताया जिस पर श्री अमर अग्रवाल ने तुरंत नगरीय प्रशासन के संचालक निरंजन दास को इस स्थिति का समाधान निकालने हेतु निर्देशित किया। इसके बाद श्री गोयल ने निरंजनदास से मुलाकात की जिस पर श्री गोयल की बातों को गंभीरता से सुनते हुए संचालक महोदय ने अपने अधीनस्थों से पूरे प्रकरण की वस्तुस्थिति जाननी चाही। दिनांक 29 जून को पालिका अध्यक्ष विजय गोयल, मुख्य नगर पालिका अधिकारी और इंजीनियर के साथ नगरीय प्रशासन विकास विभाग के अधिकारियों के साथ रायपुर में एक मीटिंग बुलाई जिस पर रास्ता निकालते हुए नगरीय प्रशासन संचालक ने सही पाये गये 20 हितग्राहियों को तत्काल भुगतान करने की बात पालिका के अधिकारियों को कही जिस पर त्वरित रुप से 30 जून को सभी 20 हितग्राहियों को नगर पालिका के द्वारा भुगतान कर दिया गया । 
विगत 2 माह से नगर में इस मुद्दे पर राजनीति गर्म थी परंतु पालिकाध्यक्ष की मेहनत से उन 20 हितग्राहियों को भुगतान प्राप्त हुआ है जिससे वे अपने आवास का निर्माण अब बिना किसी परेशानी के आगे बढ़ा सकते हैं। अपने बैंक खाते में पैसा आने के बाद हितग्राहियों ने पालिकाध्यक्ष विजय गोयल के प्रति आभार व्यक्त किया । आभार व्यक्त करने वालों में कुलेश्वर देवांगन, धनेश्वरी बाई साहू, कुलेश्वरी यादव, प्रेमिन बाई, रामखिलावन निर्मलकर, पुष्पा ध्रुव, बिमला यादव, कुंतीबाई ध्रुव, दुकलहिन निषाद, सुमित्रा निषाद, पुष्पा साहू, भक्तूराम निषाद, जहुराबाई साहू, चंपाबाई निषाद, चैतीबाई निषाद, अगसियाबाई, सुखवंतिनबाई, खेलूराम साहू, सरोजबाई यादव, पुनित यादव, कांति यादव सहित बड़ी संख्या में हितग्राही मौजूद थे। समस्त हितग्राहियों को आज ही भवन अनुज्ञा उपाध्यक्ष दयालुराम गाड़ा, पी.डब्लू.डी.सभापति प्रसन्न शर्मा, एल्डरमेन साधना सौरज, पार्षदगण मयाराम साहू, श्रीमती रेखा बंजारे, विनोद कंडरा की उपस्थिति में प्रदान किया गया।
 
 
मैं इस पूरे प्रकरण के निदान हेतु नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल जी के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ कि उन्होंने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए गरीबों को उनका हक दिलवाया । साथ ही साथ नगरीय प्रशासन के संचालक श्री निरंजनदास, उपसंचालक श्री अभिनव अग्रवाल एवं प्रधानमंत्री आवास के छŸासगढ़ नोडल प्रभारी श्री शांडिल्य जी के प्रति भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ। प्रधानमंत्री आवास योजना के चलते यदि किसी भी हितग्राही को आवास हेतु परेशानी हो रही है तो वो नगर पालिका के पीछे स्व.षिदास वैष्णव सांस्कृतिक भवन परिसर में आकर रह सकते हैं। उस हेतु हमने व्यवस्था चाकचौबंद कर ली है। शेष 5 हितग्राहियों के भुगतान का रास्ता जल्द से जल्द निकालकर उन्हें भी भुगतान कर परेशानी से निजात दिलाया जायेगा - विजय गोयल