नोटबंदी के बाद भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत हुई: डॉ. रमन

Sharing it

रायपुर, (नवप्रदेश)। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां अपने निवास में पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि राज्य में 6 नवंबर से 9 नवंबर तक काला धन विरोध दिवस मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि काला धन विरोध दिवस कार्यक्रम राज्य के 29 जिलों में पार्टी और संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा एकजुट होकर जनजन को देश में फैले कालेधन के बारे में अवगत कराया जाएगा। कालाधन विरोध दिवस में पत्रकार सम्मेलन, जनजागरण तथा पत्रकार वार्ता भी आयोजित की जाएगी। इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री भी शिरकत करेंगे जो कि लोगों और कार्यकर्ताओं को देश के विकास के लिए कालेधन विरोध से जुड़ी बातों पर जानकारी प्रदान कर हौसला बढ़ाएंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि 8 नवंबर 2016 को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी का ऐतिहासिक कदम उठाया गया। नोटबंदी का कदम उठाने के बाद सरकार ने एसआईटी का भी गठन किया। जिसके परिणामस्वरूप केंद्र सरकार डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से बिचौलियों का युग समाप्त किया। डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) के मद्देनजर वर्ष 2016-2017 में 41 करोड़ लोगों को इसका सीधा लाभ मिला है जो कि वर्ष 2013-14 की तुलना में 30 करोड़ लोगों की वृद्धि है। नोटबंदी के दौरान 18 लाख संदिग्ध खातों की जांच हुई तथा 29 हजार करोड़ रुपए की अघोषित आय बैंकों को मिली। अर्थव्यवस्था में परिवर्तन लाने के उद्देश्य से एफडीआई में वृद्धि हो रही है। वर्ष 2013-14 में 36 यूएस बिलियन डॉलर से बढ़कर वर्ष 2016-17 में 60 यूएस बिलियन डॉलर एफडीआई निवेश हुआ है। कर अनुपालन करने वालों की संख्या 56 लाख हुई है जो कि सीधे तौर पर 24 प्रतिशत की वृद्धि दर है। बैंकिंग प्रणाली में भी तीन लाख करोड़ की वृद्धि हुई है और बैंकों का क्षमता बढ़ा है। केंद्र सरकार के नीतियों के मद्देनजर 50 लाख श्रमिकों का बैंक खाता खुला और रिटर्न भरने के दौरान एक लाख 25 हजार करोड़ के कालेधन का पता चला। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने जीएसटी पर छत्तीसगढ़ में असर के बारे में बताया कि 1.5 करोड़ का रिटर्न टर्न ओवर किया गया। जीएसटी में मिली छूट से छत्तीसगढ़ को भी काफी लाभ मिली है। उन्होंने नोटबंदी के बाद आतंकवाद और नक्सलियों के द्वारा छिपाकर रखे हुए धन के बारे में बताते हुए कहा कि नक्सली जंगलों में पैसे गढ़ाकर रखे हुए थे लेकिन केंद्र सरकार के नोटबंदी के बाद उनकी कमर टूट चुकी है। उनके गढ़े हुए पैसे सभी बेकार हो गए तथा उनका नेटवर्क पूरी तरह कमजोर पढऩे लगा। उज्जवला योजना के मद्देनजर अने वाले समय में राज्य के रायगढ़, बिलासपुर तथा रायपुर में तीन बड़े गैस रिफलिंग सेंटरों की स्थापना की जाएगाी। आने वाले समय में राज्य ने 45 लाख से बढ़ाकर 65 लाख सिलेंडरों की रिफलिंग क्षमता रखी है।
मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए जीएसटी पर जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि जीएसटी लागू करने के बाद प्रथम तिमाही में अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी थी लेकिन केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा 81 प्रतिशत खाने पीने तथा आवश्यक वस्तुओं में 18 प्रतिशत छूट देने के बाद अर्थव्यवस्था की रफ्तार ने तेजी पकड़ी है। नोटबंदी के बाद भारत की मजबूत होती अर्थव्यवस्था पर जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बताया कि बैंकिंग प्रणाली में जमा राशि लगभग तीन लाख करोड़ की वृद्धि हुई है। ़

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *