nav Pradesh logo

5 में 3 व्यक्ति कमर दर्द यानी की स्लिप डिस्क प्रॉब्लम के शिकार, घरेलू उपचार

Date : 27-Jun-18

News image
<

स्लिप डिस्क के कारण

1. गलत पोश्चर में बैठने के कारण भी स्लिक डिस्क होने लगती है। इसके साथ ही लेस्लिप डिस्क के कारण और लक्षण पहचानकर इस तरह करें घरेलू उपचारटकर पढ़ने या झुक कर काम करने से भी कमर दर्द होने लगता है। 


2. अनियमित दिनचर्या, अचानक झुकने, वजन उठाने, झटका लगने, गलत तरीके से उठने-बैठने की वजह से दर्द हो सकता है।


3. उम्र बढ़ने के कारण भी हड्डियां कमजोर होने लगती है। हड्डियां कमजोर होने के कारण स्लिप डिस्क की समस्या होने लगती है।

4. अत्यधिक शारीरिक श्रम, गिरने, फिसलने, दुर्घटना में चोट लगने, देर तक ड्राइविंग करने से भी डिस्क पर प्रभाव पड सकता है।


5. कैल्शियम की कमी।

 

स्लिप डिस्क के लक्षण


उठने-बैठने और चलने-फिरने में दिक्कत होना।
कभी दर्द का बहुत जल्दी ठीक हो जाना और कभी बहुत देर तक बना रहना।
रीढ की हड्डी पर दवाब पड़ना।
कमर की मांसपेशियां कमजोर हो जाना।
पैरों की उंगलियां का सुन होना।

स्लिप डिस्क के लिए घरेलू उपचार 

1. लौंग और काली मिर्च
स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम से राहत पाने के लिए 5 लौंग और 5 काली मिर्च को पीसकर उसका पाउडर बना लें। अब इस मिश्रण को चाय में डालकर रोजान 2 बार पीएं। एेसा करने से कुछ ही दिनों में स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम से राहत मिलेगी।

2. दालचीनी और शहद
पीठ दर्द और स्लीप डिस्क की समस्या होने पर दो ग्राम दालचीनी पाउडर में 1 चम्मच शहद मिला कर लें। रोजाना दिन में 2 बार इसका सेवन करने से कुछ ही दिनों में स्लिप डिस्क के दर्द से राहत मिलेगी। 

3. नारियल तेल से मसाज
नारियल तेल में विटामिन डी, कैल्शियम होता है, जो हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। कमर दर्द होने पर नारियल तेल से मसाज करें। कुछ ही दिनों में दर्द से राहत मिलेगी। आप चाहे तो नारियल तेल में सरसों का तेल और 1-2 लहसुन की कलिया डालकर तेल को गुनगुना करके भी कमर की मसाज कर सकते हैं। इस तेल से मसाज करने से कुछ ही दिनों में कमर दर्द से राहत मिलेगी। 

4.  सेंधा नमक
 सेंधा नमक वाले पानी के साथ नहाने से भी कमर दर्द या स्लिप डिस्क की समस्या से राहत मिल सकती हैं। इस पानी के हल्का ठंडा होने पर स्नान करें। इससे आपको मांसपेशियों में ऐंठन या जकड़न की परेशानी से राहत मिलेगी।

5.  एक्सरसाइज करें
कमर दर्द होने पर रोजाना योगा और हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करना शुरू करें। मगर ध्यान रहे की एेसे एक्सरसाइज ना करें जिससे कमर दर्द और बढ़ जाएं। अगर आपको दर्द बहुत ज्यादा है तो किसी एक्सपर्ट की देख-रेख में ही योग या एक्सरसाइज करें।