कॉलेजों और विश्वविद्यालयों शिक्षा गुणवत्ता का रखे ध्यान: प्रेमप्रकाश

Sharing it

रायपुर (नवप्रदेश)। उच्चतर शैक्षणिक संस्थानों में ज्ञान और अनुसंधान की व्यवस्था उच्च शिक्षा का मूल लक्ष्य होना चाहिए। आधुनिक परिवेश में कौशल-सम्पन्न मानव संसाधन का समूह-निर्माण भी उच्च शिक्षा की समयानुसार जरूरत है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने आज यहां इन्दिरागांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के स्वामी विवेकानंद सभागार में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित ‘राष्ट्रीय गुणवत्ता नवचेतना पहल के तत्वावधान में ‘मूल्याकन एवं प्रत्यायन” पर एक दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ अवसर इस आशय के विचार व्यक्त किए । कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के तौर पर श्री पूनम बी.राज, इन्दिरागांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटिल, उच्च शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, उच्च शिक्षा आयुक्त डॉ. बसवराजू एस, राज्य परियोजना संचालक (रूसा) श्री भुवनेश यादव सहित उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारी कॉलेज के प्रार्चाय और प्रध्यापक उपस्थित थे । उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कहा कि कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता का ध्यान रखते हुए बेहतर एवं उच्च प्रबंधन होना चाहिए । इसके लिए सभी कारगर कदम उठाने की जरूरत है। शिक्षण संस्थानों में बेहतर शिक्षक होंगे तो शिक्षा की गुणवत्ता में अपने आप सुधार होगा । शिक्षा आज की समय की मांग के अनुरूप होनी चाहिए। श्री पाण्डेय ने उम्मीद जताई कि आज की कार्यशाला में प्राप्त सुझावों को भी ध्यान में रखा जाएगा । श्री पाण्डेय ने कहा कि शिक्षा विद्यार्थियों पर केन्द्रित होनी चाहिए । ताकि उनके व्यक्तित्व का विकास हो सकें । यह जरूरी है कि हम अपने युवाओ ंकी प्रतिभा का सही विकास करें । उन्हें ऐसा वातावरण मिले जिससे उनकी ज्ञान, क्षमताओं एवं योग्यताओ ंका विकास हो सकें । उन्होंने कहा कि प्रदेश के विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को उत्कृष्टता का केन्द्र बनाने के लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि हमें आने वाली चुनौतियों का सामना करना होगा और बेहतर से बेहतर योजनाएं बनानी होंगी । वहीं युवाओं के कैरियर के लिए नये आयामों की तलाश भी करनी होगी । उच्च शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय ने कहा कि जब पूरी दुनिया में हर क्षेत्र में महिलाएं मजबूती से अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए सफलता प्राप्त कर रही है तो हमारे लिए गर्व की बात है। प्रदेश में पिछले 14 साल में कॉलेजों में छात्राओं के दाखिले में इजाफा हुआ । यह तभी संभव हुआ जब राज्य के वनांचल और दूरस्थ इलाकों में कॉलेज खोले गये। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ में नये कन्या आवासीय महाविद्यालय तथा महाविद्यालयीन छात्राओं के लिए छात्रावास खोले गए है। बालिकाओं को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर वातावरण देने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे है। ताकि ग्रामीण क्षेत्रों की बच्चियों को भी उच्च शिक्षा की सुविधा अधिक से अधिक मिले।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *