इंदौर में सीरीज़ कब्ज़ाने उतरेगा भारत

Sharing it

इंदौर, । रोहित शर्मा की कप्तानी में वनडे सीरीज़ कब्ज़ा करने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम अब शुक्रवार को इंदौर में श्रीलंका के खिलाफ दूसरा ट्वंटी 20 मैच जीतकर लगातार तीसरी सीरीज़ में भी विजेता बनने उतरेगा। भारत ने तीन टेस्टों की सीरीज श्रीलंका से 1-0 से और तीन वनडे मैचों की सीरीज़ 2-1 से जीती है और अब उसके पास ट्वंटी 20 सीरीज़ में भी कब्जा करने का मौका है। भारत ने बुधवार को श्रीलंका को पहले ट्वंटी 20 मैच में कटक में उसकी सबसे बड़ी शिकस्त दी थी और 93 रन से मैच जीतकर इस प्रारूप में अपनी सबसे बड़ी जीत का रिकार्ड कायम किया था।
लय में चल रही टीम के कार्यवाहक कप्तान रोहित के नेतृत्व में टीम ने बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी दोनों में हरफनमौला खेल की बदौलत तीन मैचों की सीरीज़ में 1-0 की बढ़त बना ली है। दूसरा मैच जीतकर भारत श्रीलंका के खिलाफ ट्वंटी 20 सीरीज़ में 2-0 की अपराजेय बढ़त कायम कर लेगा जो उसकी श्रीलंका के खिलाफ इस वर्ष दूसरी बार तीनों प्रारूपों में विदेशी और अपनी जमीन पर सीरीज़ जीत भी होगी। भारत ने तीनों प्रारूपों में श्रीलंका को उसी के मैदान पर इस वर्ष 9-0 से हराया था।
कटक में भारतीय टीम का प्रदर्शन बेहतरीन रहा था जिसमें गेंदबाज़ों खासकर स्पिनर युजवेंद्र चहल और चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव का प्रदर्शन प्रभावशाली था जिन्होंने श्रीलंकाई टीम को 87 रन पर ही ढेर कर दिया था। युजवेंद्र इस मैच में सर्वाधिक चार विकेट लेकर मैन ऑफ द मैच बने लेकिन उनकी लेग स्पिन और गुगली गेंदबाजी ने जिस तरह श्रीलंका के बल्लेबाज़ों को परेशान किया वह बहुत दिलचस्प रहा।
सीमित ओवर में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे खिलाडिय़ों पर स्पिन विभाग में चयनकर्ताओं की पसंद बन चुके युजवेंद्र और कुलदीप के प्रदर्शन से कप्तान रोहित भी काफी प्रभावित दिखे। वहीं मध्यम तेज़ गेंदबाजी ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने भी तीन विकेट निकालकर अच्छी गेंदबाजी की थी और इंदौर में श्रीलंका के करो या मरो के इस मैच में उनकी भूमिका भी अहम रहेगी। दूसरी ओर बल्लेबाज़ों में ओपनर लोकेश राहुल ने भी सात चौके और एक छक्के से 61 रन की अर्धशतकीय पारी खेलकर अपनी वापसी का संकेत दिया। राहुल की भी कप्तान ने जमकर तारीफ की तो मध्यक्रम में अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी मैच में अपनी बल्लेबाजी से फिर उपयोगी साबित हुये।
टीम के लिये हमेशा अहम समय पर काम आने वाले धोनी ने 22 गेंदों में चार चौके और एक छक्का भी जड़ा और मनीष पांडे के साथ 68 रन की अविजित साझेदारी भी निभाई और नाबाद लौटे। धोनी की पारी के अलावा उन्होंने विकेट के पीछे स्टम्पिंग के रिकार्ड को भी अपने नाम कर लिया। अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज़ ने श्रीलंका के चार बल्लेबाजों का विकेट के पीछे शिकार किया जिसमें दो को कैच और दो को स्टम्पिंग किया तथा ट्वंटी 20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में विकेट के पीछे सर्वाधिक शिकार करने के एबी डीविलियर्स (72 स्टम्पिंग) के रिकार्ड की बराबरी कर ली। उम्मीद है कि कप्तान रोहित अब इंदौर में भी अहम मुकाबले में इसी विजयी क्रम को उतारेंगे ताकि भारत अपनी विजयी लय को इसी तरह से बरकरार रख सके। भारत ने इस वर्ष सभी प्रारूपों में कुल 13 सीरीज़ जीती हैं और यदि वह इंदौर में सीरीज़ कब्जा कर लेता है तो यह उसकी एक कैलेंडर वर्ष में 14वीं सीरीज़ जीत भी होगी। दूसरी ओर खराब दौर से गुजऱ रही श्रीलंका पर अब करो या मरो के मैच में फिर से सीरीज़ बचाने का मौका होगा। श्रीलंका फिलहाल गेंदबाजी और बल्लेबाजी में बिल्कुल प्रभावी नहीं है। अनुभवी गेंदबाज लसित मलिंगा और सुरंगा लकमल की अनुपस्थिति में उसके तीन गेंदबाज एंजेलो मैथ्यूज़, तिषारा परेरा और फर्नांडो ही पिछले मैच में विकेट निकाल सके थे वहीं बल्लेबाज़ों में केवल उपूल थरंगा की 23 रन की पारी सबसे बड़ी रही थी। ऐसे में उसे पिछली गलतियों से बचना होगा।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *