स्टॉलों में दिखी शासन की योजनाएं और विकास की झलक

Sharing it

जगदलपुर. (नव प्रदेश)
बस्तर दशहरा लोकोत्सव में विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए स्टॉलों में शासन की योजनाओं और विकास की झलक दिखाई दे रही है, जिसे लोकोत्सव में पहुंचने वाले ग्रामीण और नागरिक बड़ी उत्सुकता के साथ देख रहे हैं।
बस्तर अंचल अब करवट बदल रहा है और परम्परागत खेती से आधुनिक खेती की ओर कदम बढ़ा रहा है। कृषि विभाग द्वारा लगाए गए स्टॉल में समन्वित कृषि को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे प्रयासों का मॉडल दिखाया गया है। यहां कृषि फसल के साथ ही सब्जी और फल की खेती, मुर्गीपालन, बकरीपालन, दुग्ध उत्पादन, मछलीपालन के माध्यम से किसानों के जीवन में आ रही खुशहाली को दिखाया गया है। इसके साथ ही नदी-नालों के किनारे विद्युत लाईन विस्तार, दुर्गम क्षेत्रों में सौर सुजला योजना के माध्यम से दोफसली खेती को बढ़ावा, जल संरक्षण के लिए लूज बोल्डर चेक डेम, शाकम्भरी योजना के तहत पम्प, किसान समृद्धि योजना के तहत नलकूप योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन एवं आधुनिक कृषि उपकरणों का प्रदर्शन भी किया जा रहा है। कृषि महाविद्यालय, उ़द्यानिकी महाविद्यालय और कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा सामुहिक रुप से सजाए गए स्टॉल में जल संग्रहण मॉडल, विभिन्न प्रकार के कंदमूल, फल धान एवं लघु धान्य फसलों के विभिन्न किस्म तथा मशरुम की खेती का प्रदर्शन किया जा रहा है। इसके साथ ही यहां महिला स्व सहायता समूह द्वारा तैयार विभिन्न उत्पादों का प्रदर्शन और विक्रय भी किया जा रहा है। उद्यानिकी विभाग की प्रदर्शनी में फल-फूल, मसाला और कंद की खेती को बढ़ावा देने के साथ ही शेडनेट, ड्रिप सिस्टम और स्प्रिंकलर के उपयोग से ‘वन ड्रॉप मोर क्रॉप’ के तहत कम पानी में अधिक फसल की उपज के लिए प्रेरित किया जा रहा है। पशुधन विकास विभाग की प्रदर्शनी में विभिन्न प्रजाति के मुर्गों के साथ ही बत्तख पालन, डेयरी उद्योग के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसके साथ ही यहां विभिन्न प्रकार के हरे चारे की खेती के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है। मछली पालन विभाग की प्रदर्शनी में मछली पालन के माध्यम से आर्थिक सशक्तिकरण एवं शासन द्वारा प्रदाय की जाने वाली सहायताएं बताई गई हैं। सिंचाई विभाग द्वारा कोसारटेडा मध्यम सिंचाई जल परियोजना तथा कावारास व्यपवर्तन योजना से क्षेत्र में आ रही हरियाली और खुशहाली का प्रदर्शन अपने स्टॉल में किया गया है। सहकारिता विभाग द्वारा सामुहिक मछली पालन, दुग्ध उत्पादन, आदिम जाति सेवा सहकारी समिति, सहकारी बैंक, वनोपज सहकारी समिति, खनिकर्म सहकारी समिति एवं सामुहिक कृषि के माध्यम से आर्थिक सशक्तिकरण की ओर बढ़ रहे ग्रामीणों को रेखांकित किया गया है। प्राकृतिक सुंदरता से सराबोर बस्तर में स्थित तीरथगढ़ और चित्रकोट जलप्रपात के साथ ही कांगेर घाटी सुंदरता का प्रदर्शन वन विभाग की प्रदर्शनी में किया गया है। यहां पहाड़ी मैना, विभिन्न प्रकार की काष्ठ और बांस की प्रजातियों के प्रदर्शन के साथ ही साल वृक्ष के महत्व को अंकित किया गया है। यहां विभिन्न प्रकार की वनौषधियां भी विक्रय की जा रही है। जेल विभाग की प्रदर्शनी में बंदियों द्वारा तैयार सीसल, खादी, काष्ठ शिल्प व फर्नीचर का प्रदर्शन किया जा रहा है। नगर निगम की प्रदर्शनी में मिशन क्लिन सिटी के तहत किए जा रहे कार्यों के साथ ही महिला सशक्तिकरण के लिए किये जा रहे प्रयासों को प्रदर्शित किया गया है। लोक निर्माण विभाग द्वारा निर्माणाधीन एयरपोर्ट का मॉडल तथा मेडिकल कॉलेज सहित विभिन्न भवनों एवं सड़कों का प्रदर्शन किया गया है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा सोलर आधारित स्थल जल प्रदाय योजना के साथ ही फ्लोराईड रिमूवल पम्प प्रदर्शित की गई है। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना द्वारा बास्तानार विकासखण्ड में बिछाए गए सड़कों के जाल के साथ ही बैली ब्रिज का प्रदर्शन किया गया है। यहां मेरी सड़क मोबाईल एप्लीकेशन के माध्यम से सड़कों के मरम्मत के लिए उपलब्ध सुविधा भी प्रदर्शित की गई है।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *