nav Pradesh logo

तर्रा मिडिल-प्रायमरी स्कूल भवन जर्जर

Date : 09-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
<

अजीत पाटकर

कोरिया (नवप्रदेश)। जिला कोरिया के सोनहत ब्लॉक के बसेर पंचायत का आदिम जाति पूर्व कल्याण माध्यमिक शाला का भवन और बगल मे ही स्थित प्राथमिक शाला भवन दोनो का निर्माण करीब 10 -12वर्ष ही पहले हुआ है परन्तु आज वर्तमान मे इन दोनो शालाओं के भवन इस कदर जर्जर हो चुके हैं कि मानो कब इसकी छत हल्के से झटके मे गिर जाये कहा नही जा सकता यहा पर अध्यनरत छात्र छात्राओं सहित शिक्षकों मे भी भवन गिरने का भय ब्याप्त रहता है ।

भ्रमण के दौरान काफी ग्रामीणों ने बताया कि भवन काफी वर्षों से इसी जर्जर हालत मे है यहाँ पर पंचायत द्वारा और भी कई भवनों का निर्माण कराये गया लेकिन हमेशा गुणवत्ता को ताक मे रखकर ही निर्माण कराया गया जिसका जीवंत उदाहरण इस प्रांगण मे अपनी आप बीती कह रहे अतिरिक्त कक्ष सहित मध्यान्ह भोजन कक्ष को देखा जा सकता है ग्रामीणों ने बताया हम लोगो ने ब्याप्त समस्या हेतु भवन सुधार के लिये सरपंच से कहा पर सरपंच ने आज तक इस ओर सक्रियता से कोई भी पहल नही किया ग्रामीणों ने सूत्रों का हवाला देते हुये यह भी बताया की पंचायत के सरपंच ने भवन मरम्मत हेतु एक दो बार कुछ राशि भी निकाला पर उसका बन्दरबाट कर पैसे का दुर्पयोग कर लिया हालांकी ग्रामीणों के बातों की पुष्टी लगभग हो गई जब उक्त पंचायत के जिम्मेदार प्रतिनिधि द्वारा यह बताया गया की इस पंचायत का सरपंच बहुत ही लापरवाह और निष्क्रिय गतिविधियों वाला है साथ ही भवन मरम्मत के नाम की राशि भी निकाल ली गई पर मरम्मत नही हुआ उक्त प्रतिनिधि ने यह भी बताया की सोनहत ब्लॉक का यह बसेर ग्राम पंचायत विकास कार्यों मे आज भी बहुत पीछे है यहाँ पर 1 वर्ष पर्व के स्वीकृत कार्य जैसे नाली निर्माण,शौचालय,सी सी सड़क सहित कई भवनों के निर्माण की अग्रिम राशि निकाल ली गई है और कार्य अब तक शुरु ही नही कराये गये हैं और जो कार्य किये भी गये तो गुणवत्ता विहीन सामग्रियों का उपयोग करके। जब हमने इन सभी पहलुओं पर अपनी पड़ताल शुरु की तो यहाँ पर निर्माण कार्यों पर विचौलियों की सक्रियता भी दिखी साथ ही काफी सारे कार्यों को सरपंच द्वारा गुणवत्ता विहीन कार्य कराना देखा गया । 

यहाँ पर ब्याप्त तमाम समस्याओं को दरकिनार करते हुये हमने दोनो स्कूल भवनो की हालत के मद्देनजऱ इसे सुधारने पर जोर देते हुये ब्लॉक सी ई ओ संजय राय से बात की तो उन्होने जल्द ही भवनों को सुधारने की बात कही जबकि समस्या करीब एक माह पूर्व, जिला शिक्षा अधिकारी राकेश पाण्डेय को  अवगत कराया गया था पर अब तक उन्होने भी समस्या को गम्भीरता से नही लिया!हालांकी राहत की बात जरुर है क्यूकी जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने जल्द ही भवन को सुधरवाने की बात कही !जिले के इन अधिकारियों की माने तो सुधार हो जायेगा पर क्या वैकल्पिक ब्यवस्था स्थाई समाधान है? नही क्यूकी पूरी तरह जर्जर और डिसमेन्टल भवन को तोडकर नया भवन बनना ही समस्या का पूर्ण निदान होगा।