नीलगिरी एवं अन्य पेड़ों की कटाई चोरी-छिपे

Sharing it

जांजगीर-चांपा. (नव प्रदेश)। शहर के वार्ड नंबर इंदिरा नगर में शासकीय नीलगिरी एवं अन्य पेड़ों की कटाई चोरी छिपे धड़ल्ले से हो रही है। लोग चोरी छिपे बड़े-बड़े पेड़ों की कटाई कर रहे हैं और महंगे दाम में इमारती लकड़ी के रूप में बिक्री कर रहे हैं। अहसास शिक्षा एवं सेवा समिति के सदस्यों द्वारा इस आशय की शिकायत भी की गई थी, लेकिन इसके बाद भी तहसीलदार ने पेड़ों को जब्त करने की जहमत नहीं उठाई। अभी भी पेड़ों की लकड़ी वहीं पड़ी हुई है। पर्यावरण संरक्षण को लेकर वार्ड नंबर इंदिरा नगर में सड़क किनारे सालों पहले प्रशासन द्वारा नीलगिरी व नीम के पौधे लगाए गए थे। खासकर सिंचाई कालोनी की तरफ बड़ी तादात में नीलगीरी के पौधे लगाए गए हैं। दो तीन दसक पहले लगाए गए यह पौधे से फीट के बृक्ष बन चुके हैं। इन पेड़ों की कटाई चोरी छिपे की जा रही है। जांजगीर के अहसास शिक्षा एवं सेवा समिति के सदस्यों का कहना है एवं उनके लोगों द्वारा द्वारा पखवाड़े भर से दर्जनों पेड़ों की दिन दहाड़े कटाई कर बिक्री की जा रही है। इसकी शिकायत कलेक्टर एवं एसडीएम से की जा चुकी है। इसके बाद भी अफसरों द्वारा लकड़ी की जब्ती नहीं बनाई जा रही है और न ही लकड़ी तस्करों की लकड़ी जब्त की जा रही है। इसके चलते वन विभाग को लाखों का चूना लग रहा है। दिलचस्प बात यह है कि अहसास शिक्षा एवं सेवा समिति के सदस्यों द्वारा इस आशय की सूचना मिलते ही कलेक्टर एवं एसडीएम से शिकायत की गई थी लेकिन शिकायत की कापी रद्दी की टोकरी में फेंक दी गई है। इसके चलते लकड़ी की कटाई करने वालों के हौसले बुलंद हैं। लकड़ी तस्करी करने वालों द्वारा उल्टे शिकायतकर्ताओं को धमकी दी जा रही है। जिसके चलते इंदिरा नगर के लोगों में रोष व्याप्त है। पेड़ों की कटाई करने के बाद कुछ लोगों द्वारा इस मोहल्ले में अवैध तरीके से शासकीय जमीनों में मकान का निर्माण किया जा रहा है। इससे शासन को चौतरफा नुकसान हो रहा है। एक ओर पेड़ों की कटाई की जा रही है। वहीं दूसरी ओर शासकीय भूमि में अवैध तरीके से मकान का निर्माण भी किया जा रहा है।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *