शाला भवन के साथ ही नलकूप को ग्रामीण ने लगाया घेरा

Sharing it

देवभोग. (नवप्रदेश)
करलागुड़ा मिडिल स्कूल भवन के साथ ही स्कूल के नलकूप को गांव के एक ग्रामीण द्वारा घेराबंदी लगा दिया गया है। वहीं स्कूल के नलकूप में घेराबंदी लगा दिए जाने के चलते स्कूली बच्चे नलकूप का उपयोग नहीं कर पा रहे है। इसी के साथ ही बच्चों का मध्यान्ह भोजन कक्ष भी घेर दिया गया है। जिसके चलते बुधवार को मजबूरीवश प्रधानपाठक को दूसरे जगह पर मध्यान्ह भोजन का व्यवस्था करना पड़ा। वहीं मामले में प्रधानपाठक के साथ ही ग्रामीणों की समझाईंश के बाद भी संबंधित ग्रामीण मानने को तैयार नहीं है। बताया जा रहा है कि ग्रामीण स्कूल की जमीन को अपना जमीन बता रहा है। वहीं ग्रामीणों के मुताबिक ग्रामीण ने उस जमीन को स्कूल को दान किया था। जिसके बाद स्कूल भवन का निर्माण किया गया था। वहीं स्कूल भवन का संचालन भी सही तरीके से उस जमीन पर किया जा रहा था। अचानक ग्रामीण ने फिर से वहां जमीन पर कब्जा जमाना शुरू कर दिया है। वहीं दान दिए जाने की बात को भी ग्रामीण द्वारा नकारने की बात भी कही जा रही है। वहीं मामले में लगातार परेशानी बढऩे के बाद अंतत: प्रधानपाठक और शाला विकास प्रबंधन समिति के अध्यक्ष और ग्रामीणों के बीच बैठक हुई। जिसके बाद बैठक के दौरान निर्णय लिया गया कि मामले में अनुविभागीय अधिकारी को शिकायत कर उन्हें पूरे तथ्यों से अवगत करवाते हुए कार्रवाई करने के लिए अनुरोध किया जाए। वहीं प्रधानपाठक और ग्रामीणों ने लिखित में एसडीएम को आवेदन कर जल्द ही मामले में उचित कदम उठाए जाने की गुहार लगाई है।
ग्रामीणों ने एसडीएम को दिए गए आवेदन में जिक्र किया है कि शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला के भवन कक्ष एवं रसोई कक्ष के सामने दरवाजे को घेरकर वहां भाठा की सब्जी लगाई गई है। वहीं हेडपंप को भी घेर लिया गया है। वहीं स्कूली बच्चों के साथ भी अतिक्रमणकारी द्वारा दुव्र्यवहार आए दिन किया जा रहा है। जिसके चलते बच्चे भी बहुत ज्यादा नाराज हो गए है। वहीं यह भी बताया गया है कि मध्यान्ह भोजन संचालन में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मामले में ग्रामीणों का कहना है कि जल्द ही उचित कदम नहीं उठाए जाने की स्थिति में जगह नहीं होने के चलते मध्यान्ह भोजन का संचालन भी बंद हो सकता है। वहीं आए दिन यदि अतिक्रमणकर्ता द्वारा बच्चों से ऐसा व्यवहार किया जाएगा तो बच्चे स्कूल आना भी बंद कर सकते है।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *