nav Pradesh logo

मानस की चौपाइयों मे जीवन का सार मानस मर्मज्ञ डा.  विजय दुबे नगर मे

Date : 19-Aug-18

News image
News image
News image
News image
<

रायगढ़  । छत्तीसगढ़ रामचरित मानस कमेटी के महासचिव व विख्यात मानस मर्मज्ञ डा विजय दुबे पिछले कुछ दिनों से नगर मे उपलब्ध हैं। राष्ट्रीय कवि व छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के अध्यक्ष पद्मश्री डा. सुरेन्द्र दुबे के ज्येष्ठ भ्राता डा. विजय दुबे फ्रीडम फाइटर स्व तोडाराम जोगी के जन्मशती समारोह मे बतौर वक्ता नगर मे आमंत्रित किये गये थे। इसकी जानकारी जब नगर की प्रख्यात आध्यात्मिक संस्था दिव्य जीवन संघ शाखा को हुई तो संघ पदाधिकारियों ने मानस मनीषी डा. दुबे को आमंत्रित करते हुये दिव्य जीवन संघ शाखा कार्यालय जंजघर के सामने निरंजन डाइंग भवन स्थित तक साथ लिवा लाये व औपचारिक माहौल मे दिव्य जीवन संघ शाखा के संयोजक जगदीश मेहर के द्वारा शॉल व श्रीफल से डा.विजय दुबे को सम्मानित किया गया। तत्पश्चात रामचरित मानस के मर्मज्ञ की उपलब्धता का लाभ लेते हुये दिव्य जीवन संघ कार्यालय मे लयबद्ध मानस पाठ का कार्यक्रम शुरु हो गया। डा. विजय दुबे के मुख से मानस की चौपाईयां समूचे माहौल को राममय करने लगी और देखते ही देखते भक्तिरस से लबरेज माहौल मे मानस की स्वरलहरियां तैरने लगी। डा. विजय दुबे ने भी नगर के भजनानंदियों के साथ गोस्वामी तुलसीदास के मानस रस मे डूबकर आनंद लिया साथ ही मानस की कुछ चौपाइयों का भावार्थ भी बताते हुये मानस मे छिपे मानवीय भावों को भी उल्लेखित किया। संगीतमय मानस पाठ मे उस्ताद कलाकार व अध्यात्म प्रेमी जगदीश मेहर हारमोनियम पर तो रामायण सिंह ढोलक पर साथी कलाकारों के वाद्य यंत्र के सुर मे सुर मिला रहे थे।  देर रात तक दिव्य जीवन संघ कार्यालय मे मानस सुधा का रसास्वादन चलता रहा।  कार्यक्रम मे स्थापित साहित्यकार शिवकुमार पांडेय, भागवतविद् प्रो. केके तिवारी, शिक्षाविद् भीमसेन मिरानिया, कवि कमल बहिदार वरिष्ठ पत्रकार हरेराम तिवारी, श्रीमती लक्ष्मी मेहर सहित नगर के अन्य मानस प्रेमियों की उपस्थिति रही। मिष्ठान प्रसाद वितरण के साथ कार्यक्रम का समापन कर अतिथि मानस वक्ता डा. विजय दुबे को आत्मीय भाव से विदाई दी गई।