nav Pradesh logo

ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी को उपभोक्ता फोरम ने दिया आदेश 

Date : 06-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
<

रायगढ़ (नवप्रदेश)/ इंश्योरेंस कंपनी से ईलाज के लिए बीमा क्लेम करने के दो साल बाद भी भुगतान नहीं करने पर उपभोक्ता फोरम ने ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी को आदेशित किया है कि आवेदक को एक माह के भीतर एक लाख रूपए बीमा राशि का भुगतान किया जाए। इसके साथ ही 20 हजार रूपए मानसिक क्षतिपूर्ति एवं 5 हजार रूपए वाद व्यय दिये जाने का निर्देश दिया है।  रायगढ़ नाई पारा वासी संजय मिश्रा ने ओरियंटल बैंक आफ कामर्स से एक मेडिकल क्लेम पॉलिसी खरीदी थी। इसके तहत पालिसी धारक को ईलाज के लिए एक लाख रूपए तक का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाना है।

संजय को ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी की पालिसी क्रमांक 191200 /48/2016/4249 दिया गया था, जिसका प्रिमियम 1783 रूपए खाते के माध्यम से 18 फरवरी 2016 को किया गया था। उक्त मेडिकल क्लेम 10 मार्च 2016 से 9 मार्च 1017 के लिए प्रभावशील था। आवेदक की तबीयत 28 मई 2016 के अचानक खराब होने पर उसे डॉ. रूपेन्द्र पटेल के यहां भर्ती कराया गया, जहां से माईनर हार्ट अटैक की शिकायत होने पर नारायणा हास्पिटल रायपुर में भर्ती कराया गया था। जहां उपचार में 2 लाख 74 हजार रूपए का खर्च हुआ। इसकी सूचना परिजनों ने हास्पिटल के माध्यम से बीमा कंपनी को दी थी। कंपनी की ओर से भुगतान का मौखिक आश्वासन दिया गया था।  समस्त दस्तावेज की मुल प्रति आवेदक संजय मिश्रा द्वारा ओरियंटल इंश्योरंस कंपनी के स्थानिय कार्यालय में जमा करने जाने पर उसे बंगलौर के पते पर भेजने को कहा गया। 

वहीं बंगलौरक के पते पर सभी दस्तावेज भेजने के बाद भी उसे उपचार का व्यय एक लाख रूपए आज पर्यंत बीमा कंपनी द्वारा नहीं दिया गया। इस पर संजय मिश्रा ने उपभोक्ता फोरम में वाद दायर किया था। जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण फोरम के अध्यक्ष एम.डी.जगदल्ला, सदस्य शिशिर वर्मा एवं श्रीमती विदुला तामस्कर द्वारा उभय पक्ष की सुनवाई के बाद आवेदक को एक लाख रुपये बीमा क्लेम की राशि एक माह के भीतर देने का आदेश दिया गया। इसके साथ 20 हजार रुपये मानसिक क्षतिपूॢत एवम 5 हजार रुपये वाद में आये खर्च अदा करने का ओरियंटल इंश्योरेंस को आदेश पारित किया है।