नंदन निलेकणि ने की प्रेस कांफ्रेंस

Sharing it

नई दिल्ली । गुरुवार को देश की नंबर दो आईटी कंपनी इंफोसिस के एग्जिक्यूटिव चेयरमैन बनाए गए नंदन निलेकणि ने शुक्रवार को पहली प्रेस कांफ्रेंस की। कमान संभालने के बाद नंदन निलेकणि ने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि वह कार्पोरेट गवर्नेंस के उच्च मानक तय करेंगे और इंफोसिस के नए सीईओ का एलान अक्टूबर तक कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारा मुख्य ध्यान ग्लोबल चुनौतियों पर रहेगा। निलेकणि ने कहा कि वो इंफोसिस के भविष्य को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने यह भी कहा कि नारायण मूर्ति के कहने पर ही उन्होंने कंपनी का पद संभाला हैै। अपने लक्ष्यों को लेकर उन्होंने कहा, पहला लक्ष्य है स्थायित्व लाना और यह सुनिश्चित करना कि बोर्ड सदस्यों से लेकर निवेशक तक सभी एक साथ हों। दूसरा लक्ष्य यथाशीघ्र सीईओ की नियुक्ति की प्रक्रिया को शुरू करना है, जिसके लिए एक सर्च एजेंसी को भी चुना गया है। उन्होंने बोर्ड के लिए टिकाऊ प्रशासनिक ढांचा बनाने की बात भी कही। इसके लिए नामांकन कमेटी से अक्टूबर तक रिपोर्ट मांगी गई है। रणनीति की समीक्षा और भविष्य को लेकर अक्टूबर में ब्लूप्रिंट पेश करने को भी नीलेकणि ने अपने लक्ष्यों में शुमार किया। हालांकि उन्होंने इस सवाल को टाल दिया कि सिक्का की ओर से 2021 तक 20 अरब डॉलर (1,280 अरब रुपये) के राजस्व के लक्ष्य की समीक्षा होगी या नहीं। निलेकणि ने कंपनी संस्थापकों और बोर्ड के बीच मतभेदों पर भी बात की। उन्होंने कहा, मैं 100 फीसद हिस्सेदारों का प्रतिनिधि हूं और सुनिश्चित करना चाहता हूं कि दूरदर्शी व्यक्तित्व व सह संस्थापक नारायणमूर्ति और बोर्ड के बीच अच्छे संबंध बने रहें। निलेकणि ने मूर्ति और कुछ अन्य संस्थापकों की ओर से कंपनी के प्रशासन को लेकर शिकायतों को भी गंभीरता से लेने की बात कही। उन्होंने कहा, मैं निजी तौर पर निष्पक्ष होकर जांच रिपोर्ट देखूंगा और उचित कार्रवाई का फैसला करूंगा। हालांकि इजरायल की कंपनी पनाया के अधिग्रहण में धांधली को लेकर आई जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक करने के सवाल को उन्होंने टाल दिया।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *