nav Pradesh logo

शैलेष कोटा और अटल बिलासपुर के लिए तय! समझौता और निर्देश के बाद कांग्रेस ने निकाला हल

Date : 07-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
News image
<

0 शैलेष पाण्डेय ने बिलासपुर से नहीं लिया फार्म और कोटा में दिखाई ताकत

0 अटल श्रीवास्तव बिलासपुर से फार्म जमा कर मंत्री अमर अग्रवाल के खिलाफ रणनीति बनाने में जुटे

बिलासपुर, (नव प्रदेश)। विधानसभा चुनाव के लिए हाइप्रोफाइल सीट माने जाने वाली बिलासपुर और कोटा सीट से दावेदार की तस्वीर लगभग साफ हो गई है और समझौते तथा निर्देश के बाद कोटा से जहां शैलेष पाण्डेय वही बिलासपुर से अटल श्रीवास्तव की कांग्रेस से टिकट लगभग फाइनल है। शैलेष पाण्डेय का बिलासपुर व कोटा दोनों सीटों से नाम चल रहा था, मगर शैलेष पाण्डेय ने अपनी कर्मभूमि कोटा से फार्म लेकर जमा भी कर दिया है। वहीं अटल श्रीवास्तव ने भी बिलासपुर से फार्म लेकर जमा किया है। कांगे्रस के लिए ये दोनों सीटें काफी महत्वपूर्ण है। कोटा से जहां छजकां नेता अजीत जोगी को चुनौती देना है वहीं बिलासपुर से मंत्री अमर अग्रवाल को टक्कर देना है और दोनों ही स्थानों में कांगे्रस प्रत्याशियों को पहले अपनों से निपटना भी है। कोटा से डॉ. रेणु जोगी ने भी दावेदारी करके कांगे्रस संगठन को उलझन में डाल दिया है। 

प्रदेश कांग्रेस संगठन ने समझौता और निर्देश दोनों दांव चलकर बिलासपुर और कोटा सीट के लिए प्रत्याशियों का चयन लगभग तय कर लिया है। इसी रणनीति के तहत शैलेष पाण्डेय ने बिलासपुर से दावेदारी का त्याग करते हुए कोटा सीट से चुनाव लडऩे के लिए फार्म लिया और बड़ी संख्या में समर्थकों व कांगे्रस कार्यकर्ताओं के साथ फार्म को जमा भी कर दिया। यह अलग बात है कांगे्रस कोटा से शैलेष पाण्डेय और डॉ. रेणु जोगी में से किसे प्रत्याशी बनाता है, मगर शैलेष पाण्डेय ने आज कोटा में अपनी ताकत दिखा दी। उन्होंने हजारों कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचकर अपना फार्म जमा किया। उनका इस दौरान जगह-जगह स्वागत भी हुआ। अगर श्री पाण्डेय कांगे्रस के प्रत्याशी हुए तो उन्हें छजकां, भाजपा और आम आदमी पार्टी के साथ ही गोगंपा के प्रत्याशियों का सामना करना पड़ेगा। शैलेष पाण्डेय के लिए एक प्लस पाइंट जरुर रहेगा कि कोटा में कांगे्रस कभी नहीं हारी है, मगर जीत का अंतर भी बहुत ज्यादा नहीं रहा है। कोटा में आज उनके द्वारा किए गए शक्ति परीक्षण का लाभ उन्हें कितना मिलता है यह तो वक्त ही बताएगा। 

इधर बिलासपुर से शैलेष पाण्डेय का किनारा कर लिए जाने से प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव का रास्ता अब पूरी तरह साफ हो गया है। चर्चा तो यह भी है कि कांगे्रस प्रदेश संगठन ने अटल श्रीवास्तव को बिलासपुर से  और शैलेष पाण्डेय को कोटा से चुनाव मैदान मेंं उतरने के लिए हरी झण्डी दे दी है। दोनों के नाम की अधिकृत घोषणा होना अभी बाकी है। अटल श्रीवास्तव के पास बिलासपुर में अपनी टीम है तो शैलेष पाण्डेय के पास भी कोटा और बिलासपुर में जुझारु टीम है, लेकिन दोनों को सत्तारुढ़ दल भाजपा के सेनापति, रणनीतिकार और संगठित कार्यकर्ताओं से मुकाबला करना है जो आसान नहीं है। पिछले डेढ़ दशक में भाजपा का चुनावी प्रबंधन काफी मजबूत हो चुका है। बिलासपुर और कोटा का चुनाव इस बार काफी दिलचस्प होने वाला है।