nav Pradesh logo

सर्जिकल स्ट्राइक: बीजेपी ने सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय सेना के बजाय मोदी को दिया : कांग्रेस

Date : 28-Jun-18

News image
<


नई दिल्ली । सितंबर 2016 में पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले कश्मीर में आतंकियों के ठिकानों पर भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के 21 महीने बाद सेना की उस बहादुरी का विडियो सामने आने के बाद कांग्रेस ने मोदी सरकार पर राजनीतिक फायदे के लिए सेना के इस्तेमाल का आरोप लगाया है। सर्जिकल स्ट्राइक का विडियो सामने आने के अगले दिन गुरुवार को कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मोदी सरकार पर सेना के शौर्य, बलिदान, पराक्रम और साहस का इस्तेमाल राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए करने का आरोप लगाया। सुरजेवाला ने कहा कि पहले की सरकारों के दौरान भी सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक और इस तरह की कार्रवाइयों को अंजाम दिया। उन्होंने कहा कि अटल और मनमोहन सरकार के दौरान भी ऐसी कार्रवाइयां हुईं, लेकिन सेना के पराक्रम का राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल की इस तरह की बेशर्म कोशिश कभी नहीं की गई।
 सबूत मांगने संबंधी सवालों पर टालमटोल वाला जवाब
सुरजेवाला ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के विडियो को जारी करने की जरूरत नहीं थी क्योंकि देश सेना का सम्मान करता है। लेकिन जब उनसे सवाल किया गया कि कुछ राजनीतिक दलों ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाए थे और सबूत मांगे थे तो कांग्रेस प्रवक्ता ने घुमा-फिराकर जवाब दिया। सवाल के जवाब में सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी के ही 2 नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्रियों (यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी) ने सवाल उठाए थे। यह बीजेपी का अंदरूनी मामला है।
 कांग्रेस ने सरकार से सवाल किया है कि क्या सर्जिकल स्ट्राइक के विडियो के सार्वजनिक कर सीमा पर तैनात जवानों और सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों की सुरक्षा खतरे में नहीं डाला गया है? सही उपकरण और बजट न देकर सरकार जवानों की जान जोखिम में नहीं डाल रही है?
  बीजेपी ने सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय सेना के बजाय मोदी को दिया
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मोदी और शाह पर जब-जब फेल होने का खतरा मंडराता है तो वे सेना की बहादुरी का राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल की बेशर्म कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि यूपी चुनाव में बीजेपी ने सर्जिकल स्ट्राइक का लज्जाजनक तौर पर राजनीतिक इस्तेमाल किया गया। बैनर-पोस्टर लगाकर सर्जिकल स्ट्राइक का पूरा श्रेय सेना के बजाय बीजेपी और मोदी को दे दिया।
  कांग्रेस ने सबसे पहले सर्जिकल स्ट्राइक का समर्थन किया
सुरजेवाला ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के तुरंत बाद सोनिया गांधी और कांग्रेस ने इसका स्वागत किया था। उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, तत्कालीन उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी ने आतंकियों पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक के लिए सेना की बहादुरी और सरकार को समर्थन दिया था। लेकिन सत्ताधारी दल को याद रखना होगा कि सैनिकों की बहादुरी का राजनीतिक लाभ के लिए इस्तेमाल नहीं कर सकते। सुरजेवाला ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक का विडियो जारी किया गया, जिसकी जरूरत नहीं थी क्योंकि देश सेना का सम्मान करता है।
  हेडलाइन मैनेजमेंट के लिए तोड़ दी हर परंपरा और परिपाटी
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि सरकार हेडलाइन मैनेजमेंट से पहले इस सिद्धांत को ख्याल में रखे कि सेना का राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल न किया जाए। उन्होंने कहा, 'बीजेपी सरकार ने हर परंपरा और परिपाटी तोड़ दी है....अमित शाह ने तो हद ही कर दी...7 अक्टूबर 2016 को यहां तक कह डाला कि 68 सालों में सेना पहली बार एलओसी पार गई है और उन्होंने यह भी कहा कि वह इसका राजनीतिक फायदा उठाएंगे।  सुरजेवाला ने कहा कि शहीद हेमराज की पत्नी समेत कई शहीदों की पत्नियों ने अपील किया था कि शहीदों की शहादत का राजनीतिक फायदा उठाने के लिए इस्तेमाल न किया जाए, लेकिन उनकी अपील को दरकिनार किया गया।
  सरकार के पास पाकिस्तान को लेकर कोई ठोस नीति नहीं
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मोदी सरकार की पाकिस्तान को लेकर ठोस नीति नहीं है, नहीं तो इतने सीजफायर उल्लंघन नहीं होते, इतने बार आतंकी हमले नहीं होते। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार पाक प्रायोजित आतंकवाद रोकने में विफल रही है। सुरजेवाला ने कहा कि सितंबर 2016 के बाद 146 सैनिक शहीद हो चुके हैं, पाकिस्तान ने 1600 से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किया है और इस दौरान 79 आतंकी हमले हुए हैं।
  छद्म राष्ट्रवादियों के सेना के प्रति दुराग्रह की खुली पोल
सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर सेना के प्रति दुराग्रही होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, 'सेना को लेकर मोदी सरकार का दुराग्रह इससे जाहिर होता है कि सरकार ने सेना के बजट में कटौती की...मजबूरन लेफ्टिनेंट जनरल शरत चंद्र को कहना पड़ा कि सेना के 67 प्रतिशत हथियार इस्तेमाल योग्य नहीं हैं। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि हिंदुस्तान के फौजियों को न ड्रेस मिलेगी...न जूते मिलेंगे न दूसरे उपकरण मिलेंगे...खुद खरीदने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि रक्षा मामलों की संसदीय समिति ने कहा है कि सेना के आधुनिकीकरण के लिए सरकार ने पैसे नहीं दिए...उल्टे मौजूदा खरीद के लिए 29000 करोड़ रुपये के बजाय 21 हजार करोड़ दिया गया। ऑर्डिनंस फैक्टरी से खरीद 94 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत करने का प्रस्ताव है। सुरजेवाला ने कहा कि 3 साल से पूर्व सैनिक आंदोलनरत हैं। 3 साल पहले ऐलान के बाद भी वन रैंक वन पेंशन नहीं दिया गया। उन्होंने कहा, 'एक साल से सैनिकों का राशन गैरकानूनी तरीके से बंद कर दिया गया है। एक साल से सेना के जवानों का मसाला भत्ता बंद कर दिया गया है....रेजिमेंट अलाउंस एक साल से घटाकर आधा कर दिया गया है....सेन्ट्रल कैंटीन पर मोदीजी और जेटलीजी ने पहली बार जीएसटी लगाया।