nav Pradesh logo

आर्सेनिक प्रभावित 23 गांवों में 3 दिनों से जल आपूर्ति ठप, 25 हजार आबादी में मचा पानी के लिए हाहाकार 

Date : 06-Aug-18

News image
News image
News image
News image
News image
<

राजनांदगांव (नवप्रदेश)। आर्सेनिक प्रभावित अंबागढ़ चौकी ब्लाक के 18 ग्रामों में पिछले तीन दिन से पेयजल आपूर्ति ठप हो गई है। समूह जल सयंत्र योजना से आर्सेनिक प्रभावित गांवों में पानी सप्लाई नहीं किए जाने से 25 हजार आबादी को बारिश के मौसम में जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। 

आश्चर्य है कि 72 घंटे से शासन की इस महत्वपूर्ण योजना के फेल होने से पानी को लेकर ग्रामीणों में हाहाकार मचा हुआ है और प्रशासन लोगों को राहत देने के बजाए मूकदर्शक बनी हुई है। बताया जाता है कि लो वोल्टेज एवं बिजली समस्या के चलते नगर से संचालित होने वाली पीएचई की समूह जल संयंत्र योजना ठप हो गई है। राज्य शासन ने अंबागढ़ चौकी विकासखंड के आर्सेनिक प्रभावित 18 ग्राम कौडीकसा, मुलेटीटोला, भगवानटोला, बिहरीकला, बिहरीखुर्द, पांगरी, भनसुला, आतरगांव, अंबागढ़ चौकी, सांगली, कोटरा, तेलीटोला, बांधाबाजार, जोरातराई, थैलीटोला, जादूटोला, हाथीकन्हार, सोनसायटोला, केकतीटोला, कौडूटोला, मांगाटोला आदि गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए नगर से समूह जल सयंत्र योजना संचालित कर रही है। प्रारंभ में यह योजना 18 ग्रामों के लिए था जो अब धीरे-धीरे बढ़ते हुए 23 तक पहुंच गई है। 35 करोड़ की लागत से शुरू हुई समूह जल सयंत्र योजना का भूमिपूजन प्रदेश के मुखिया डॉ. रमन सिंह के हाथो हुआ था। 

पीएचई के माध्यम से संचालित की जा रही इस योजना के तहत अंबागढ़ चौकी नगर में षिवनाथ नदी एनीकट में टंकी व वार्ड 4 में फिल्टर प्लांट बनाया गया है। प्रतिदिन सुबह शाम नगर से आर्सेनिक प्रभावित ग्रामों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति होती है। जिससे 23 ग्रामों के 25 हजार से अधिक आबादी की पीने के पानी एवं निस्तारी की समस्या का समाधान होता है। 

आश्चर्य है कि पिछले तीन दिनों से यह योजना पुरी तरह ठप हो गई है। जानकारी के अनुसार लो-वोल्टेज एवं बिजली समस्याओं के चलते शुक्रवार से इन गांवों में पानी नहीं पहुंच पा रहा है। जिससे हजारों ग्रामीणों को बारिश के मौसम में गर्मी की तरह पानी के लिए भीषण संकट का सामना करना पड़ रहा है। आर्सेनिक प्रभावित ग्रामों में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति ठप होने से लोगों को मजबूरी में फिर से आर्सेनिक पानी, पीना एवं उसका उपयोग करना पड रहा है। कौडूटोला के उदेराम साहू, बेनीराम साहू नं बताया कि जब नलों से पानी सप्लाई ही नहीं हो पा रही है तो उन्हें वापस हैडपंप एवं कुंए का सहारा लेना पड़ रहा है। ग्राम पंचायतें भी चौकी से पानी नहीं मिलने पर पुरानी व्यवस्थाओं के तहत सीधे बोर से पानी लेकर लोगों को पानी आपूर्ती कर रही है। इससे फिर एक बार आर्सेनिक प्रभावित ग्रामों के ग्रामीणों के जीवन में संकट का बादल मंडराने लगा है। समूह जल सयंत्र योजना के ठप होने तथा आर्सेनिक प्रभावित ग्रामों के ग्रामीणो को शुद्ध पेयजल आपूर्ति नहीं होने से कांग्रेसियों को एक बार फिर सत्ता पक्ष एवं प्रशासन को घेरने का बैठे बिठाए मुद्दा मिल गया है।