Month: January 2018

घड़ी चौक का सौदर्यीकरण करवा रहा आरडीए

घड़ी चौक का सौदर्यीकरण करवा रहा आरडीए

Chhattisgarh
रायपुर (नवप्रदेश) वर्षों पूर्व अविभाजित मप्र में रहे तत्कालीन रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष स्व. नरसिंह मंडल द्वारा नगर घड़ी चौक का निर्माण करवाया गया था। नगर घड़ी चौक शहर की शोभा बढ़ाने वाली पुरानी इमारतों में शुमार है। छग बनने के उपरांत नगर घड़ी में आई तकनीकी खराबी के चलते नगर घड़ी बदली गई। नवोदित राज्य की राजधानी होने के नाते शहरियों की नजर में नगर घड़ी रायपुर का गौरव है। शहरियों की इसी भावना को आत्मसात करते हुये रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव द्वारा इन दिनों नगर घड़ी का सौदर्यीकरण कार्य करवाकर नगर घड़ी चौक को आकर्षक स्वरूप प्रदान किया जा रहा है।
विदेशी शैलानियों में हुए लोकप्रिय बांस से बने गहने

विदेशी शैलानियों में हुए लोकप्रिय बांस से बने गहने

Chhattisgarh
अख्तर मेमन गरियाबंद (नव प्रदेश)। आप ने अब तक सोने चांदी हिरे मोती के गहने देखे होगें मगर गरियाबंद के बांस शिल्पकारों द्वारा बनाये गये बांस के गहने देख कर आप दंग रह जाएंगे बांस के महिन रेशों पर काफी बारिक कलाकरी कर तैयार किये गये ये गहने बिते दिनो गोवा तथा पुना में विदेशी पर्यटकों के बिच खूब लोकप्रिय हुए. बांस से गहने बनाने का प्रशिक्षण बिते दिनों दो बेचों में गरियाबंद के डोगरीगांव स्थित हस्तशिल्प बांस प्रशिक्षण केंन्द्र में दिया गया वैसे इस केन्द्र में लगातार बांस से काफी आकर्षक चिजों के निमार्ण का प्रशिक्षण देकर गरियाबंद के बेरोजगार युवकों को एैसा स्वरोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है. जिससे वे अपनी ही नही बल्की उनसे जुड़े कई लोगों की बेरोजगारी दूर कर रहे है। 2014 से प्रांरभ हुए इस केन्द्र से अब तक 400 से अधिक युवकों को बांस शिल्कार बनाकर स्वरोजगार से जोड़ा गया है. जो 50 रू. के पेन स्टेंड से
जरीन खान ने सलमान की तारीफ में कहीं ये बातें

जरीन खान ने सलमान की तारीफ में कहीं ये बातें

Bollywood
बॉलिवुड के सुपरस्टार सलमान खान के साथ लगभग हर न्यूकमर ऐक्ट्रेस इंडस्ट्री में डेब्यू करने का ख्वाब देखती है। भाग्यश्री, सोमी अली, भूमिका चावला, कटरीना कैफ, जरीन खान, सोनाक्षी सिन्हा जैसी ऐक्ट्रेसेज ने सलमान के साथ ही अपना डेब्यू किया। अब इन्हीं में से एक ऐक्ट्रेस ने सलमान खान की काफी तारीफ की है। दरअसल, फिल्म 'वीरÓ में सलमान के साथ नजर आ चुकीं ऐक्ट्रेस जरीन खान ने हाल ही में अपने एक बयान में उनकी जमकर प्रशंसा की। जरीन ने कहा कि फिल्म 'वीरÓ से बॉलिवुड में कदम रखना उनके लिए किसी सपने से कम नहीं रहा। जरीन के मुताबिक, 'सलमान ऐसे शख्स हैं जो हमेशा मेरे प्रिय, मेरे खास और मेरे दिल के करीब रहेंगे। अगर मैंने उनके लिए काम नहीं किया होता तो मैंने कभी इस इंडस्ट्री का हिस्सा बनने के बारे में नहीं सोचा होता क्योंकि यह मेरी योजना नहीं थी और अब मैं फिल्म इंडस्ट्री में हूं। मुझे जिस तरह की शुरुआत मिली, वह
श्रीराम के दरबार में रावण का पहरा

श्रीराम के दरबार में रावण का पहरा

Chhattisgarh
सुशील शुक्ला मुंगेली (नव प्रदेश)। भाजपा एवं कांग्रेस के सियासी जंग के कारण उपेक्षित है पर्यटक स्थलकिसी भी प्राचीन मंदिर को देखकर तत्कालीन कला, धर्म, संस्कृति को जाना जा सकता है। प्राचीन कलाकृति हमारें,ऐतिहासिक धरोहर है,हम उन्हे देखकर राजाओं की आस्था, व उनकी रूचि को जान सकते है। छत्तीसगढ़ राज्य के नवनिर्मित जिला मुख्यालय से महज 16 कि.मी. पश्चिम में स्थित सेतगंगा का श्रीराम जानकी मंदिर भी प्राचीन धार्मिक धरोहरों में से एक है। मंदिर के बाह्य दिवारो पर उकेरे गये चित्र और गभर्गृह के सामने विशाल पत्थरों पर नक्काशी इसका बड़ा उदाहरण है। इसे देखकर सामान्य अनुमान लगाया जा सकता है, कि तत्कालीन राजा बहुत ही धार्मिक और कलाप्रेमी रहा होगा। यद्यपि मंदिर में अनेक देवी देवताओं की मुर्ति स्थापित है, किंतू गर्भगृह में विराजित श्रीराम-लक्ष्मण ,व भगवती सीता की आकर्षक मुर्ति ने इन्हे श्रीराम जानकी मंदिर के ना
पुनर्वास देने के बाद भी यहां नहीं छूट रहा अतिक्रमण से पीछा

पुनर्वास देने के बाद भी यहां नहीं छूट रहा अतिक्रमण से पीछा

Chhattisgarh
जांजगीर-चांपा. (नव प्रदेश) नगरपालिका जांजगीर नैला ने अतिक्रमणकारियों को हटाने अभियान की शुरूआत कर दी है। नगर के चौक चौराहों में अतिक्रमण हटाया जाएगा। जिसके तहत जिला अस्पताल से अतिक्रमण हटाने की शुरूआत हो चुकी है। सोमवार को भीमा तालाब के पार में जितने भी स्लम बस्ती है उसे हटाया जाएगा। ताकि भीमा तालाब का सौंदर्यीकरण किया जा सके। गौरतलब है कि भीमा तालाब के पार में अतिक्रमण ने वाले लोगों को नगरपालिका ने पहले से ही पुनर्वास का लाभ देकर शांति नगर में मकान बनाकर दे दिया है। इसके बाद भी दर्जनों लोगों का परिवार यहां निवासरत है। इसके चलते भीमा तालाब का सौंदर्यीकरण प्रभावित हो रहा है। जिसे देखते हुए नगरपालिका भीमा तालाब को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाएगी। सीएमओ दिनेश कोसरिया ने बताया कि दिन पहले भीमा तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए भूमि पूजन कर विकास कार्य की शुरूआत की जा चुकी है।
एसबीआई ब्रांच के एटीएम से मिलने लगे 200 के नोट

एसबीआई ब्रांच के एटीएम से मिलने लगे 200 के नोट

Chhattisgarh
जांजगीर-चांपा. (नव प्रदेश) शहर के लोगों के लिए एक राहत की खबर है। जिला मुख्यालय के एसबीआई मेन ब्रांच के एटीएम से अब 200 रुपए के नोट भी निकलेंगे। बुधवार को एसबीआई मेन ब्रांच के अधिकारियों ने इसकी शुरूआत की। 200 रुपए के नोट एटीएम से मिले, इसके लिए मशीन के कैश कैसेट में थोड़े बदलाव किया गया है। एटीएम में 200 रुपए के नोट मिलने से चिल्हर की समस्या से भी कुछ हद तक राहत मिलेगी। दो-तीन महीने से शहर के एटीएम से केवल 500 और 2000 के नोट ही निकल रहे हैं। एटीएम से 100 के नोट पूरी तरह से गायब हो चुके हैं। ऐसे में छोटे नोटों के लिए लोगों को भारी परेशानी हो रही है। आरबीआई से 100 के नए नोट चेस्ट ब्रांचों में आ ही नहीं रहे हैं। दूसरी जो नोट प्रचलन में है वे अब पुराने हो गए हैं जिसे एटीएम मशीन में डालने से फंस रहे हैं। ऐसे में पुराने नोट बैंकर्स एटीएम में नहीं डाल रहे। केवल 500 और 2000 के नोट मिलने से लोगो
गन्ने की खेत में लगी आग सैकड़ो एकड़ फसल हुई राख

गन्ने की खेत में लगी आग सैकड़ो एकड़ फसल हुई राख

Chhattisgarh
कवर्धा नवप्रदेश जिले के पंडरिया विकासखंड अंतर्गत थाना पांडातराई के कोयलारी, परसवारा और पलानसरी के तीन गांवों में गन्ने के खेत में भीषण आग लग गई है। आग की लपटे इतनी भीषण है कि सैकड़ो एकड़ गन्ना जलकर राख हो गया है। हालांकि मौके पर दमकल की गाडियां पहुंच चुकी थी । लेकि जब तक आग भुझ पाती उससे पहले ही सैकड़ो एकड़ गन्ने की फसल बर्बाद हो चुकी थी । बताया जा रहा है कि आग की लपेट इतनी तेज और अक्रामक रही जिसकी वजह से गन्ने के खेत में आग तेजी से फैलता जा रहा था , जिससे आसपास के गन्ना उत्पादक किसानों में दहशत का माहौल बना हुआ था । गौरतलब है कि पंडरिया क्षेत्र में एक माह के भीतर ये दूसरी घटना है इससे पहले भी इस तरहा की घटना घटित हो चुकी हे । वही इस घटना से किसान को बड़ी आर्थिक क्षति हुई हे ।
जैसे केंद्र के मंत्री मोदी को पूजते हैं, वैसे ही बीसीसीआई कोहली को

जैसे केंद्र के मंत्री मोदी को पूजते हैं, वैसे ही बीसीसीआई कोहली को

Sports
नई दिल्ली। साउथ अफ्रीका में मौजूदा टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद टीम इंडिया की लगातार आलोचना हो रही है. इसी कड़ी में इतिहासकार रामचंद्र गुहा का नाम भी जुड़ गया है. गुहा ने एक ओर जहां बीसीसीआई के अधिकारियों को निशाने पर लिया है, वहीं टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि बोर्ड के अधिकारी विराट कोहली को जितना पूजते हैं, उतना तो केंद्र सरकार में कैबिनेट के सदस्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी नहीं पूजते होंगे। रवि शास्त्री को कमजोर कोच कहा गुहा ने ये सारे आरोप टेलीग्राफ में लिखे अपने कॉलम के जरिए लगाए हैं. गुहा क्रिकेट का कामकाज देखने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर के सदस्य भी रह चुके हैं. उन्होंने बीसीसीआई की बड़ी गड़बडिय़ों का जिक्र करते हुए अपना पद चार महीने में ही छोड़ दिया था. गुहा लिखते हैं, रवि शास्त्री जैसे कमजोर कोच की कमियां घ
कलेक्ट्रेट के शासकीय जमीन पर रुका निजी निर्माण

कलेक्ट्रेट के शासकीय जमीन पर रुका निजी निर्माण

Chhattisgarh
बेमेतरा. (नव प्रदेश) कलेक्टर को गुमराह कर आनन-फानन में नए संयुक्त कलेक्ट्रेट भवन के भीतर शासकीय जमीन पर निजी राशि से कैंटीन निर्माण कराने की अनुमति जारी करने वाले सीईओ जिला पंचायत की भूमिका मीडिया में खबर आने के बाद फिलहाल निर्माण कार्य बंद हो गया हैं प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला पंचायत सीईओ के द्वारा अपने कुछ करीबी अशासकीय सदस्यों को उपकृत करने के उद्देश्य से कलेक्टर को गुमराह करते हुए जिला पंचायत के अधीन तीन अलग-अलग जनपद कार्यालय एवं नवीन संयुक्त कलेक्ट्रेट भवन में महिला स्व सहायता समूह को निजी व्यय पर कैंटीन का संचालन करने के लिए भवन निर्माण कर केंटीन संचालन करने की अनुमति जारी कर दिए जाने के मामले में जिला प्रशासन के हाथ पैर फूलने लगा हैं बताया जाता हैं कि इस घटना से पूरी तरह बेखबर जिला प्रशासन सकते में हैं कलेक्टर के अधिकार छेत्र में सीईओ जिला पंचायत द्वारा अनुमोदन प्राप्त कर कलेक्
लावारिस और बीमार पशुओं के लिए बनेगी स्थायी जगह

लावारिस और बीमार पशुओं के लिए बनेगी स्थायी जगह

Chhattisgarh
बिलासपुर, (नव प्रदेश)। गौशाला में हो रही गायों की मौत के बाद राज्य शासन ने आवारा व बीमार मवेशियों के लिए एक स्थायी जगह बनाने का निर्णय लिया है। इस संबंध में कलेक्टर को पत्र लिखकर 25 एकड़ सरकारी जमीन तलाशने के निर्देश भी दिए हैं। गायों को रखने की इन जगह को काऊ होल्डिंग का नाम दिया गया है। शासन से पत्र मिलने के बाद पशु चिकित्सा विभाग द्वारा जमीन की तलाश शुरु कर दी गई है। जैसे ही गायों के स्थायी ठिकाने का काम शुरु होगा इससे आवारा मवेशियों की मौत और उनके साथ होने वाले हादसों में कमी देखने को मिलेगी। मिली जानकारी के अनुसार शासन के सख्ती के बाद पशु चिकित्सक विभाग भी जमीन ढूंढने में तत्परता दिखा रहा है। शासन ने स्पष्ट रुप से आदेश दिया है प्रत्येक जिले में एक काऊ होल्डिंग आवश्यक है, जिसमें जिलेभर के आवारा और बीमार मवेशियों को सुरक्षापूर्वक रखा जाएगा। मवेशियों के सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए काऊ