Month: August 2017

हत्या: अवैध संबंध के चलते भाई ने भाई की कर दी हत्या

हत्या: अवैध संबंध के चलते भाई ने भाई की कर दी हत्या

Chhattisgarh
कवर्धा. (नवप्रदेश)। अवैध संबंध को लेकर जहां 29 जुलाई को कुकदुर थाना क्षेत्रांतर्गत ग्राम पुटपुटा निवासी एक महिला ने अपने पति के सिर पर टंगिया मारकर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया वहीं 30 जुलाई को अवैध संबंध के चक्कर में ही रेंगाखार थाना क्षेत्र के ग्राम रानीगुढ़ा में भाई ने भाई के गले में टंगिया से प्राण घातक प्रहार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। इस घटना के बाद पुलिस ने आरोपी के साथ उसके एक रिस्तेदार को धारा 302ए 34 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रेंगाखार थाना क्षेत्रांतर्गत ग्राम रानीगुढ़ा निवासी रिस्ते में भाई पवन बैगा पिता चंदु बैगा आयु 35 वर्ष तथा सोनेराम बैगा पिता सुशील बैगा आयु 38 वर्ष रविवार की दोपहर करीब 3ण्00 बजे अपने एक रिस्तेदार कोलिहा बैगा पिता जुगल सिंह बैगा आयु 45 वर्ष के साथ सोनेराम के घर बैठकर शराब पी रहे थे। बताया जाता है कि छक कर शराब पीने के ब
छत्तीसगढ़ विधानसभा : किसानों का अपमान किया इसलिए देश के 15 फीसदी में आ गई कांग्रेस : अजय चंद्राकर

छत्तीसगढ़ विधानसभा : किसानों का अपमान किया इसलिए देश के 15 फीसदी में आ गई कांग्रेस : अजय चंद्राकर

Chhattisgarh
रायपुर (नवप्रदेश)। भूपेश बघेल के ध्यानाकर्षण के जवाब में संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर ने कहा कि पूरे देश में अब कांग्रेस 15 फीसदी हिस्से में बची है। छत्तीसगढ़ में 74 फीसदी किसान या मजदूर हैं। पहली बार सुना है कि कोई मजदूर या किसान आदिवासी या अनुसूचित जाति का है। कांग्रेस ने किसानों को भी धर्म, वर्ग संप्रदाय के आधार पर बाटने की कोशिश की है। इसलिए आज देश में 15 फीसदी हिस्से में आ गई है। अजय चंद्राकर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने कभी किसानों का सम्मान किया ही नहीं। किसानों के अपमान की पराकाष्ठा देखिए जब कांग्रेस की सरकार थी तब पहली बार किसानों पर लाठीचार्ज हुआ धान खरीदी भी जब हुई तो पानी में डूबा-डूबा कर धान खरीदी होती थी। भूपेश बघेल जोगी के लिए भी अशुभ थे और किसानों के लिए भी अशुभ ही रहे। आदिवासी एक्सप्रेस में बैठने के बाद जब उन्हें राजस्व मंत्री बनाया गया तो दोनों साल अकाल रहा। हा
छत्तीसगढ़ विधानसभा : एनडीए की सरकार बनने के बाद बढ़ी किसान आत्महत्याएं : भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ विधानसभा : एनडीए की सरकार बनने के बाद बढ़ी किसान आत्महत्याएं : भूपेश बघेल

Chhattisgarh
रायपुर (नव प्रदेश) कांग्रेस के ध्यानाकर्षण पर चर्चा करते हुए भूपेश बघेल ने कहा कि केन्द्र में एनडीए की सरकार बनने के बाद किसान आत्महत्याओं का दौर बढ़ गया है। 12 जून से अब तक 24 किसानों ने आत्महत्या कर ली है। नोटबंदी के कारण किसानों की हालत इतनी खराब हुई कि किसानों को अपनी सब्जी टमाटर सड़क पर फेंकने पड़े थे। इसी बीच अजय चंद्राकर ने टमाटर की कीमत पूछ डाली तो भूपेश बघेल ने बताया कि नोटबंदी के कारण किसानों ने टमाटर नहीं लगाया इसलिए टमाटर महंगे हुए। उन्होंने कहा कि सीएम के गृह जिले मे संतोष साहू नामक जिस किसान आत्महत्या की उसने अपने सोसाइट नोट में सीएम को संबोधित किया था। इसी बीच संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी ने बताया कि सोसाइट करने वाले किसान ने सीएम का नाम बहुत ही आदर से साथ लिखा था। भूपेश बघेल ने कहा कि पूरे प्रदेश में कवर्धा जिला ही ऐसा है जहां अटकी ब्याज पर किसानों को सूदखोर लोग पैसे देते
छत्तीसगढ़ विधानसभा: अजय चंद्राकर के पिकनीक पर बिफरा विपक्ष

छत्तीसगढ़ विधानसभा: अजय चंद्राकर के पिकनीक पर बिफरा विपक्ष

Chhattisgarh
रायपुर (नव प्रदेश)। छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन आज प्रश्नकाल में राज्यभर में किसानों की आत्महत्याओं को लेकर प्रश्नकाल को बाधित रहा है विपक्ष द्वारा दिए गए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के जवाब में संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर ने पिकनीक शब्द का उपयोग कर विधानसभा में हंगामा खड़ा कर दिया। दरअसल किसान आत्महत्याओं के बाद कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल किसानों के घर जाकर संवेदनाएं व्यक्त कर रहा है। इसी तारतम्य में धमतरी के एक किसान के यहां संवेदन व्यक्त करने गए कांग्रेस के नेताओं के लिए अजय चंद्राकर ने कह दिया कि कांग्रेस के लोग जो पिकनीक मनाकर आए हैं उन्हें यह बताना चाहता हूं बस इतनी ही बात थी कि विपक्ष ने जबरदस्त हंगामा करना शुरु किया और लंच के पहले अजय चंद्राकर को बोलने ही नहीं दिया। तीन बजे तक के लिए विधानसभा स्थगित हुई लेकिन तीन बजे के बाद भी विपक्ष अजय चंद्राकर द्वारा माफी मांगे ज
किड्स टैलेंट शो ब्यूटी कांटेस्ट 4 को,  मैग्नेटो मॉल में 5 को होगा फाइनल

किड्स टैलेंट शो ब्यूटी कांटेस्ट 4 को, मैग्नेटो मॉल में 5 को होगा फाइनल

Chhattisgarh
रायपुर, (नव प्रदेश)। छत्तीसगढ़ में पहली बार मिस बेबी एंड मिस्टर बाबा ब्यूटी कांटेस्ट का आयोजन हो रहा है। 4 अगस्त को आयोजित इवेंट में सहयोगी बन रहे हैं छत्तीसगढ़ फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट, हरिओम फिल्मस एवं छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक संस्थान। मैग्नेटो द मॉल में दोपहर तीन बजे से ऑडिशन होगा एवं दूसरे दिन 5 अगस्त को फाइनल होगा। इस ब्यूटी कांटेस्ट में बच्चों का सबसे बड़ा क्लब ट्विंकल क्लब सहभागी है। वर्धमान द स्कूल, रुना ब्यूटी स्पा एंड सलून, आकार स्टूडियो सहयोगी है। इस कांटेस्ट के लिए मरीन ड्राइव में बच्चों का स्पेशल फोटो शूट आयोजित किया गया जिसमें शैरीन बेकए अक्सिका सिंह, अक्षरा देशपांडेय, गौरवी मैत्रीय, दिव्या दवे, सोहम देशपांडेय, शिवांश लालवानी, शौर्य डोंगरे, किरट सिंह, विराट सोनकर, सात्विक लालवानी, सान्या धावना, दक्ष सोनकर, लिसा धावना, अमूल्य निधि सहित कई बच्चे शामिल हुए। इस आयोजन में तपेश
अगस्त महीना लाया है छुट्टियों की भरमार

अगस्त महीना लाया है छुट्टियों की भरमार

Chhattisgarh
 अलग-अलग सप्ताह में महज 2-3 दिन की छुट्टियां लेने पर मिलेगा बड़ा वीकेंड पैकेज  एक साथ चार दिन और एक साथ नौ दिन की छुट्यिों का उठा सकते हैं आनंद रायपुर, (नव प्रदेश)। अगस्त का महीना छुट्टियों की सौगात लेकर आया है। ना-ना- प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए नहीं, सरकारी नौकरों के लिए अगस्त का माह ढेर सारी छुट्टियों के मौके लेकर आया है। चाहे आप केंद्र सरकार के कर्मचारी हों या राज्य सरकार के, महीने के पहले सप्ताह में ही आप एक साथ 4 दिन का लंबा वीकेंड इन्जॉय कर सकते हैं। सोमवार 7 अगस्त को रक्षाबंधन की छुट्टी है। ऐसे में अगर आप शुक्रवार 4 अगस्त को सिर्फ 1 दिन की छुट्टी ले लें तो हो गया न 4 दिन का लंबा वीकेंड। अगर किसी वजह से रक्षाबंधन का मौका आपके हाथ से निकल भी जाए तो परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि इसके बाद आपके पास और एक मौक है 9 दिन की छुट्टियां एक साथ इंजॉय करने का होगा। लेक
आंगनबाड़ी केन्द्रों में जड़ा ताला, बच्चे हो रहे है परेशान

आंगनबाड़ी केन्द्रों में जड़ा ताला, बच्चे हो रहे है परेशान

Chhattisgarh
 शासन के विरोध में जाकर कार्यकर्ता व सहायिका बैठे है धरने पर रायपुर, (नव प्रदेश)। प्रदेश में संचालित आंगनबाड़ी इन दिनों कार्यकर्ता एवं सहायिका विहिन है। लंबे समय से अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर संघर्षरत है और इसी के चलते विगत सोमवार से राजधानी के बूढातालाब स्थित धरना स्थल पर धरने पर बैठा हुआ हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित समूचे आंगनबाड़ी केंद्रों में इस वक्त ताला लगा हुआ है। आंगनबाड़ी में कार्यरत सभी कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं अपनी एकजुटता दिखाते हुए सरकार के विरोध धरना-प्रदर्शन कर रही है। ज्ञात हो की छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ के बैनर तले जशपुर जिला से भी समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका धरना प्रदर्शन के लिये रायपुर गये हुये हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं की मांग है की उन्हें न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपए देते हुये समा
ये कैसी मजबूरी कि गिन रहे, किसानों की आत्महत्या के आंकडे

ये कैसी मजबूरी कि गिन रहे, किसानों की आत्महत्या के आंकडे

Chhattisgarh
 छत्तीसगढ़ में दो साल में 111 अन्नदाताओं ने की है आत्महत्या  16 जिलों में दर्ज नहीं हुए एक भी किसान आत्महत्या का मामला रायपुर, (नव प्रदेश)। छत्तीसगढ़ प्रदेश में यह कैसी मजबूरी आ गई कि खबर बनाने के लिए पिछले साल की तुलना इस साल कितने हमारे अन्नदाता समय से पहले काल के गाल में समा चुके हैं, उसकी गिनती कर रहे हैं। अगर यह गिनती नहीं करते तो आम जनता से लेकर शासन-प्रशासन तक कैसे पता चलेगा कि सबके मुंह का निवाला तैयार करने वाले कितने अन्नदाताओं ने अब तक आत्महत्या कर लिया। वैसे किसानों की मौत पर सियासत करने वाले सिर्फ छत्तीसगढ़ ही नहीं बल्कि पूरे देश में यहीं हाल है और यह कोई नई बात भी नहीं है। पिछले कुछ माह से मध्यप्रदेश सहित छत्तीसगढ़ की राजनीतिक गलियारों में किसानों के सुसाइड पर सियासत चरम पर है। आज विधानसभा सत्र का पहला दिन है। बाहर जहां रूक-रूक कर झमाझम बारिश हो रही थी, तो वहीं विध
मुख्यमंत्री निवास के पीछे मटन मार्केट में घूसा भालू

मुख्यमंत्री निवास के पीछे मटन मार्केट में घूसा भालू

Chhattisgarh
कवर्धा (नवप्रदेश)। कवर्धा में आज देर रात मुख्यमंत्री निवास के पीछे मटन मार्केट में भालू घूस आया। भालू घूसने की खबर मिलते ही पूरे क्षेत्र के सैकड़ों की संख्या में नगरवासी भालू को भगाने में जुट गए। वहीं घटना की जानकारी वन विभाग और पुलिस विभाग को दी गई। वन विभाग और पुलिस के आला अफसर घटना स्थना पहुंचे और भालू को पकडऩे की मसकत करने में जुट गए। वहीं वन विभाग का अमला बिना जाल लिए ही बस्ती क्षेत्र में पहुंचा। भालू को पकडऩे में नगरवासी, वन विभाग और पुलिस कर्मियों के पसीने छूट गए। घनी बस्ती होने की वजह से भालू कभी इधर और कभी उधर घूस जाने की वजह से भालू को पकडऩे में कभी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पहले भी हो चूकी है ऐसी घटना भालू घूसने की यह कोई पहली घटना नहीं है कवर्धा से लगे सहसपुर लोहारा क्षेत्र के महाराजपुर में इसके पहले भी भालू कई बार घूसने की खबरें आ चूकी है। हालांकि अभी तक कोई बड़ी