नए स्मार्ट कार्ड बनाने दिए 3 हजार आवेदन रिजेक्ट

Sharing it

जांजगीर चांपा. (नव प्रदेश)
स्वास्थ्य विभाग ने नए स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए इस बार पूरे परिवार का आधार नंबर व राशनकार्ड अनिवार्य कर दिया है। नए स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए लोगों ने कई बार आवेदन कर दिए हैं। स्क्रूटनी और एंट्री के दौरान आधार नंबर से ऐसे आवेदनों की पहचान हो रही है। ऐसे आवेदन रिजेक्ट हो रहे हैं। नए स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए अब तक 39 हजार आवेदनों की ऑनलाइन एंट्री का काम हो चुका है। इस दौरान करीब तीन हजार आवेदन फर्जी मिले हैं, जबकि अभी भी हजारों की संख्या में आवेदन स्वास्थ्य विभाग में रखे हुए हैं। जिले में सालभर से स्मार्ट कार्ड नहीं बनाए गए हैं। छूटे हुए परिवारों के लिए जब नए स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए आवेदन मंगाए गए तो आवेदनों के ढेर लग गए। हजारों की संख्या में लोगों ने आवेदन जमा किया। विभाग ने आवेदन लेने का समय बढ़ाया तो लगभग 17 से 18 आवेदन फिर से आ गए। इसमें ऐसे लोगों ने भी आवेदन कर दिया जो पहले भी आवेदन कर चुके थे। इसके चलते अब फिर से एंट्री का काम चल रहा है। स्क्रूटनी और आधार नंबर मिलान के दौरान एक के परिवार के दो से तीन आवेदन निकल रहे हैं। फर्जी स्मार्ट कार्ड बनने से रोक लगाने के लिए इस बार स्वास्थ्य विभाग ने आवेदन के साथ जितने भी सदस्यों का नाम कार्ड में जोडऩा है सभी के आधार और राशनकार्ड की फोटोकापी साथ में ली गई है। आवेदनों की ऑनलाइन एंट्री करने के दौरान स्मार्ट कार्ड के फर्जी आवेदन का पता चला आपरेटरों को। आवेदन के दौरान लोगों ने परिवार के कई सदस्यों के आधार नंबर नहीं दिए हैं। ऐसे सदस्यों के नाम अभी नए स्मार्ट कार्ड में नहीं जुड़ पाएंगे। हालांकि ऐसे सदस्य स्मार्ट कार्ड की सुविधा मिलेगी। स्मार्ट कार्ड बनाने के लिए जब शिविर लगेंगे, उस समय उन्हें अपना आधार नंबर दे सकेंगे। नए स्मार्ट कार्ड के लिए लोगों ने दो-तीन बार आवेदन कर दिया है। स्क्रूटनी के दौरान आधार नंबर से लगभग 3 हजार आवेदन ऐसे निकले हैं। स्क्रूटनी के बाद आनॅलाइन एंट्री का काम किया जा रहा है।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *