nav Pradesh logo

नक्सली पुनर्वास योजना के तहत आत्मसमर्पित महिला नक्सली को पुलिस अधीक्षक ने सौंपा 5 लाख का चेक, जीवन यापन की समस्या से मिली निजात

Date : 29-Jun-18

News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
<

गरियाबंद (नवप्रदेश)। पुलिस अधीक्षक एम. आर. आहिरे ने आज11 वीं बटालियन के कमांडेंट एवं सीआरपीएफ 65 के कमांडेंट की उपस्थिति में  पत्रकार वार्ता के बीच  नक्सली पुनर्वास योजना के तहत जहां एक समर्पित एरिया कमेटी  के मेंबर श्रीमती लक्ष्मी श्यामवती  गडचिरोली महाराष्ट्र को 500000 तथा उनके पति को एक लाख तथा एक अन्य महिला तुलेश्वरी सोरी जिसके पति को नक्सलियों ने हत्या कर दी थी उसे पुनर्वास नीति के तहत 500000 दिया इस तरह कुल 1100000 रूपया इन पीडि़त महिलाओं को दिया गया वहीं दूसरी ओर बीते दिनों नक्सली कमांडर सेवक राम के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने को लेकर सूचना देने वाले तीन गोपनीय सैनिकों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन देकर उन्हें आरक्षक बना दिया गया वहीं दूसरी ओर मुठभेड़ में शामिल पुलिस जवानों को 500000 देने की अनुशंसा वह आउट ऑफ टर्न प्रमोशन की अनुसनसा शासन से की गई है जल्द ही यह इनाम भी उन्हें प्राप्त हो जाएगा आज दोपहर पुलिस अधीक्षक एम आर आहिरे ने पत्रकारों के समक्ष आत्मसमर्पित नक्सली पुनर्वास नीति के तहत गरियाबंद में नक्सली लक्ष्मी श्यामवती उसेंडी निवासी गडचिरोली महाराष्ट्र संजय पति उर्फ श्राद्ध उत्तर को 500000 एवं 1 00000एका चेक प्रदान किया साथ ही बीते दिनों मैनपुर थाना के अंतर्गत माओवादियों के द्वारा ग्राम पेंड्रा में अनिल कुमार सूरी की हत्या पर उसकी पत्नी को तुलेश्वरी सोरी को 500000 दिया गया इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि पुलिस की पुनर्वास नीति के तहत प्रयास कर रहे हैं कि सभी पीडि़तों को जल्द से जल्द राशि मिल जाए इसी उद्देश्य को लेकर उन्होंने आज इस राशि का वितरण किया है दरअसल उनकी मंशा है कि समाज से भटके हुए नक्सली आत्मसमर्पण करें और शांति के रास्ते से अपना जीवन यापन करें इस उद्देश्य को लेकर उन्होंने आज शासन के द्वारा प्रदत्त योजनाओं के तहत आत्मसमर्पित वह एक पीडि़त महिला को राशि वितरित किया है साथ ही बीते दिनों नक्सली कमांडर सेवकराम के मुठभेड़ में मारे जाने पर  गोपनीय सैनिक के रूप में 3 लोगों को पदोन्नत कर आरक्षण बना दिया गया है वही इस मुठभेड़ में शामिल आरक्षक व अन्य लोगों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन एवं उन्हें 500000 उचित इनाम की भी अनुसाश राज्य शासन से की है नक्सली क्षेत्र में दहशत फैलाने के उद्देश्य से जगह-जगह पेड़ काट रहे हैं उनका उद्देश्य मात्र आम जनता को तकलीफ देना है जिससे प्रचार-प्रसार मिले चाहते हैं दरअसल बीते दिनों नक्सली कमांडर सेवकराम के मारे जाने के बाद नक्सली बौखलाहट का ही परिणाम है वह अपनी बौखलाहट के चलते गरियाबंद जिला में अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे हैं किंतु हम उन्हें किसी भी मन सुबह पर कामयाब नहीं होने देंगे एन एच 130 जो रायपुर से उड़ीसा को जोड़ती है यह मात्र एक सड़क है जिससे आम जनता के उपयोग के लिए है और उन्हीं जनता को परेशान करने के उद्देश्य से नक्सली पेड़ काट रहे हैं जो कि आम जनता के लिए ठीक नहीं है आम जनता बहुत समझदार है  नक्सली तरह-तरह के प्रोपेगैंडा कर रही है यहां आम जनता उनके बहकावे में नहीं आ रही है इसलिए वे परेशान हैं और ऐसा प्रयास कर रहे हैं कि लोगों को तकलीफ हो इस बार के तेंदूपत्ता सीजन में नक्सलियों का बहुत बड़ा नुकसान हुआ है पुलिस की सर्चिंग में लगातार जारी रही और प्रति पल खबर लेती रही जिसके चलते उन्हें इस बार तेंदूपत्ता में वह लाभ नहीं मिल पाया जो उम्मीद लगाए बैठे थे जिसके चलते उनके हौसले पस्त हैं और वे बौखलाए हुए हैं अगर नक्सली आमजनों के इतने  हितेषी होते तो स्कूल सड़क और अस्पतालों का विरोध नहीं करते आज  विरोध करके वे जनता को विकास की ओर बढने नही दे रहे है  बस्तर में भी वे स्कूल के बच्चों को 8वी और 5वी से ज्यादा पढऩे नहीं दे रहे हैं क्योंकि उन्हें डर है कि बच्चे पढ़ पढ़ कर पुलिस ना बन जाए आप लोगों को यह बताते हुए भी दुख हो रहा है कि बीते दिनों पेड़ काटने के बाद अनेक अस्पताल के मरिजों का एंबुलेंस वापस हो गए मरीजों की जीवन  तकलीफदायक हो गया उन्होंने अंत में नक्सलियों से पुन:   कहा कि वह समाज की मुख्यधारा से जुड़ कर आमजन  जन जीवन व्यतीत करें और शासन उनके पुनर्वास नीति के तहत काफी कुछ उनके राहत के लिए देना चाहती है और आगे के जीवन के लिए कौशल विकास योजना के तहत उन्हें जोड़कर उनके जीवन में सुख शांति लाना चाहती है जरूरत है तो उन्हें आत्मसमर्पण करने की और आम जनजीवन से जुडऩे की।