शॉपिंग के लिए मशीन में नहीं डालना होगा कार्ड

Sharing it

बेंगलुरु। अब आपको शॉपिंग के लिए मशीन में कार्ड नहीं डालना होगा। नैशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस के जरिए प्रॉक्सिमिटी पेमेंट्स की इजाजत देने के बारे में तीन कंपनियों के साथ मिलकर एक पायलट प्रॉजेक्ट चला रहा है। मामले की जानकारी रखने वाले दो लोगों ने बताया कि एनपीसीआई ने तीन स्टार्टअप्स फोनपे, टोनटैग और अल्ट्राकैश को इस प्रॉजेक्ट के लिए चुना है। डिजिटल पेमेंट्स के मामले में केंद्रीय इकाई एनपीसीआई के इस कदम से देश में मर्चेंट पेमेंट्स के इकोसिस्टम को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।
प्रॉक्सिमिटी पेमेंट्स के जरिए कन्ज्यूमर मर्चेंट आउटलेट्स पर एक्सेप्टेंस टर्मिनल पर किसी फिजिकल कॉन्टैक्ट के बिना डिजिटल पेमेंट्स कर सकेंगे। इससे सिक्यॉरिटी बढ़ेगी और ऐसे ट्रांजैक्शंस में स्टेबिलिटी भी आएगी। इस कदम के चलते डिजिटल पेमेंट्स लेने वाले मर्चेंट्स का दायरा भी बढ़ सकता है क्योंकि उन्हें कार्ड या स्मार्टफोन के जरिए होने वाले ट्रांजैक्शंस की खातिर महंगे पॉइंट ऑफ सेल्स डिवाइस की जरूरत नहीं रह जाएगी। इस घटनाक्रम के संबंध में एनपीसीआई को भेजी गई ईमेल का जवाब नहीं आया।
एनपीसीआई का ताजा कदम हाल में उभरे कैश क्रंच और देश के सुदूरवर्ती इलाकों में मर्चेंट्स के आउटलेट्स पर महंगे पीओएस टर्मिनल लगाने से जुड़ी समस्याओं को देखते हुए महत्वपूर्ण है। इंडस्ट्री के एक्सपट्र्स ने कहा कि ऐसे मामलों में इस तरह के सलूशंस अपेक्षाकृत सस्ते पड़ते हैं और इनके चलते फीचर फोन के जरिए भी पेमेंट हो सकता है। मामले की जानकारी देने वाले एक शख्स ने कहा, ‘यह पायलट प्रॉजेक्ट कुछ कैफेटेरिया और ऑफिस कैंटीन में ही चलाया जा रहा है। वहां पेमेंट्स सिस्टम का परीक्षण किया जा रहा है। इस प्रोसेस की स्टेबिलिटी औरसिक्यॉरिटी सुनिश्चित हो जाने पर इसका इस्तेमाल बड़े पैमाने पर करने की कोशिश की जा सकती है।Ó उन्होंने कहा, ‘यह अभी बहुत शुरुआती चरण में है। इसके लाइव होने में वक्त लगेगा।Ó एनपीसीआई ने प्रॉक्सिमिटी पेमेंट्स के फायदों के बारे में सार्वजनिक किए गए एक बिड डॉक्युमेंट में कहा कि यूपीआई ट्रांजैक्शंस में कस्टमर को बेनेफिशियरी का वर्चुअल आईडी या बैंक खाता नंबर मैन्युअली टाइप करना होता है, लिहाजा इसमें चूक होने की आशंका रहती है। ऐसी गलतियों से प्रॉक्सिमिटी पेमेंट्स सलूशंस के जरिए बचा जा सकता है, जो नाम या नंबरों की बिना किसी मैन्युअल टाइपिंग के बेनेफिशियरी की पहचान कर सकता है।

Sharing it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *