nav Pradesh logo

कॉलेज छात्र-छात्राओं ने विभिन्न मांगों को लेकर किया प्रदर्शन,  प्रशासन द्वारा विद्यार्थियो के भविष्य को लेकर खिलवाड़ का आरोप 

Date : 07-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
News image
<

पखांजूर (नवप्रदेश)/ विगत कई सालो से अपने बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहे गेंद सिंह महाविद्यालय पखान्जुर के छात्र-छात्राए,खुले तौर पर शासन-प्रशासन विद्यार्थियो के भविष्य को लेकर खिलवाड़ कर रहे है।सात अगस्त मंगलवार को सभी छात्र संगठन सयुक्त रूप से एकत्रित हो शासन प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए चक्काजाम कर विरोध प्रदर्शन किया गया।छात्रों की इस महा आंदोलन को सभी विपक्षी राजनितिक पार्टियो,स्थानीय नागरिको ने भी पूर्ण समर्थन दिया।व्यापारिक वर्गों द्वारा इनके समर्थन में व्यापारिक प्रतिष्ठानें पुर्णत: बन्द रखे,वाही परिवहनों के भी चक्के थमे रहे। इसे शिक्षा विभाग की लापरवाही कहे या भाजपा सरकार की नाकामयाबी,ब्लॉक के एक मात्र कॉलेज होने से दूर-दूर के ग्रामीण अंचलों के बच्चे यह शिक्षा प्राप्त करने आते है,यैसे सूरत में सीट की कमी छत्रों के लिए सबसे बड़ी  मुसीबत का कारण बन जाता है।यह 75त्न अंक प्राप्त छात्रों को भी प्रवेश नही दिया जा रहा है।आज तक इस कॉलेज को केंटीन की सौगात तक नही मिल पाया।कॉलेज केम्पस में शौचालय की अतिदयनीय स्थिति है,पीने की पानी की समस्या विकराल है,छात्र राजा मंडल,बविता मृधा, अमल मंडल,राधे श्याम आदि छात्र नेताओं ने मीडिया को बताया कि गेंदसिंह महाविद्यालय पखान्जुर में शिक्षकों की कमी,और सीट की कमी ऐ दो प्रमुख्य समस्या हम छात्र-छात्राए सालो से झेल रहे है।शासन-प्रशासन और उच्च शिक्षा विभाग को कई बार लिखित अवगत कराने के बावजूद आज तक कोई सकारात्मक पहल नही हुआ,जिस वजह से हम सभी छात्र-छात्राए सीधी तौर पर सड़को की लड़ाई लडऩे का निर्णय लिए है

छात्र नेता सुब्रत ने कहा पखान्जुर कॉलेज में कला विज्ञान और वाणिज्य के साथ पीजी की कक्षा संचालित हो रहे है,परन्तु वर्तमान में दो ही साहयक प्राध्यापक होने से छात्रों की पढ़ाई काफी प्रभावित हो रहे है।

अनुराधा मण्डल ,अनामिका सरकार ने बताया कि एम ए भाग एक तथा दो दोनों ही क्लास एक साथ संचालित होने से शिक्षा की गुड़वत्ता को बयां कर पाना ,प्रति वर्ष जनभागीदारी से अतिथि शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति कर अध्यापन कार्य कराया जाता है।परंतु चालू वर्ष अब तक शिक्षकों की नियुक्ति नही करना शिक्षा विभाग की लापरवाही को उजागर कर रहा है।साथ ही बॉयो सेमेस्टर में मात्र 50 सीटे होने से बहुतों को अपनी पढ़ाई छोडऩी पड़ी रही है।सरकार अपनी कर्तव्यों से यु मुह नही फेर सकती उन्हें हमारी मांगे जल्द से जल्द पूरी करनी ही होगी।शहर में छात्रओ ने चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस प्रशासन को ज्ञापन सौप कर शासन को सात दिनों का मोहलत देते हुए,मांग पूरा नही होने पर उग्र आंदोलन की स्प्ष्ट चेतावनी दे डाली।कॉलेज छात्राओं के इस आंदोलन में किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए,सुरक्षा के मध्यनजर पुलिस की चाक चौबन्ध ब्यवस्था रही।

छात्रों के भविष्य को लेकर खिलवाड़ करना,बहुत ही दुर्भाग्यजनक है।शिक्षा को लेकर भाजपा सरकार की सारी खोखली दावे,सुदृण राष्ट्र,शिक्षित,जागरूक राष्ट्र निर्माण में सबसे बड़ी बाधा है।

इंद्रजीत राय-ब्लॉक कॉंग्रेस अध्याक्ष?