nav Pradesh logo

वियाग्रा ले रहे हैं तो हो जाइए सावधान, हृदयघात से सहित आंखों को पहुंचता है नुकसान

Date : 09-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
News image
<

एफडीए ने 1998 में वियाग्रा के उपयोग को मंजूरी दी थी तब से दुनिया भर के लगभग 23 लाख पुरुष वियाग्रा का इस्तेमाल कर रहे हैं। पिछले कुछ सालों में महिलाओं में भी वियाग्रा का चलन बढ़ा है। परंतु लंबे समय तक वियाग्रा लेने से न केवल हृदयाघात का खतरा हो सकता है, बल्कि गर्भवती महिलाओं के वियाग्रा के इस्तेमाल से उनकी कोख में पल रहे बच्चे की जान जाने का भी जोखिम हो सकता है।

नीदरलैंड्स में 11 शिशुओं की मौत के बाद उस रिसर्च पर रोक लगा दी गई, जिसमें महिलाओं को वियाग्रा दी जा रही थी। इस रिसर्च के तहत गर्भवती महिलाओं को वियाग्रा दी गई थी, जिसका असर बच्चों के जन्म के बाद देखने को मिला। 2015 में शुरू हुई इस रिसर्च में 11 अस्पतालों के साथ मिलकर कोख में पल रहे बच्चे का विकास ठीक करने के लिए 93 महिलाओं को वियाग्रा दी गई। इनमें से 19 बच्चों की जन्म के बाद मृत्यु हो गई।

10 साल की अवधि के दौरान लगभग 25000 पुरुषों पर किए एक अध्यमयन के अनुसार, जो पुरुष इरेक्टाइल डिस्फंक्शंन की समस्याज के लिए वियाग्रा का इस्तेशमाल करते है, वह मेलेनोमा के उच्च जोखिम पर होते हैं, हालांकि वह मेलेनोमा के प्रमुख जोखिम कारक जैसे परिवार के इतिहास और यूवी की तीव्रता को नियंत्रित करते हैं। यह जर्नल जामा इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित किया गया था। इसके अलावा शोध इस बात की भी खोज कर रहे हैं कि कैसे इसमें ली जाने वाली खुराक और आवृत्ति मेलेनोमा जोखिम से जुड़ी है।

romance के लिए इमेज परिणाम

वियाग्रा का प्रयोग अंधापन सहित कई दृष्टि समस्याहओं का कारण है। यह दृष्टि में परिवर्तन जैसे धुंधला दिखना, नीले और हरे रंगों के बीच भेद में कठिनाई या वस्तुओं में नीले रंग को देखना आदि समस्याओं का कारण बनता है। शोध की रिपोर्ट के अनुसार, कुछ पुरुषों ने वियाग्रा लेने के बाद दृष्टि में आंशिक नुकसान का अनुभव किया। ऑप्टिक तंत्रिका में रक्त प्रवाह के अवरुद्ध होने को वियाग्रा से संबंधित दृष्टि हानि का कारण माना जाता है। (एजेंसी)