प्रधानमंत्री आज सुबह वीडियों कांफ्रेसिंग के माध्यम से देशभर के जिला सूचना विकास केन्द्रों के माध्यम से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री वय वंदना योजना, प्रधानमंत्री सामाजिक सुरक्षा योजना और अटल पेंशन योजना के हितग्राहियों से रू-ब-रू हो रहे थे। प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर नागरिकों से  बातचीत करते हुए कहा कि कई बार जीवन में अचानक मुसीबतें और विपदा आ जाती हैं। जरूरी है कि समय रहते ऐसे समझदारी वाले कदम उठाए जाए जिससे ऐसे सदमें, दर्द और कठिन घड़ी में प्रस्तुत चुनौतियों का बहादुरी और साहस से सामना किया जा सके। उन्होंने कहा वर्ष 2014 के बाद प्रारंभ इन योजनाओं से आकस्मिक संकट से अनेक नागरिकों को अनिश्चित चुनौतियों से जुझने की हिम्मत और सहारा मिला हैं। संकट के इस घड़ी में ये योजनाएं नागरिकों को मजबूती और हौसला प्रदान करती हैं। उन्होंने कहा कि अनेक योजनाओं के माध्यम से बैंकिंग सुविधाओं से वंचित नागरिकों को बैंकिंग सुविधाओं का लाभ दिलाने, वित्तीय सहायता दिलाने और उनके आर्थिक सुरक्षा उपलब्ध कराने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने छत्तीसगढ़ के अलावा इन योजनाओं से लाभांवित हुए देशभर के नागरिकों से बातचीत की तथा अपील की कि वे इन योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ लें। 

    उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना के तहत 330 रूपये की सलाना प्रीमियम राशि से नागरिकों का 2 लाख रूपये का बीमा किया जाता है। इसके तहत बीमित व्यक्ति के मृत्यु होने पर उसके परिजनों को 2 लाख रूपए की बीमा राशि मिलती है। प्रधानमंत्री सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत मात्र 12 रूपये की सलाना प्रीमियम राशि से 2 लाख रूपये का बीमा किया जाता है। दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख तथा हादसे एवं दुर्घटना आदि से शारीरिक क्षति होने पर बीमा की 2 लाख रूपये की राशि दी जाती है। प्रधानमंत्री वय वंदना योजना 60 वर्ष या इससे अधिक के नागरिकों के लिए एक पेंशन योजना हैं। जिसके तहत उन्हें 8 प्रतिशत की दर से पेंशन राशि दी जाती है। प्रधानमंत्री अटल पेंशन योजना के तहत 18 से 40 आयु वर्ष के नागरिकों के लिए जमा अंश राशि के आधार पर पेंशन राशि निर्धारित की जाती है और उन्हें यह पेंशन 60 वर्ष की उम्र के बाद मिलनी प्रारंभ हो जाती है।